पहली से 8वीं तक के स्टूडेंट्स की मार्कशीट और TC में इस बार लगेगा ये ख़ास 'ठप्पा'

कोरोना वायरस के चलते देशभर के स्कूल 16 मार्च से बंद हैं.
कोरोना वायरस के चलते देशभर के स्कूल 16 मार्च से बंद हैं.

राज्य शिक्षा केंद्र ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि पांचवी (Fifth) और आठवीं (8th) के छात्र छात्राओं (students) के रिजल्ट (result) में वार्षिक मूल्यांकन का कॉलम खाली छोड़ा जाएगा.

  • Share this:
भोपाल. देशव्यापी लॉकडाउन के चलते मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में बिना परीक्षा दिए स्टूडेंट्स को अगली क्लास में प्रमोट आकर दिया गया. जिसके बाद अब स्टूडेंट्स को मिलने वाली मार्कशीट इस बार हमेशा से कुछ अलग नज़र आने वाली है. दरअसल अगली क्लास में प्रमोट कर दिए गये छात्र-छात्राओं (Students) की मार्कशीट (Marksheet) पर रिजल्ट स्टेट्स पर जनरल प्रमोशन (General Promotion) लिखा जाएगा. स्टूडेंट्स की मार्कशीट पर एक सील-ठप्पा लगाया जाएगा जिस पर लिखा होगा-"कोरोना वायरस में बचाव के कारण प्रोन्नत". ये सील लगाने का आदेश राज्य शिक्षा केंद्र ने दिया है. जनरल प्रमोशन का ये ठप्पा ठीक उस जगह लगाया जाएगा जहां परसेंटेज लिखा जाता है.

लॉक डाउन के कारण मध्य प्रदेश में पहली से आठवीं कक्षा तक के छात्र-छात्राओं को जनरल प्रमोशन दिया गया है.जनरल प्रमोशन देने के साथ ही राज्य शिक्षा केंद्र ने अब एक नया आदेश जारी किया है.उसमें कहा गया है कि छात्र-छात्राओं की मार्कशीट और टीसी पर जनरल प्रमोशन लिखा जाए. इस आदेश के बाद अब हर मार्कशीट और टीसी पर अलग रंग की स्याही वाले पेन से जनरल प्रमोशन की सील लगाई जाएगी.

"कोरोना वायरस में बचाव के कारण प्रोन्नत"
जनरल प्रमोशन के बाद अब मार्कशीट और टीसी की व्यवस्था में भी राज्य शिक्षा केंद्र ने बदलाव किया है.केंद्र ने अपने आदेश में कहा है कि पहली से आठवीं तक के प्रत्येक छात्र छात्राओं को जनरल प्रमोशन दिया जाए. सभी स्टूडेंट की मार्कशीट और टीसी पर "कोरोना संक्रमण बचाव के कारण प्रोन्नत की सील" लगायी जाए. और किसी भी बच्चे को उसी कक्षा में नहीं रोका जाए. इन स्टूडेंट्स की परीक्षाएं नहीं हुई हैं उन सभी को तिमाही, छमाही और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा में प्रमोट किया जाए. हर क्लास के बच्चे की मार्कशीट और टीसी में अलग रंग के स्याही वाले पेन का इस्तेमाल किया जाएगा. जनरल प्रमोशन की सील लगाने के बाद उस पर संकुल प्राचार्य की मंजूरी लेना होगी.उसके बाद हर साल की तरह रिजल्ट जारी किया जाएगा.
पांचवी आठवीं के स्टूडेंट्स के लिए अलग व्यवस्था


मध्यप्रदेश में अब तक पांचवी और आठवीं के छात्र-छात्राओं की बोर्ड परीक्षाएं नहीं थी. मध्यप्रदेश में 15 महीने पहले कांग्रेस सरकार ने पांचवी और आठवीं को बोर्ड करने का निर्णय लिया था. फिलहाल राज्य शिक्षा केंद्र ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि पांचवी और आठवीं के छात्र छात्राओं के रिजल्ट में वार्षिक मूल्यांकन का कॉलम खाली छोड़ा जाएगा.

अप्रैल में दिया जनरल प्रमोशन
कोरोना वायरस के कारण देशभर में लॉक डाउन होने के कारण मार्च से स्कूल भी बंद हैं. हालात सुधरते न देख स्कूल शिक्षा विभाग ने पहली से आठवीं तक के छात्र-छात्राओं को जनरल प्रमोशन देने का फैसला लिया था.इसमें स्टूडेंट्स को पिछली परीक्षाओं के नंबर के आधार पर आंतरिक मूल्यांकन कर जनरल प्रमोशन दिया जाएगा.

गैस कांड के बाद दूसरी बार जनरल प्रमोशन
मध्य प्रदेश में स्कूल स्टूडेंट्स को जनरल प्रमोशन देने का ये दूसरा मौका है. इससे पहले 1984 में जनरल प्रमोशन दिया गया था. उस साल अक्टूबर में इंदिरा गांधी हत्याकांड के बाद हुए सिख दंगों और फिर भोपाल गैस कांड के कारण लंबे समय तक स्कूल बंद रहने के कारण पढा़ई का काफी नुक़सान हुआ था. तब मध्य प्रदेश की तत्कालीन अर्जुन सिंह सरकार ने जनरल प्रमोशन देने का फैसला किया था.

ये भी पढ़ें-

MP में ASI बनने निकला था सिंघम, SP ने ठोका 5 हजार का जुर्माना, देखें Video

MP में घर बैठे ऐसे दर्ज करवा सकेंगे FIR, देश में पहला पायलट प्रोजेक्ट लॉन्च
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज