Home /News /madhya-pradesh /

कृषि कानून वापसी : सरकार की विफलता का ठीकरा उमा भारती ने बीजेपी पर ही फोड़ा 

कृषि कानून वापसी : सरकार की विफलता का ठीकरा उमा भारती ने बीजेपी पर ही फोड़ा 

Bhopal. पूर्व सीएम उमा भारती इन दिनों केदारनाथ और हरिद्वार के दौरे पर हैं. कृषि कानून वापसी के ऐलान पर उन्होंने अब अपनी प्रतिक्रिया दी है.

Bhopal. पूर्व सीएम उमा भारती इन दिनों केदारनाथ और हरिद्वार के दौरे पर हैं. कृषि कानून वापसी के ऐलान पर उन्होंने अब अपनी प्रतिक्रिया दी है.

Farms laws repeal - तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के ऐलान पर उमा भारती (Uma Bharti) ने ट्वीट किया - प्रधानमंत्रीजी ने कानून वापसी का ऐलान करते समय जो कहा वह मेरे जैसे लोगों को बहुत व्यथित कर गया. अगर कृषि क़ानूनों की महत्ता प्रधानमंत्री जी किसानों को नहीं समझा पाए तो उसमें हम सब भाजपा के कार्यकर्ताओं की कमी है. हम क्यूं नहीं किसानों से ठीक से सम्पर्क एवं संवाद कर सके..

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. तीनों कृषि कानून (Agricultural Law) वापस लिए जाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  के ऐलान पर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती(Uma Bharti) ने अपनी चुप्पी तोड़ी है. खास बात यह है कि उमा भारती ने कानून वापस लिए जाने का ठीकरा बीजेपी के कार्यकर्ताओं पर ही फोड़ दिया है. उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर अपने मन की बात कही.

एमपी की पूर्व सीएम उमा भारती ने लिखा मैं पिछले 4 दिन से वाराणसी में गंगा किनारे हूं. दिनांक 19 नवम्बर 2021 को हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जब तीनों कृषि क़ानूनों की वापसी की घोषणा की तो मैं अवाक रह गई. इसलिए 3 दिन बाद प्रतिक्रिया दे रही हूं.

ये हमारी कमी है
उमा ने लिखा – प्रधानमंत्री जी ने कानून के वापसी का ऐलान करते समय जो कहा वह मेरे जैसे लोगों को बहुत व्यथित कर गया. अगर कृषि क़ानूनों की महत्ता प्रधानमंत्री जी किसानों को नहीं समझा पाए तो उसमें हम सब भाजपा के कार्यकर्ताओं की कमी है. हम क्यूं नहीं किसानों से ठीक से सम्पर्क एवं संवाद कर सके. मोदी जी बहुत गहरी सोच एवं समस्या के जड़ को समझने वाले प्रधानमंत्री हैं. जो समस्या की जड़ समझता है वह समाधान भी पूर्णतः से करता है.

ये भी पढ़ें- Ramayan Circuit Train: वेटर्स की भगवा ड्रेस पर विवाद, संतों ने दी ट्रेन रोकने की धमकी, IRCTC ने उठाया ये कदम

परेशान हैं उमा
उमा भारती ने आगे लिखा – भारत की जनता और मोदी जी का आपस का समन्वय, विश्व के राजनीतिक, लोकतांत्रिक इतिहास में अभूतपूर्व है. कृषि क़ानूनों के सम्बन्ध में विपक्ष के निरन्तर दुष्प्रचार का सामना हम नहीं कर सके. इसी कारण उस दिन प्रधानमंत्री जी के सम्बोधन से मैं बहुत व्यथित हो रही थी. मेरे नेता माननीय मोदी जी ने तो क़ानूनों को वापस लेते हुए भी अपनी महानता स्थापित की. हमारे देश का ऐसा अनोखा नेता युग युग जीये सफल रहे. यही मैं बाबा विश्वनाथ एवं मां गंगा से प्रार्थना करती हूं.

क्या है मामला ?
किसानों के लगातार आंदोलन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में प्रकाश पर्व के दिन देश के नाम संबोधन दिया था. उस संबोधन में उन्होंने यह बात कही थी कि कृषि कानून किसानों की बेहतरी के लिए लाए गए थे. लेकिन हम कुछ किसानों को समझा नहीं सके. इसके साथ ही उन्होंने तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने का भी ऐलान कर दिया था. उमा भारती ने इसी पर अपनी बात रखी है.

Tags: Agricultural law canceled, Madhya pradesh latest news, PM Modi, Uma bharti

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर