• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • पूर्व सीएम कमलनाथ ने बाढ़ के हालात पर जताई चिंता, बोले-पीड़ितों को मिले हरसंभव मदद

पूर्व सीएम कमलनाथ ने बाढ़ के हालात पर जताई चिंता, बोले-पीड़ितों को मिले हरसंभव मदद

पूर्व सीएम कमलनाथ ने बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा देने की मांग की.

पूर्व सीएम कमलनाथ ने बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा देने की मांग की.

bhopal. 5 अगस्त को कांग्रेस ने बिजली से जुड़े मामलों को लेकर प्रदेश व्यापी आंदोलन की तैयारी कर ली है. जिला ब्लॉक स्तर पर बिजली कंपनी के दफ्तरों पर कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे. हालांकि कांग्रेस पार्टी ने बाढ़ और बारिश से प्रभावित 7 जिलों को आंदोलन से बाहर रखा है.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश (MP) में आयी भीषण बाढ़ (Flood) पर नेता प्रतिपक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamalnath) ने गहरी चिंता जताई है. उन्होंने सरकार से मांग की कि प्रभावित लोगों के लिए राहत और बचाव कार्य युद्ध स्तर पर चलाए जाएं. नागरिकों को सुरक्षित केम्पों में पहुंचाकर सभी आवश्यक प्रबंध किये जाएं.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश के ग्वालियर, चम्बल, बुन्देलखंड, बघेलखंड के कई जिलों के भारी वर्षा और भीषण बाढ़ की चपेट में होने पर चिंता जताई है. कमलनाथ ने  कहा शिवपुरी, श्योपुर जिले की स्थिति अत्यन्त चिन्ताजनक बनी हुई है. साथ ही मुरैना, भिंड, दतिया, गुना ज़िले की स्थिति भी गंभीर बनी हुई है.

कमलनाथ ने ट्वीट किया-इन क्षेत्रों में भारी वर्षा के कारण सैकड़ों गांव का सड़क सम्पर्क टूट गया है. पुल-पुलिया, सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. कई स्थानों पर तो पुल- पुलिया तक बह गये हैं. हजारों नागरिक आज भी बाढ़ के पानी से घिरे हुए हैं. हजारों बस्तियां और गांव अभी भी जलमग्न हैं. बाढ़ के कारण जनजीवन प्रभावित होने के साथ-साथ लोगों के घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गये हैं. दैनिक उपयोग की वस्तुएं और खाद्य सामग्री नष्ट हो गई है. किसानों की फ़सलें बर्बाद हो गयी हैं. बाढ़  से कई लोगों की असमय मृत्यु भी हुई है. हजारों नागरिक अभी भी बाढ़ में घिरे हैं.

जांबाज तैनात
एनडीआरएफ़, एसडीआरएफ, सेना के जवान, बीएसएफ़, होम गार्ड , पुलिस, स्थानीय प्रशासन, स्थानीय नागरिकों के साथ राहत और बचाव कार्यों में सतत लगी हुई है. बाढ़ में घिरे प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने और जनहानि रोकने के लिये युद्ध स्तर पर प्रयास किये जाने की अभी भी बेहद आवश्यकता है.

बाढ़ प्रभावितों की फिक्र
कमलनाथ ने सरकार से मांग की है कि बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में युद्धस्तर पर राहत और बचाव कार्य व्यापक पैमाने पर चलाया जाए. हजारों प्रभावित नागरिकों को सुरक्षित केम्पों में तत्काल पहुंचाने के सभी आवश्यक प्रबंध किये जाएं. दैनिक उपयोग की वस्तुओं की पर्याप्त व्यवस्था कैम्प स्थलों पर की जाएं. पीड़ित परिवारों को स्वच्छ पेयजल, भोजन सामग्री, कपड़े आदि उपलब्ध कराये जाएं. क्षतिग्रस्त मकानों के निर्माण के लिये तात्कालिक रूप से आवश्यक साधन और सामग्री उपलब्ध कराई जाएं. बीमारियों की आशंका को देखते हुए डॉक्टरों के दल के साथ आवश्यक दवा सामग्री भी प्रभावित क्षेत्रों में उपलब्ध कराई जाए. राहत एवं बचाव कार्य के लिये तत्काल सर्वेक्षण कर राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत सहायता व मुआवज़ा राशि अविलंब वितरित की जाए ताकि पीड़ितों को तत्कालीन राहत मिल सके. आपदा की इस घड़ी में कांग्रेस पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी है. कमलनाथ ने लिखा मैं प्रभावित क्षेत्रों के जनप्रतिनिधियों से सतत सम्पर्क में हूं. मैंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रभावित क्षेत्र में जाकर पीड़ित परिवारों को सहायता और हरसंभव मदद उपलब्ध कराने की अपील भी की है.

महंगी बिजली के विरोध में कांग्रेस का गुरुवार को प्रदेश व्यापी प्रदर्शन
5 अगस्त को कांग्रेस ने बिजली से जुड़े मामलों को लेकर प्रदेश व्यापी आंदोलन की तैयारी कर ली है. जिला ब्लॉक स्तर पर बिजली कंपनी के दफ्तरों पर कार्यकर्ता प्रदर्शन करेंगे. हालांकि कांग्रेस पार्टी ने बाढ़ और बारिश से प्रभावित 7 जिलों को आंदोलन से बाहर रखा है. पीसीसी ने 7 जिलों को निर्देश दिए हैं कि वह अभी प्रदर्शन में शामिल न हों बल्कि बाढ़ से हालात सुधरने के बाद विरोध प्रदर्शन करें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज