Home /News /madhya-pradesh /

कोरोना पेशेंट्स के लिए MP में शुरू होगी Genome Sequencing, इन 5 मेडिकल कॉलेजों में लगेगी मशीन

कोरोना पेशेंट्स के लिए MP में शुरू होगी Genome Sequencing, इन 5 मेडिकल कॉलेजों में लगेगी मशीन

bhopal. कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए Genome Sequencing की सुविधा मिलना मध्य प्रदेश के लिए किसी बड़ी राहत से कम नहीं है.

bhopal. कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए Genome Sequencing की सुविधा मिलना मध्य प्रदेश के लिए किसी बड़ी राहत से कम नहीं है.

MP Health News : एमपी (MP) के इंदौर, जबलपुर, रीवा, भोपाल और ग्वालियर मेडिकल कॉलेज में अब Genome Sequencing की सुविधा मिलेगी. प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने आज केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया से मुलाकात के बाद ये जानकारी दी.

अधिक पढ़ें ...

दिल्ली. कोरोना की तीसरी लहर और Omicron Variant के खतरे के बीच मध्य प्रदेश के लिए एक राहत भरी खबर है. अब एमपी में भी कोरोना मरीजों के लिए Genome Sequencing होगी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया इसका आश्वासन दिया. प्रदेश के पुराने पांचों मेडिकल कॉलेजों में इसकी मशीन लगेगी.

एमपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने आज दिल्ली में मांडविया से मुलाकात की थी. उसके बाद उन्होंने बताया कि कोरोना के दौरान Genome Sequencing की जरूरत पड़ रही है. क्योंकि वेरिएंट लगातार बदलता है. सारंग ने कहा अभी तक जांच के लिए दिल्ली पर निर्भर रहना पड़ता था और रिपोर्ट आने में करीब 10 दिन तक लग जाते थे.

भोपाल, जबलपुर, इंदौर, रीवा और ग्वालियर में लगेगी मशीन
विश्वास सारंग ने बताया कि भोपाल, जबलपुर, इंदौर, रीवा और ग्वालियर मेडिकल कॉलेज में Genome Sequencing की मशीनें लगायी जाएंगी. ये मशीनें केंद्र सरकार दे रही है. उन्होंने कहा Omicron मध्यप्रदेश में नहीं है. लेकिन सरकार लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए है. अब यहीं ये सुविधा होने के कारण Genome Sequencing जल्द हो सकेगी. इसके लिए उन्होंने केंद्र सरकार को धन्यवाद दिया.

ये भी पढ़ें-  सिंधिया स्कूल के एक कमरे में 5 छात्राओं के साथ रहती थीं मधुलिका रावत, 2018 में आई थीं ग्वालियर Photos

भोपाल में खुलेगा सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल
एमपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि भोपाल में भी सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल शुरू करने पर रजामंदी हो गई है. इससे पहले इंदौर, जबलपुर और रीवा में इस तरह के अस्पताल खुल चुके हैं. नर्सिंग कॉलेज में डिप्लोमा कोर्स के लिए भी केंद्र सरकार ने हरी झंडी दे दी है. साथ ही वित्तीय मदद देने का भी आश्वासन दिया है.

समय पर मिल सकेगा इलाज
कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए Genome Sequencing की सुविधा मिलना मध्य प्रदेश के लिए किसी बड़ी राहत से कम नहीं है. इस सुविधा के शुरू होने से संक्रमित व्यक्ति में कोरोना वेरिएंट के बारे जल्द जानकारी मिल सकेगी. इससे मरीज का इलाज जल्द शुरू हो सकेगा. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह तीसरी लहर से निपटने की तैयारी के निर्देश अलग अलग बैठकों में भी देते आ रहे हैं. साथ ही केंद्र सरकार से लगातार समन्वय बनाए हुए है.

Tags: Genome Sequencing, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर