• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • भोपाल स्मार्ट सिटी घोटालाः EOW की जांच ने पकड़ी रफ्तार, करोड़ों की जमीन नीलामी में नोटिस जारी

भोपाल स्मार्ट सिटी घोटालाः EOW की जांच ने पकड़ी रफ्तार, करोड़ों की जमीन नीलामी में नोटिस जारी

इस जमीन नीलामी केस में अब ईओडब्ल्यू संबंधितों के बयान दर्ज कर रही है. इसके लिए ईओडब्ल्यू ने नोटिस जारी कर जानकारी जुटाना शुरू कर दिया है.

इस जमीन नीलामी केस में अब ईओडब्ल्यू संबंधितों के बयान दर्ज कर रही है. इसके लिए ईओडब्ल्यू ने नोटिस जारी कर जानकारी जुटाना शुरू कर दिया है.

Smart City Scam In Bhopal: भोपाल के टीटी नगर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 100 एकड़ जमीन बेची जा रही है. इस करोड़ों की राशि को स्मार्ट सिटी के 23 प्रोजेक्ट में लगाया जाएगा. जमीन नीलामी के आवंटन में गड़बड़ी का आरोप लगा है. स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ को नोटिस जारी किया.

  • Share this:

भोपाल. भोपाल स्मार्ट सिटी (Bhopal Smart City) में जमीन नीलामी में भारी गड़बड़ी और घोटाले (Scam) के मामले में ईओडब्ल्यू ने जांच तेज कर दी है. आवंटन और नीलामी प्रक्रिया जानने के लिए कंपनी के सीईओ को नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया गया है. ईओडब्ल्यू ने जमीन आवंटन (Land Allotment) में गड़बड़ी की शिकायत मिलने के बाद जांच को आगे बढ़ाते हुए स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ आदित्य सिंह को नोटिस जारी किया. उनसे तमाम बिंदुओं पर जवाब तलब किया गया है. ईओडब्ल्यू ने आदित्य सिंह से जमीन आवंटन की सभी प्रक्रिया की जानकारी मांगी है.

बता दें कि टीटी नगर (TT Nagar) में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 100 एकड़ जमीन बेची जा रही है. इस करोड़ों की राशि को स्मार्ट सिटी के 23 प्रोजेक्ट में लगाया जाएगा. जमीन नीलामी के आवंटन में घोटाले और अनियमितता का आरोप लगा है.

ये है पूरा मामला
हाल ही में भोपाल में स्मार्ट सिटी लिमिटेड कंपनी ने करोड़ों की जमीन नीलाम की है. ईओडब्ल्यू को मिली शिकायत में नीलामी की शर्तों में हेराफेरी कर कई नामी बिल्डर को फायदा पहुंचाने का आरोप है. जांच के घेरे में 2 आईएएस अफसर भी आ गए हैं. यह शिकायत उन बिल्डरों की ओर से की गई है, जिन्हें शर्तें पूरी करने के बाद भी स्मार्ट सिटी में जमीन नहीं मिली. टीटी नगर इलाके में करीब सौ एकड़ जमीन को बेचा जाना है. इसकी अनुमानित कीमत करीब पंद्रह सौ करोड़ रुपये है. इसमें से कुछ जमीन की नीलामी भोपाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड कंपनी ने पिछले दिनों कर दी है.

क्या है आरोप
आरोप है कि नीलामी के पहले जमीन पर निर्माण की शर्तें कुछ और थी, लेकिन नीलामी के बाद जमीन आवंटित होते ही शर्तों को बदल दिया गया. यह आरोप भी है कि अधिकारियों ने बिल्डर्स से सांठ-गांठ कर जमीन हासिल कर ली है, जबकि अन्य बिल्डर्स ने सभी शर्तों को पूरा किया था.

कान्ट्रेक्ट वेल्यू किसी भी स्थिति में नहीं बढ़ाने की शर्त थी
जमीन नीलामी से पहले भी स्मार्ट सिटी पर कई गंभीर आरोप लग चुके हैं. स्मार्ट सिटी के लिए डाटा सेंटर और डिजास्टर रिकवरी सेंटर बनाने के लिए टेंडर जारी किया गया था, जिसमें ऐसी कंपनी को टेंडर दिया था, जिसे इस काम का कोई अनुभव ही नहीं था. इस मामले में एक आईएएस अफसर और बेटे पर आरोप लगे थे. स्मार्ट सिटी के नाम पर भोपाल के पॉलीटेक्निक चौराहे से भारत माता चौराहे तक स्मार्ट रोड का टेंडर 31 करोड़ रुपए में हुआ था. 27 करोड़ का वर्क ऑर्डर जारी किया गया था. स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन ने ठेकेदार को 32 करोड़ का भुगतान कर दिया, जबकि एग्रीमेंट में कान्ट्रेक्ट वेल्यू किसी भी स्थिति में नहीं बढ़ाने की शर्त थी.

नोटिस देकर दर्ज किए जा रहे बयान
इस जमीन नीलामी केस में अब ईओडब्ल्यू संबंधितों के बयान दर्ज कर रही है. इसके लिए ईओडब्ल्यू ने नोटिस जारी कर जानकारी जुटाना शुरू कर दिया है. अभी एफआईआर दर्ज नहीं की गई है. जांच और तथ्यों के आधार पर ईओडब्ल्यू अपनी आगे की कार्रवाई कर रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज