होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /नौकरी नहीं मिली तो टिश्यू कल्चर तकनीक में किया कमाल, केले के पौधा तैयार कर कमाए लाखों रुपए

नौकरी नहीं मिली तो टिश्यू कल्चर तकनीक में किया कमाल, केले के पौधा तैयार कर कमाए लाखों रुपए

केले की खेती के लिए यहां के किसान पहले किसी भी आम किस्म का चुनाव कर लेते थे, लेकिन समय के साथ केले की खेती में भी बड़े ...अधिक पढ़ें

    अंकुश मोरे/बुरहानपुर. मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में रहने वाले किरण महाजन ने नौकरी नहीं मिलने पर उन्होंने टिश्यू कल्चर तकनीक से केले का पौधा तैयार करना शुरू किया. अच्छी क्वालिटी के पौधों को किसानों तक पहुंचाकर वे आज इस बिजनेस से लाखों में कमाई कर रहे हैं. इस बिजनेस को चुनने के पीछे उनकी दूरगामी सोच छिपी हुई है. किरण ऐसे इलाके से हैं, जहां केले की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है.

    इस तकनीक की सफलता को देखते हुए टिश्यू कल्चर से पौधे तैयार करने में कई कंपनियां जुट गईं, लेकिन डिमांड इतनी थी कि उनको पूरा करना असंभव था. इसी अवसर को किरण महाजन ने भुना लिया. उन्होंने इस क्षेत्र में छुपी हुई संभावनाओं को समझा और शुरू टिश्यू कल्चर से पौधा विकसित करना शुरू कर दिया.

    हर साल लाखों रुपए की कमाई
    किरण ने अपने एरिया में टिशू कल्चर लैब बनाने के लिए पुणे और बेंगलुरु जाकर लैब और टिश्यू कल्चर से पौधे तैयार करने की तकनीक के बारे में गहन अध्ययन किया. फिर उन्होंने एक छोटा सा टिश्यू कल्चर लैब बनाया.एक पौधे को तैयार करने में उन्हें 8 से 9 रुपए का खर्च आता है. वे 12 से 13 रुपए के हिसाब से बेचती हैं. इस तरह 10 से 12 लाख पौधे बेचकर उनको सालाना 25 से 30 लाख रुपए का शुद्ध मुनाफा होता है.

    10 महीने बाद पौधे देते हैं फल
    टिशू कल्चर से तैयार पौधे खेतों में रोपाई के महज 9 से 10 महीने के बाद ही फल देने लगते हैं. इतना ही नहीं, इन केला के फल बीज रहित, आकार में बड़े और काफी मीठे होते हैं. साथ ही टिश्यू कल्चर से तैयार पौधों का उत्पादन भी अन्य किस्मों की तुलना में अधिक होता है.

    Tags: Bhopal news, Madhya pradesh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें