भोपाल: परीक्षा कैलेंडर को लेकर राज्यपाल और CM शिवराज की चर्चा, 29 जून से होंगी परीक्षाएं
Bhopal News in Hindi

भोपाल: परीक्षा कैलेंडर को लेकर राज्यपाल और CM शिवराज की चर्चा, 29 जून से होंगी परीक्षाएं
परीक्षा कैलेंडर को लेकर राज्यपाल लालजी टंडन और CM शिवराज की चर्चा (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश में स्नातक अंतिम वर्ष और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई के बीच सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के साथ आयोजित की जाएंगी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल. कोरोना महामारी (Coronavirus) के चलते कॉलेज और विश्वविद्यालयों में परीक्षाओं पर ब्रेक अब खुल गया है. परीक्षाओं को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Chouhan) ने राज्यपाल लालजी टंडन से राजभवन में मुलाकात की. मुलाकात के बाद परीक्षाओं को लेकर राज्यपाल और सीएम शिवराज की सहमति के बाद प्रदेशभर के कॉलेज और विश्वविद्यालय में 29 जून से परीक्षाएं कराने का फैसला लिया गया है.

प्रदेश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में 29 जून से होंगी परीक्षाएं
राज्यपाल लालजी टंडन और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच परीक्षाओं पर चर्चा के बाद फैसला लिया गया है कि कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में 29 जून से 31 जुलाई के बीच परीक्षाएं आयोजित कराई जाएंगी. स्नातक अंतिम वर्ष और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 29 जून से 31 जुलाई के बीच सोशल डिस्टेंसिंग के साथ आयोजित की जाएंगी. बाकी की परीक्षाएं कोरोना वायरस के ठीक होने के बाद आयोजित कराने का फैसला लिया गया है. इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग जल्द ही निर्देश जारी करेगा. राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने परीक्षाओं की तारीखों को लेकर अपनी सहमति दे दी है.

तकनीकी विश्वविद्यालय आरजीपीवी में परीक्षाएं 16 से 30 जून के बीच



राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (RGPV ) छात्र छात्राओं के लिए परीक्षा कैलेंडर पहले ही घोषित कर चुका है. आरजीपीवी में आठवें सेमेस्टर की प्रैक्टिकल परीक्षाएं अब 16 जून से होगी और सैद्धांतिक परीक्षाएं 23 जून से 30 जून तक आयोजित की जाएंगी. फर्स्ट ईयर,सेकंड ईयर, थर्ड ईयर की परीक्षाएं 2 जुलाई से शुरू होंगी और 31जुलाई तक परीक्षाएं चलेंगी.



नया शैक्षणिक सत्र 1 सितंबर से होगा शुरू
कॉलेज और विश्वविद्यालयों में नया शैक्षणिक सत्र अब तक जुलाई सेे शुरू होता था. अब कोरोना संक्रमण को देखते हुए सत्र 2 महीने आगे बढ़ा दिया है. अब नया शैक्षणिक सत्र एक सितंबर से शुरू होगा. फर्स्ट ईयर,सेकंड ईयर और सेकंड ईयर से थर्ड ईयर में जाने वाले विद्यार्थियों का नया शैक्षणिक सत्र एक सितंबर से प्रारंभ होगा.

दूसरे जिलों में फंसे छात्र पूरक परीक्षा में शामिल होकर दे सकेंगे मूल परीक्षा
लॉकडाउन में जो परीक्षार्थी दूसरे जिलों में फंसे हैं. ऐसे छात्र मुख्य परीक्षाओं में शामिल नहीं हो पाएंगे तो वह पूरक परीक्षाओं के साथ शामिल हो सकेंगे. छात्रों को पूरक परीक्षा नहीं बल्कि मूल परीक्षा के तहत ही रखा जाएगा. इसको लेकर भी उच्च शिक्षा विभाग जल्द निर्देश जारी करेगा.

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ आयोजित होगी परीक्षा
अब तक विश्वविद्यालयों में जो परीक्षाएं आयोजित कराई जाती रही हैं उसमें एक साथ दो हजार से ज्यादा छात्र छात्राएं एक ही परीक्षा केंद्र में बैठकर परीक्षा देते रहे हैं. अब कोरोना वायरस के चलते स्थितियां पूरी तरह से बदल गई हैं ऐसे में कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पहले की तुलना में दो से तीन गुना परीक्षा केंद्र तैयार किए जाएंगे. परीक्षा केंद्रों को हर पेपर से पहले सेनेटाइज किया जाएगा. परीक्षा के दौरान छात्र-छात्राओं को मास्क लगाना जरूरी होगा तो वहीं परीक्षा केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा. परीक्षा देने आने से पहले और बाद में छात्र-छात्राओं के लिए सेनेटाइजर की भी व्यवस्था परीक्षा केंद्रों पर की जाएगी.

ऑनलाइन परीक्षा में छात्र-छात्राओं की रुचि नहीं
राजभवन को अपनी रिपोर्ट सौंपने से पहले 6 सदस्य कमेटी ने एक सर्वे भी कराया था. सर्वे छात्र-छात्राओं के ऑनलाइन और ऑफलाइन एग्जाम को लेकर हुआ था जिसमें प्रदेशभर के कॉलेज और यूनिवर्सिटी के छात्र छात्राओं का ऑनलाइन और ऑफलाइन एग्जाम को लेकर मत लिया गया था. सर्वे के मुताबिक छात्र छात्राओं ने ऑनलाइन एग्जाम कराने से इंकार कर दिया है. छात्र-छात्राएं ऑफलाइन एग्जाम के लिए ही तैयार हैं भले ही इसके लिए उन्हें लंबा इंतजार ही क्यों ना करना पड़े. छात्रों के मत के बाद अब कॉलेज और विश्वविद्यालयों में परीक्षा केंद्रों पर ऑफलाइन परीक्षाएं होंगी.

ये भी पढ़ें: भोपाल: राजभवन में हुई Covid-19 की एंट्री, 28 साल का युवक मिला पॉजिटिव
First published: May 25, 2020, 5:25 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading