Home /News /madhya-pradesh /

विधानसभा उपचुनाव: सांसद कमलनाथ के लिए कितना आसान होगा छिंदवाड़ा से विधायक बनना

विधानसभा उपचुनाव: सांसद कमलनाथ के लिए कितना आसान होगा छिंदवाड़ा से विधायक बनना

File Photo - Kamalnath

File Photo - Kamalnath

छिंदवाड़ा विधानसभा के इतिहास में यह पहली बार होगा कि जनता के सामने विधायक का उम्मीदवार एक मुख्यमंत्री होगा.

    सोमवार को मध्य प्रदेश के लिए पहले चरण का मतदान हो रहा है. इसके साथ ही छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव भी है. यहां से कांग्रेस उम्मीदवार मुख्यमंत्री कमलनाथ मैदान में हैं. वे पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं. उनके सामने बीजेपी के बंटी साहू मैदान में हैं. छिंदवाड़ा विधानसभा के इतिहास में यह पहली बार होगा कि जनता के सामने विधायक का उम्मीदवार एक मुख्यमंत्री होगा.

    यह बात सही है कि छिंदवाड़ा में हमेशा कमलनाथ का ही बोलबाला रहा है, इस बार राजनीतिक सरगर्मियां इसलिए भी तेज हैं क्योंकि कमलनाथ मुख्यमंत्री बने हैं. वे पिछली नौ बार से छिंदवाड़ा से ही सांसद हैं और इसीलिए उन्होंने विधानसभा चुनाव के लिए ही छिंदवाड़ा ही चुना है.

    कमलनाथ के लिए छिंदवाड़ा से विधायक बनना कोई कठिन चुनौती नहीं होगी. उसके बहुत से कारण हैं. पहला और प्रमुख कारण यह होगा कि वे हमेश छिंदवाड़ा के विकास की बात करते हैं. इतना ही नहीं वे देश में ही नहीं पूरे विश्व में छिंदवाड़ा को एक विकास मॉडल के रूप में प्रस्तुत करते हैं.

    मुख्यमंत्री बनने के बाद जब वे पहली बार छिंदवाड़ा पहुंचे तो उन्होंने यही कहा कि मध्य प्रदेश में छिंदवाड़ा की जनता की सरकार है. करीब चार महीने में वे चार बार छिंदवाड़ा जा चुके हैं. और हर बार वो जनता को संबोधित करते हैं और प्रदेश भर में छिंदवाड़ा मॉडल लागू करने की बात करते हैं.

    इस बार विधानसभा चुनाव के बाद छिंदवाड़ा की सातों विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है. जिले में विधानसभा की चार सीटें अमरवाड़ा (एसटी), परासिया (एससी) , जुन्नारदेव (एसटी) और पांढुर्णा (एसटी) आरक्षित वर्ग के लिए हैं. जबकि छिंदवाड़ा, सौंसर और चौरई सामान्य सीट है. इसी छिंदवाड़ा से ही कमलनाथ चुनाव लड़ रहे हैं.

    छिंदवाड़ा के लिए कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद भी कई ऐलान किए हैं. उन्होंने आदिवासियों के लिए नए रास्तों के निर्माण के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा उन्होंने छिंदवाड़ा में मेडिकल कॉलेज के लिए भी कवायद शुरू कर दी है. छिंदवाड़ा की जनता कमलनाथ से लंबे समय से जुड़ी हुई है. और यही कारण है कि उनके बेटे नकुलनाथ इस बार उनकी छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से उम्मीदवार हैं. ऐसे में कमलनाथ के लिए अपने ही गृह जिले में विधानसभा जीतना कोई कठिन चुनौती नहीं होगी.

    यह पढ़ें- मतदान से पहले आचार संहिता उल्लंघन का मामला, वोटर स्लिप पर लगी पीएम मोदी की फोटो

    Tags: Chhindwara S12p16, Kamal nath, Kamalnath, Madhya pradesh news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर