Home /News /madhya-pradesh /

MP: शिवराज सरकार के दौरान हुए ई-टेंडरिंग घोटाले में 5 अफसरों के खिलाफ FIR

MP: शिवराज सरकार के दौरान हुए ई-टेंडरिंग घोटाले में 5 अफसरों के खिलाफ FIR

फाइल फोटो

फाइल फोटो

आयकर छापे के बाद प्रदेश की कांग्रेस सरकार और बीजेपी के बीच तनाव बढ़ गया है. कमलनाथ सरकार ई-टेंडरिंग घोटालों की जांच रिपोर्ट का इंतज़ार कर रही थी.

    मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार के दौरान हुए ई-टेंडरिंग घोटाले में 5 विभागों के अधिकारियों और तत्कालीन ज़िम्मेदार नेताओं के खिलाफ भोपाल में एफआईआर दर्ज कराई गई है. जल निगम, लोकनिर्माण विभाग, पीआईयू, रोड डेवलेपमेंट और जल संसाधन विभाग पर टेंडर में गड़बड़ी के आरोप लगे हैं. इन मामलों में 7 कंपनियों पर फर्जीवाड़ा कर टेंडर लेने का आरोप है.

    दर्ज एफआईआर में लिख गया है, "अज्ञात नौकरशाहों और राजनेताओं के खिलाफ आरोप हैं." बुधवार (10 अप्रैल) को हुई इस कार्रवाई को हाल ही में सीएम कमलनाथ के करीबियों पर पड़े आयकर छापों का एमपी सरकार की तरफ से जवाब माना जा रहा है.

    ये भी पढ़ें - नरसिंहपुर के बीजेपी विधायक जालम सिंह पटेल को जेल, ये है पूरा मामला

    आयकर छापे के बाद कमलनाथ सरकार भाजपा के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की तैयारी में थी. राज्‍य सरकार बीजेपी सरकार के समय हुए घोटालों की फाइल खोल रही थी. आय़कर छापे के बाद शिवराज सरकार के समय हुए कथित घोटालों से जुड़े दस्तावेज खंगाले जा रहे थे. ईओडब्ल्यू ई-टेंडरिंग, एमसीयू, फर्जी वेबसाइट्स, सांसद निधि के उपयोग में अनियमितता से जुड़े मामलों की जांच चल रही है. जनजातीय कार्य विभाग, वन्या प्रकाशन सहित अन्य योजनाओं में कथित तौर पर हुई अनियमितताओं से जुड़े दस्तावेजों को भी खंगाला जा रहा है.

    ये भी पढ़ें -कांग्रेस ने पीएम नरेन्द्र मोदी के लिए स्पीड पोस्ट से भिजवायी होम्योपैथी की एक दवा

    आयकर छापे के बाद प्रदेश में कांग्रेस सरकार और बीजेपी के बीच तनाव बढ़ गया है. ई-टेंडरिंग घोटालों की जांच में रिपोर्ट का इंतज़ार कमलनाथ सरकार कर रही थी. सीईआरटी की जांच रिपोर्ट के आते ही एफआईआर कराने की तैयारी थी.

    बताया जाता है कि ई-टेंडर घोटाला करीब तीन हजार करोड़ का है. पीएचई और पीडब्ल्यूडी में टेंडर हासिल करने में गड़ब़ड़ी सामने आई थी. इस पूरे मामले की जांच भी चल रही है. ई-टेंडरिंग घोटाले के साथ ही व्यापम घोटाला, एमसीयू में गड़ब़ड़ी का मामला और सांसद निधि के उपयोग में गड़बड़ी के मामलों की भी जांच चल रही है. इन मामलों में कार्रवाई को लेकर कांग्रेस अब आक्रामक रुख अपना रही है. ऐसे में लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश में घोटालों और जांच की राजनीति शुरू हो गई है.

    Tags: FIR against Digvijay, Kamal nath, Madhya pradesh news, Shivraj singh chauhan, Vyapam Scam

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर