होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-मोदी सरकार ने अटल बिहारी वाजपेयी का सपना किया साकार, देशभर में स्थापित किए नये AIIMS

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-मोदी सरकार ने अटल बिहारी वाजपेयी का सपना किया साकार, देशभर में स्थापित किए नये AIIMS

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन  (File Photo)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन (File Photo)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने स्वास्थ्य सेवा प्रबंधन और शिक्षा के मानकों में क्षेत्रीय असमानता को दूर करने क ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने एम्स भोपाल (AIIMS Bhopal) में विभिन्न सुविधाओं का शुभारंभ किया. आईसीएमआर (ICMR) के सहयोग से स्थापित माइकोलोजी एडवांस्ड रिसोर्स सेंटर, कैंसर ट्रीटमेंट सेंटर और कौशल प्रयोगशाला देश को समर्पित की. मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने एम्स भोपाल के प्रशासनिक खंड का शिलान्यास किया और एम्स के सभागार का लोकार्पण भी किया.


    केन्द्रीय मंत्री ने  कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee)  का सपना था कि देश भर में क्षेत्रीय स्तर पर संतुलित विशिष्ट चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की जाएं. उन्होंने कहा कि सभी नागरिकों के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए देश भर में एम्स स्थापित किए जाने से अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee)  का सपना साकार हुआ है.


    उन्होंने स्वास्थ्य सेवा प्रबंधन और शिक्षा के मानकों में क्षेत्रीय असमानता को दूर करने के लिए एम्स दिल्ली (AIIMS Delhi) की भीड़भाड़ के मद्देनजर देश भर में और एम्स स्थापित करने का सपना देखा था. उन्होंने 2003 में प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (PM Health Security Scheme) की घोषणा की, जिसके तहत देश के विभिन्न भागों में 6 क्षेत्रीय एम्स बनाने की योजना तैयार की गई.


    स्वर्गीय सुषमा स्वराज के गंभीर प्रयासों के फलस्वरूप और क्षेत्र की उचित मांग को देखते हुए भोपाल (Bhopal) में एम्स की स्थापना की गई. ऐसे एम्स के लिए यह भौगोलिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान है. इसके लिए औपचारिक घोषणा, एक अध्यादेश के माध्यम से, 16 जुलाई, 2012 को की गई.


    डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि गतिशील प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व में भारत सरकार (Government of India) सभी के लिए उच्च गुणवत्ता पूर्ण चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के लिए चिकित्सा के उत्कृष्ट संस्थानों के विस्तार के प्रति वचनबद्ध है. डॉ. हर्ष वर्धन ने शैक्षणिक, रोगी देखभाल सेवाएं, क्षमता निर्माण और अनुसंधान गतिविधियों समेत एम्स भोपाल की बहुमुखी उपलब्धियों पर प्रसन्नता व्यक्त की.


    हाल ही में शुरू किए गए आईसीएमआर-एमएआरसी केन्द्र के संदर्भ में डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है कि इस संस्थान को न्यू जनरेशन सिक्वेंसिंग फैसेलिटी मिली है. इस प्रणाली से एसएआरएस-CoV2, अन्य वायरस और माइक्रोबैक्टिरियम टीबी समेत रोगाणुओं की तेजी से सिक्वेंसिंग में मदद मिलेगी.


    उन्होंने कहा कि मुझे इस बात की भी खुशी है कि वैज्ञानिकों और संस्थान की फैकल्टी ने एम्स दिल्ली और अन्य संस्थानों के  साथ मिलकर कई टीबी नैदानिक जांच विकसित की हैं, जिनमें से कुछ उन्नत प्रौद्योगिकी हस्तांतरण चरण में हैं.


    उन्होंने कहा कि यह भी सराहनीय है कि एम्स भोपाल के निदेशक ने सेंटर फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन की स्थापना की है, जो देश के किसी भी चिकित्सा संस्थान में अनूठी सुविधा है. ट्रांसलेशनल मेडिसिन का बहुत भविष्य है. यह केन्द्र अपने अतिउन्नत उपकरणों से नैदानिक और मूल विज्ञान के सम्मिलन में मील का पत्थर बन सकेगा.


    एम्स भोपाल के इस केन्द्र की स्थापना नये नैदानिक औजारों की खोज और बहुविषयी तरीकों के इस्तेमाल से उपचार में तेजी लाने के उद्देश्य से किया गया है. इस केन्द्र में नये नैदानिक किट विकास, दवा खोज, होल जिनोम सिक्वेंसिंग, ट्रांसक्रिप्टोमिक्स, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और क्लीनिकल ट्रायल पर काम किया जाएगा. हमें यह सीख लेनी चाहिए कि किस प्रकार नवाचार मानवता तक फायदे पहुंचाता है और केवल निष्कर्षों के प्रकाशन तक सीमित नहीं रहता.


    स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि एम्स भोपाल प्रयोगशाला ने कोविड-19 महामारी पर काबू पाने के लिए 12 मार्च तक एक लाख 96 हजार से अधिक जांच की.


    इस अवसर पर मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और लोकसभा सदस्य रमाकांत भार्गव, डीजी-आईसीएमआर डॉ. बलराम भार्गव, निदेशक एम्स भोपाल डॉ. सरमन सिंह और आईसीएमआर तथा एम्स भोपाल के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.

    Tags: AIIMS, Atal Bihari Vajpayee, Bhopal, Dr Harsh Vardhan, ICMR, Pm narendra modi, Union health ministry

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें