सरकार का दावा : MP में कंट्रोल में कोरोना, संक्रमण की दर 9 और रिकवरी रेट 87.5 फीसदी

पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए पॉजिटिव 6136 केस आए हैं. जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या 11691 है, जो ठीक हो कर घर लौट गए.

पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए पॉजिटिव 6136 केस आए हैं. जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या 11691 है, जो ठीक हो कर घर लौट गए.

Bhopal. पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए पॉजिटिव 6136 केस आए हैं. जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या 11691 है, जो ठीक हो कर घर लौट गए.

  • Share this:

भोपाल. कोरोना (Corona) अब मध्य प्रदेश को कुछ राहत देता दिख रहा है. यहां अब कोरोना कंट्रोल में आने लगा है. संक्रमण की दर लगातार घट रही है जो गिरकर 9 फीसदी पर आ गयी है. वहीं रिकवरी रेट बढ़कर 90 प्रतिशत के पास पहुंचने वाला है. कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) के कारण हालात नियंत्रण में आते दिख रहे हैं.

मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा निरंतर मॉनिटरिंग और जनता के सहयोग से कोरोना नियंत्रण की स्थिति में आता जा रहा है. उन्होंने बताया कोरोना से बीमार होने वाले मरीज़ों की दर अब 9.1 रह गई है जबकि उसके मुकाबले रिकवरी की दर बढ़कर 87.5 प्रतिशत हो गई है. पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए पॉजिटिव 6136 केस आए हैं. जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या 11691 है, जो ठीक हो कर घर लौट गए. प्रदेश के उत्तरी इलाकों के जिलों में संक्रमण की दर 9% के नीचे आ गई है. प्रदेश के अधिकांश जिले जिलों में संक्रमण की दर डबल डिजिट के अंदर आ गई है. कल 66 हजार से अधिक सैंपल लिए गए, हर रोज 60 हजार से अधिक सैंपल लिए जा रहे हैं.

गांव में किल कोरोना अभियान

नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि गांव पर भी फोकस है. गांवों में  किल कोरोना अभियान को गति दी गई है. गांव में संक्रमण रोकने के लिए सरकार ने पहले से ही तैयारी की थी. सरकार ने 5 सदस्यों की टीम बना दी है जिसमें आशा, उषा कार्यकर्ता, पटवारी, सचिव, कृषि विभाग के लोगों को रखा गया हैं. गांवो के बाहर क्वारंटीन सेंटर बनाए गए हैं. किट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करा दी गई हैं. जहां भी शक होता है उन्हें तत्काल किट मुहैया कराई जा रही है. गांव में भी संक्रमण की दर धीरे धीरे नियंत्रण में आ जाएगी.
विपक्ष पर साधा निशाना

नरोत्तम मिश्रा ने कहा प्रधानमंत्री मोदी कोरोना से लड़ रहे हैं और सारे विपक्षी प्रधानमंत्री से लड़ रहे हैं. पहले वैक्सीन पर सवाल उठा रहे थे. वैक्सीन को बर्बाद तो नहीं होने दिया जा सकता था. जन जागृति अभियान चला रहे हैं लोगों को जागरूक कर रहे हैं वैक्सीन लगवाने के लिए. हम इमरजेंसी की तरह  जबरदस्ती नहीं कर सकते. जब जबरन नसबंदी करा दी गई थी. उन्होंने चिरायु अस्पताल में आयुष्मान कार्ड से इलाज नहीं करने के मामले पर कहा कि अस्पताल के मालिक ने स्वयं ही खंडन कर दिया है.




DRDO की दवा की तारीफ

नरोत्तम मिश्रा ने कोरोना की नई दवाई के लिए डीआरडीओ के वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं को बधाई दी. उन्होंने कहा यह दवाई 3 दिन में मरीज को ठीक करती है और इसको खाने से ऑक्सीजन की कमी भी नहीं होती है. मोदी जी को भी बधाई जिनके नेतृत्व में पहले दो वैक्सीन और अब यह दवा आयी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज