कोरोना के लिए 5 ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स का गठन...अनलॉक, ऑक्सीजन, वैक्सिनेशन, कर्फ्यू, व्यवहार पर रखेंगी नजर

MP को 1 जून से अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

Bhopal. प्रदेश में कोविड संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण, रोकथाम, जन-जागरुकता और आवश्यक प्रचार-प्रसार के लिये ये कमेटी बनायी गयी हैं.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना (Corona) के हालात की समीक्षा और अनलॉक पर सुझाव के लिए एमपी में ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स का गठन कर दिया गया है. यह समितियां जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी, विकासखंड क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी और ग्राम तथा नगर क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी से सलाह-मश्वरा कर अपनी सिफारिश सरकार को भेजेंगी. पाँच मंत्री-समूह की समिति गठन का मकसद अनलॉक, कोरोना नियंत्रण के साथ आगे की रणनीति बनाना है.

ये काम करेंगी कमेटी...
1-मेडिकल ऑक्सीजन
प्रदेश को मेडिकल ऑक्सीजन में आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से भविष्य की रणनीति तय करने के लिये आवश्यक सुझाव देने मंत्री-समूह का गठन किया गया है. इसमें लोक निर्माण, कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री  गोपाल भार्गव, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री  बिसाहूलाल सिंह, राजस्व, परिवहन मंत्री  गोविन्द सिंह राजपूत, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री  ओमप्रकाश सकलेचा, सहकारिता, लोक सेवा प्रबंधन मंत्री  अरविंद भदौरिया, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री  राजवर्धन सिंह प्रेमसिंह दत्तीगांव शामिल हैं.

2-टीकाकरण 
कोविड संक्रमण की चेन तोड़ने और शत-प्रतिशत टीकाकरण कराने के उद्देश्य से सुझाव प्रस्तुत देने के लिये मंत्री-समूह का गठन किया गया है. इसमें चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री  विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री  प्रभुराम चौधरी, ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर,पशुपालन एवं डेयरी, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्त कल्याण मंत्री  प्रेमसिंह पटेल, पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री  रामखेलावन पटेल शामिल हैं.

3-कोरोना कर्फ्यू
प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू को धीरे धीरे खत्म करने और सामान्य जन-जीवन बहाली के संबंध में प्रस्तावित रणनीति को प्रभावी रूप से लागू करने के लिये सुझाव देने के लिए ये कमेटी बनायी गयी है. इसमें गृह, जेल, संसदीय कार्य, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, -जनजातीय कार्य, अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री मीना सिंह मांडवे, किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल, खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री डॉ. महेन्द्र सिंह सिसोदिया,  सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. अरविंद भदौरिया, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग, लोक निर्माण राज्य मंत्री सुरेश धाकड़ शामिल हैं.

4-कोविड अनुकूल व्यवहार
आम नागरिकों में कोविड अनुकूल व्यवहार के प्रचार-प्रसार, पर्यवेक्षण और जागरुकता के लिये आवश्यक सुझाव देने के लिए मंत्री-समूह बनाया गया है. इसमें जल संसाधन, मुछआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री तुलसीराम सिलावट, वन मंत्री विजय शाह,वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री जगदीश देवड़ा, खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया,  नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, पर्यटन, संस्कृति, अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर और सहकारिता, लोक सेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया हैं.

5-जन-जागरुकता, प्रचार-प्रसार
प्रदेश में कोविड संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण,  रोकथाम,  जन-जागरुकता और आवश्यक प्रचार-प्रसार के लिये एक और कमेटी बनायी गयी हैं. इसमें गृह, जेल, संसदीय कार्य, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, मंत्री चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री विश्वास कैलाश सारंग,  ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर,पर्यटन, संस्कृति, अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर,स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन मंत्री इंदर सिंह परमार शामिल हैं.