ग्राउंड रिपोर्ट: MP के इस खतरनाक हॉटस्पॉट में 24 घंटे पुलिस का पहरा, 1 दिन में मिलते थे 20 मरीज, जानें- अब क्या है हाल?
Bhopal News in Hindi

ग्राउंड रिपोर्ट: MP के इस खतरनाक हॉटस्पॉट में 24 घंटे पुलिस का पहरा, 1 दिन में मिलते थे 20 मरीज, जानें- अब क्या है हाल?
लॉकडाउन में किसी को भी घर से बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी गई है. (सांकेतिक फोटो)

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) सबसे खतरनाक कोरोना हॉटस्पॉट (Corona Hotspot) जहांगीराबाद में अब भी 24 घंटे पुलिस (Police) तैनात रहती है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) के सबसे खतरनाक कोरोना हॉटस्पॉट (Corona Hotspot) बन चुके जहांगीराबाद (Jahangirabad) में अब स्थिति कंट्रोल होने लगी है. न्यूज़ 18 की ग्राउंड रिपोर्ट से पता चला कि जहांगीराबाद का 50 फ़ीसदी इलाका अब सुरक्षित हो गया है. यानी यहां सैंपल का काम लगभग पूरा हो गया है. लॉकडाउन 3.0 की तुलना में 4.0 में पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी कम हुई है. इसी लॉकडाउन के दौरान प्रशासन ने जहांगीराबाद को कोरोना मुक्त करने का टारगेट बनाया है. जहांगीराबाद इलाके में 1,25,000 में 60 हजार की आबादी में सैम्पल का काम लगभग पूरा हो गया है.

जहांगीराबाद में पुलिस 24 घंटे तैनात रहती है. पूरे इलाके को सील भी किया गया है. यहां किसी भी तरीके की रियायत भी नहीं दी गई है. लोगों के घरों तक प्रशासन के जरिए मदद पहुंचाई जा रही है. चर्च रोड अहीरपुरा समेत जहांगीराबाद थाने के आसपास के इलाकों की पूरी तरीके से सैंपलिंग कर लेने का दावा किया जा रहा है.

चिकलोद रोड के आस पास बचा है संक्रमण
जहांगीराबाद संभाग के सीएसपी आशीष खरे अपने टीआई और पूरे स्टाफ के साथ इलाके में पहरा देते हैं. शब्बन चौराहे पर पुलिस ने डेरा डाले हुए है. न्यूज़ 18 की टीम जब वहां पहुंची तो आशीष खरे ने बताया कि जहांगीराबाद इलाके में कोरोना संक्रमण को खत्म करने का काम किया जा रहा है. पिछले लॉक डाउन की तुलना में इस बार के लॉक डाउन में पॉजिटिव मरीजों की संख्या कम हो रही है. चौथे लॉक डाउन के 4 दिनों में सिर्फ 34 मरीज सामने आए हैं. यह मरीज चिकलोद रोड के साथ इलाके के आसपास के हैं. इससे पहले के लॉक डाउन के दौरान एक-एक दिन में 20 से 25 मरीज सामने आते थे. उन्होंने बताया कि चिकलोद रोड और उसके आसपास अब प्रशासन फोकस कर रहा है. वहां के इलाके में संक्रमण बचा है। जबकि इलाके के आधी आबादी को ठीक कर लिया गया है.



सेम्पलिंग का दायरा भी हुआ कम


जहांगीराबाद इलाके में पिछले लॉकडाउन के दौरान 300 से ज्यादा सैंपल रोजाना लिए जाते थे, लेकिन चौथे लॉक डाउन के 4 दिन के दौरान सिर्फ 300 ही सैंपल लिए गए. इसके पीछे प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि संदिग्ध मरीजों की संख्या में कमी आई है. यही कारण है कि सैंपल का दायरा भी कम हुआ है. हालांकि स्क्रीनिंग और सर्वे की प्रक्रिया तेजी से बाकी के इलाके में की जा रही है. प्रशासन ने इलाके के करीब टीम हजार लोगों को सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट भी किया है. कोरोना की चेन तोड़ने के लिए प्रशासन पूरी तरीके से मुस्तैदी से तैनात है.

ये भी पढ़ें:
भूपेश सरकार यूं ही नहीं दे रही 19 लाख किसानों को ₹5750 करोड़, जानें- 'न्याय' का पूरा ब्योरा

लॉकडाउन में यूं ही शराब नहीं बेच रही सरकार, पढ़ें- कितने रुपयों का है कारोबार?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading