अपना शहर चुनें

States

जीएसटी से दहशत में किसान! समय से पहले कर रहे हैं बुवाई

GST One nation one tax
GST One nation one tax

किसान नयी कर व्यवस्था से सहमा हुआ है. जीएसटी लागू होने के बाद किसान की जेब पर बोझ बढ़ने को वजह बताया जा रहा है.

  • Share this:
केन्द्र सरकार 30 जून की रात संसद के सेन्ट्रल हॉल में जीएसटी लागू होने का जश्न मनाने की जोर-शोर से तैयारी कर रही है. वहीं देश की आबादी का तीन चौथाई की संख्या वाला किसान नयी कर व्यवस्था से सहमा हुआ है.  जीएसटी लागू होने के बाद किसान की जेब पर बोझ बढ़ने को वजह बताया जा रहा है.

बताया जा रहा है कि जीएसटी से खाद, यूरिया, डाई, जिंक और कीटनाशक के दाम बढ़ जाएंगे. इससे प्रति एकड़ खेती करने की लागत लगभग 360 रुपये तक बढ़ जाएगा. डर की वजह से किसान एक जुलाई के पहले ही बोवनी का काम पूरा कर लेना चाहते है

रियलिटी चैक



भोपाल शहर से 15 किलोमीटर दूर रातीबड़ क्षेत्र में रहने वाले मोहन सिंह मीणा और उनका परिवार खेती से गुजारा करता है. मोहन ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है. बावजूद इसके इस बार मोहन ने 30 जून की आधी रात आने और एक जुलाई की तारीख शुरु होने से कई दिन पहले ही सोयाबीन, दलहन और दूसरे अनाज की बुवाई पूरी कर ली है. मोहन को पता चला है कि 1 जुलाई से नया टैक्स लगने वाला है जिस से खेती-किसानी के लिए जरुरी चीजों के दाम भी बढ़ जाएंगे.
मोहन मारण की तरह ही भुवनेश्वर सिंह के परिवार की आजीविका का स्रोत खेती ही है. भुवनेश्वर के परिवार में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक एक दर्जन लोग हैं. पांच एकड़ खेत के मालिक भुवनेश्वर भी अब की बार जल्दबाजी में अनाज की बुवाई पूरी कर ली है. पढ़े-लिखे युवा भुवनेश्वर सिंह का कहना है कि जीएसटी लागू होने के बाद खाद, यूरिया,डीएपी, डाई और कीटनाशक महंगे हो जाएंगे.

सरकार एक जुलाई से देश भर में जीएसटी लागू करने की जोर-शोर से तैयारी कर रही है, लेकिन किसान इसकी नई दरों से निराश हैं.

बताया जा रहा है कि जीएसटी के बाद एक एकड़ में खेती करने की लागत लगभग 360 रुपये तक बढ़ जाएगी. खाद पर 12% टैक्स, कीटनाशकों पर 18% और ट्रैक्टर पर 12% कर देना पड़ेगा. ट्रैक्टर के स्पेयर पार्ट्स पर 28% टैक्स लगेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज