कर्ज़ तो माफ़ हो गया लेकिन किसान फिर भी परेशान हैं, ये हैं वजह

जबलपुर की शहपुरा तहसील में धान खरीद नहीं होने से किसान परेशान हैं. किसानों की शिकायत है कि प्रशासन ने धान ख़रीद बंद कर दी है, इसलिए उन्हें अपनी फसल लेकर दूर जाना पड़ रहा है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: December 20, 2018, 8:43 PM IST
कर्ज़ तो माफ़ हो गया लेकिन किसान फिर भी परेशान हैं, ये हैं वजह
किसानों ने किया चक्का जाम
News18 Madhya Pradesh
Updated: December 20, 2018, 8:43 PM IST
नई सरकार ने किसानों का कर्ज़ तो माफ़ कर दिया लेकिन किसान फिर भी परेशान है. कहीं उन्हें खाद नहीं मिल रही तो कहीं फसल का बेहद कम दाम मिल रहा है. कहीं खरीद केन्द्र ही बंद पड़े हैं.

रायसेन में किसानों ने खाद ना मिलने के विरोध में सागर-भोपाल मार्ग पर चक्का जाम कर दिया. करीब एक घंटे तक सागर-भोपाल मार्ग बंद रहा. इससे दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतार लगी रही. किसानों ने आरोप लगाया कि खाद की कालाबाज़ारी की जा रही है. न एसडीएम संजय उपाध्याय और न थाना प्रभारी आशीष कुमार धुर्वे ने चक्का जाम ख़त्म कराया.



इससे पहले बुधवार को श्योपुर में किसानो ने खाद वितरण केंद्र पर हंगामा कर दिया था. किसानों की शिकायत है कि वे सुबह से देर शाम तक लाइन में खड़े रहते हैं लेकिन खाद नहीं मिल रही. यहां किसान 5 दिन से खाद के लिए परेशान हैं.

दो दिन पहले जबलपुर के NH12 पर किसानों ने जाम लगा दिया था. ये मटर की खेती करने वाले किसान थे. इनकी शिकायत थी कि मंडी में मटर बहुत कम दाम पर ख़रीदा जा रहा है. सुबह 20 रुपए प्रति किलो तक बिकने वाले मटर की कीमत शाम तक व्यापारी 4 रुपए पर पहुंचा देते हैं. रोज इस तरह की मनमानी से किसान परेशान हो गए हैं.

जबलपुर की शहपुरा तहसील में धान खरीद न होने से किसान परेशान हैं. किसानों की शिकायत है कि प्रशासन ने धान ख़रीद बंद कर दी है, इसलिए उन्हें अपनी फसल लेकर दूर जाना पड़ रहा है. दरअसल जिला प्रशासन ने डिफाल्टर केंद्र बंद कर दिए हैं. पिछले 4 साल में सहकारी समितियों के ऊपर करोड़ों रुपए बकाया हो गया है और समितियों को भारी नुकसान उठाना पड़ा. इस वजह से कलेक्टर ने डिफॉल्टर केंद्र बंद कर दिए थे.
LIVE


Loading...



Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार