उपचुनाव वाले दमोह को छोड़कर बाकी शहरों में 60 घंटे का lockdown, कांग्रेस ने कहा-कोरोना बीजेपी का नौकर

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने बीजेपी की नीयत पर सवाल उठाए

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने बीजेपी की नीयत पर सवाल उठाए

Bhopal. पीसी शर्मा ने कहा उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखा था कि दमोह में बाहरी नेताओं की एंट्री पर रोक लगाई जाए. लेकिन इस पर अब तक कोई फैसला नहीं हुआ.

  • Share this:
भोपाल. पूरे एमपी (MP) में आज शाम 6 बजे से शहरों में कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) शुरू हो जाएगा. 60 घंटे के इस कर्फ्यू यानि लॉकडाउन (Lockdown) से दमोह को मुक्त रखा गया है, जहां 17 अप्रैल को उपचुनाव है. कांग्रेस इस पर गुस्से में आ गयी है. पार्टी ने व्यंग्य किया कि सरकार लॉकडाउन लागू करने में भी ऐसा रवैया अपना रही है जैसे कोरोना उसका नौकर हो. जहां मन आया लगा दिया जहां मन आया उठा लिया.

बेकाबू हो चुके कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए राज्य सरकार ने शुक्रवार शाम से सोमवार सुबह तक पूरे प्रदेश में संपूर्ण लॉक डाउन की घोषणा कर दी है. लेकिन उपचुनाव वाले दमोह का फैसला चुनाव आयोग पर छोड़ दिया है.

नीयत पर सवाल

कांग्रेस ने दमोह को लॉक डाउन से बाहर रखने पर सवाल खड़े किए हैं. पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह ने कोरोना वायरस को बीजेपी का नौकर बताया है. उन्होंने कहा पूरे प्रदेश में 2 दिन का लॉक डाउन और दमोह को छोड़ना बीजेपी की नीयत पर सवाल खड़े करता है. कोरोना वायरस लगता है बीजेपी का नौकर है. जब जरूरत होती है तब उसे संक्रमण दिखने लगता है और जहां चुनाव होता है वहां कोरोना नहीं पहुंचता है. दमोह में उपचुनाव में तो बीजेपी के इशारे पर कोरोना ने मानों वहां जाने से मना कर दिया है. कोरोना वायरस के नाम पर जनता को डराने का आरोप डॉक्टर गोविंद सिंह ने बीजेपी सरकार पर लगाया है. डॉक्टर सिंह ने कहा संक्रमण के नाम पर सरकार बजट में हेराफेरी करने की कोशिश में है.
चुनाव आयोग ने नहीं लिया फैसला

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने भी दमोह छोड़कर पूरे प्रदेश में 2 दिन के लॉक डाउन के फैसले पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा दमोह में भी कोरोना संक्रमण सबसे ज्यादा है. लेकिन वहां पर लॉकडाउन को लेकर कोई फैसला नहीं होना बीजेपी की नीयत पर सवाल खड़े करता है. पीसी शर्मा ने कहा उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखा था कि दमोह में बाहरी नेताओं की एंट्री पर रोक लगाई जाए. लेकिन इस पर अब तक कोई फैसला नहीं हुआ. अस्पतालों में बेड्स की कमी है और दवाओं की किल्लत से लोग परेशान हैं.





बाहरी नेताओं की एंट्री पर बैन की मांग

बीजेपी के बड़े नेता दमोह उपचुनाव पर फोकस कर रहे हैं. केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रह्लाद पटेल से लेकर सीएम शिवराज और पार्टी के बड़े नेता दमोह में प्रचार कर रहे हैं. चुनाव प्रचार के मामले में कांग्रेस के मुकाबले बीजेपी के नेता पूरा दमखम लगा रहे हैं. कांग्रेस इसी बात पर आपत्ति जता रही है कि दमोह चुनाव में कोरोना संक्रमण को देखते हुए बाहरी नेताओं की एंट्री पर रोक लगाई जाए. उल्टा सरकार ने दमोह को लॉकडाउन से मुक्त कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज