शिवराज ने जैसे ही ललकारा- सुन लो कमलनाथ सरकार... आ गया मंत्रालय से बुलावा

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जैसे ही आदिवासियों के कार्यक्रम से रवाना हुए, फौरन उनके बेटे कार्तिकेय ने आंदोलन का मोर्चा संभाल लिया.

Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 18, 2019, 5:44 PM IST
शिवराज ने जैसे ही ललकारा- सुन लो कमलनाथ सरकार... आ गया मंत्रालय से बुलावा
आदिवासियों के प्रदर्शन में शामिल हुए शिवराज
Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 18, 2019, 5:44 PM IST
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को भोपाल में कमलनाथ सरकार पर ज़ोरदार तरीके से गरजे. मौका था आदिवासियों की समस्याओं को लेकर धरना-प्रदर्शन का. शिवराज, गरज ही रहे थे कि सीएम कमलनाथ ने उन्हें बातचीत के लिए बुलावा भेज दिया. शिवराज ने भी देर नहीं की, कार्यक्रम बीच में छोड़कर मुख्यमंत्री से मिलने मंत्रालय रवाना हो गए.

आदिवासियों की समस्याओं से सरकार को वाक़िफ कराने के लिए मंगलवार को भोपाल में धरना-प्रदर्शन हुआ. इसके अगुआ पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान थे. शिवराज रवाना हो ही रहे थे कि उनके मार्च को पुलिस ने बीच रास्ते में रोक दिया. बस फिर क्या था, वो गुस्से में भर गए. उन्होंने अपनी बात की शुरुआत ही कुछ इस तरह से की, कि सरकार ने अगर आदिवासियों की जमीन को हाथ लगाया तो हम छोड़ेंगे नहीं. लोग कह रहे हैं कि मामा तो गियो, अरे मामा कहीं नहीं जाएगा.

शिवराज की ललकार

शिवराज सिंह बोले- ए अफ़सरों, तुम वल्लभ भवन के गलियारों में लोगों को लूट रहे हो. नोटों के बोरे भर रहे हो. वल्लभ भवन में धंधा चल रहा है. कमलनाथ तुम संभल जाओ- मैं छोडूंगा नहीं. ये जुर्म की पराकाष्ठा है. शिवराज इतने पर ही नहीं रूके. उन्होंने आगे कहा, सुन लो कमलनाथ सरकार, ये कैसी सरकार है. ये कैसा प्रशासन है. अगर हम आदिवासियों के हित में तीर कमान हाथ में उठाएंगे तो ज़िम्मेदारी तुम्हारी होगी. जीना है अपने हक़ में लड़ना सीखो. इनकी लड़ाई में लड़ूंगा.

'गाड़ियों में जाओगे तो खटिया पर लेट कर आओगे'

शिवराज ने कहा जब तक हमारी मांग पूरी नहीं होगी, हम यहीं डटे रहेंगे. उन्होंने अधिकारियों को सीधे धमकी दी कि अगर काम नहीं किया तो आदिवासी सीधे कार्रवाई करेंगे. गाड़ियों में जाओगे तो खटिया पर लेट कर आओगे.

...और बुलावा आ गया
Loading...

कमलनाथ सरकार पर शिवराज अपना गुस्सा निकाल ही रहे थे तभी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सिंह को बातचीत के लिए बुलावा भेजा. शिवराज भी मौका गंवाए बिना सीएम से मिलने मंत्रालय रवाना हो गए.

बेटे ने संभाला मोर्चा

शिवराज जैसे ही कार्यक्रम से रवाना हुए, फौरन उनके बेटे कार्तिकेय ने आंदोलन का मोर्चा संभाल लिया. आदिवासियों को संबोधित करते हुए कार्तिकेय बोले, आपके अधिकार के लिए मैं भगवान से भी लड़ लूंगा.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


First published: June 18, 2019, 3:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...