होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Bhopal News: शिवराज सरकार में किसान परेशान, धरना-प्रदर्शन को मजबूर: जीतू पटवारी

Bhopal News: शिवराज सरकार में किसान परेशान, धरना-प्रदर्शन को मजबूर: जीतू पटवारी

जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार पर बड़ा आरोप लगाया.

जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार पर बड़ा आरोप लगाया.

MP Politics: पूर्व मंत्री जीतू पटवारी (Jitu Patwari) का कहना है कि शिवराज सरकार में बिजली के दाम डेढ़ गुना बढ़ गए हैं. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    भोपाल.  मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी (Jitu Patwari) ने शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला. जीतू पटवारी ने कहा, ‘शिवराज सिंह चौहान सरकार मध्य प्रदेश की अब तक की सबसे ज्यादा किसान विरोधी सरकार है. मुख्यमंत्री आज किसानों को बीज बांटने का नाटक कर रहे हैं. जब किसानों को बीज की सबसे ज्यादा जरूरत थी तब सोयाबीन का बीज बाजार से गायब था. किसानों को 9000 रुपए से लेकर 12000 रुपए तक के दाम में बीज खरीदने को मजबूर होना पड़ा था. निमाड़ के इलाके में सूखा पड़ा हुआ है और शिवराज सिंह चौहान सरकार ने आज तक वहां के किसानों की सुध नहीं ली. इंदौर और आसपास के इलाके में आलू का किसान बुरी तरह परेशान हैं मूंग के किसान की दुर्दशा आप सब को पहले से ही पता है.’

    पत्रकारों को संबोधित करते हुए जीतू पटवारी ने कहा कि मोदी सरकार ने 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का वादा किया था, लेकिन किसानों की आमदनी तो दोगुनी नहीं हुई, लागत जरूर दोगुनी हो गई है. मध्य प्रदेश में बिजली के दाम डेढ़ गुना हो गए हैं, जबकि कमलनाथ सरकार में बिजली के बिल आधे हो गए थे. प्रदेश में डीजल के दाम भी दोगने स्तर पर पहुंच गए हैं. खाद और बीज की कीमत भी दोगनी हो गई हैं.

    जीतू पटवारी ने लगाया बड़ा आरोप

    जीतू पटवारी ने कहा कि ओला-पाला का नुकसान किसानों को नहीं मिला. यहां तक कि अतिवृष्टि के कारण ग्वालियर चंबल संभाग में किसानों की खड़ी फसलें बह गई. उनका संतोषजनक सर्वेक्षण भी अभी तक चालू नहीं हुआ है, मुआवजे की बात तो बहुत दूर की है. खरीफ के 2019 के बाद बीमा के मुआवजा और बीमा राशि के दावे का सेटलमेंट नहीं हुआ है. 3 लाख 17 हजार किसानों के दावे का भुगतान नहीं हुआ है. सरसों की जो एक बड़ी पैदावार ग्वालियर चंबल संभाग की है, उसकी खरीदी नहीं हुई है.
    उन्होंने कहा कि बिजली के लाखों रुपए के बिल किसानों को थमाई जा रहे हैं. उनकी संपत्तियां कुर्क की जा रही हैं. मोटर साइकिल और ट्रैक्टर खींचे जा रहे हैं. हालात इतने खराब हैं कि भोपाल के ही ग्राम खजूरी अमरावद खुर्द के 500 किसानों को बिजली विभाग का घेराव करना पड़ा है. एक किसान वीर सिंह राजपूत के पिता की मृत्यु एक साल पहले हो गई. उनके नाम का मीटर सरेंडर हो चुका था, लेकिन ऐसे मृतकों को भी 16 हजार के बिल थमाया जा रहे हैं और वसूली के लिए उन पर ज्यादती की जा रही है.

    Tags: Jitu Patwari

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें