MP: मरीजों से मनमानी वसूली पर निजी अस्पतालों पर शिकंजा, 24.54 लाख लौटाए, 32 पर FIR

 कोरोना में निजी अस्पतालों की लूट पर लगाम, 24.54 लाख लौटाए, 32 पर एफआईआर दर्ज. Image-shutterstock.com

कोरोना में निजी अस्पतालों की लूट पर लगाम, 24.54 लाख लौटाए, 32 पर एफआईआर दर्ज. Image-shutterstock.com

Bhopal News: मध्य प्रदेश में अब तक मरीजों से अधिक बिल लेने वाले 87 निजी अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. शिकायत मिलने पर मरीजों के अधिक वसूले गए बिल भी वापस कराए जा रहे हैं. अब तक मरीजों को 24 लाख 54 हजार रुपए वापस दिलाए गए हैं.

  • Share this:

भोपाल. कोरोना आपदा में सरकार की ओर से निजी अस्पतालों की लूट पर लगाम का असर दिखने लगा है. निजी अस्पतालों पर हो रहे एक्शन में अब तक मरीजों से अधिक बिल लेने वाले 87 अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है. इतना ही नहीं शिकायत मिलने पर मरीजों के अधिक वसूले गए बिल भी वापस कराए जा रहे हैं. अब तक प्रदेश में निजी अस्पतालों से मरीजों को 24 लाख 54 हजार रुपए वापस दिलाए गए हैं. जबकि अधिक राशि वसूलने पर अस्पताल संचालकों समेत कुल 32 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. आपको बता दें कि सरकार की ओर से असपतालों की मनमानी पर लगाम लगाने के लिए 3 आईएएस अधिकारियों की एक समिति भी बनाई गई है.

सरकार ने अस्पतालों की बिलिंग की जांच के लिए जो समिति बनाई है उसमें प्रमुख सचिव स्तर के दो अधिकारी और सचिव स्तर के एक अधिकारी को शामिल किया गया है. प्रमुख सचिव संजय दुबे और प्रतीक हजेला को समिति में शामिल किया गया है. इसके अलावा सचिव स्तर के अधिकारी संजय गोयल को भी समिति मेंशामिल किया गया है.

कैसे हो रही जांच ?

दअरसल, कोविड के इलाज के लिए सभी अस्पतालों ने अपने टैरिफ पहले से घोषित किये हैं. ये टैरिफ सार्थक एप पर अपलोड भी हैं जिन्हें सार्वजनिक तौर पर देखा जा सकता है. अगर कोई अस्पताल इस तय टैरिफ से ज्यादा बिलिंग करता है तो उसकी शिकायत इस समिति के समक्ष की जा सकेगी. आपको बता दें कि इससे पहले सरकार कोरोना के इलाज में होने वाले सीटी स्कैन से लेकर ब्लड जांच के रेट भी फिक्स कर चुकी है. इससे पैथ लैब संचालकों की मनमानी पर काफी हद तक रोक लगी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज