MP पर मॉनसून मेहरबान : 14 ज़िलों में सामान्य से ज़्यादा बारिश, 27 के लिए अलर्ट जारी

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 31, 2019, 7:52 AM IST
MP पर मॉनसून मेहरबान : 14 ज़िलों में सामान्य से ज़्यादा बारिश, 27 के लिए अलर्ट जारी
मध्य प्रदेश में भारी बारिश
Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 31, 2019, 7:52 AM IST
पूरा मध्य प्रदेश बारिश से तरबतर है. यहां मॉनसून देर से आया लेकिन अब वो पूरे प्रदेश पर मेहरबान है. प्रदेश के कई इलाकों में बाढ़ के हालात हैं. नदी नाले उफान पर हैं. मौसम विभाग ने अगले दो दिन में हैवी रेन की चेतावनी जारी की है. राहत आय़ुक्त ने भी 27 ज़िलों के लिए अलर्ट जारी किया है.

प्रदेश के मंदसौर, नीमच, राजगढ़, रतलाम, सीहोर, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, छिंदवाड़ा, सिवनी, श्योपुर, शाजापुर, उज्जैन, आगर, बालाघाट, बड़वानी, अनूपपुर, बुरहानपुर, धार, डिंडोरी, गुना, अलीराजपुर, अशोकनगर, हरदा, होशंगाबाद, इंदौर और विदिशा के लिए अलर्ट जारी किया गया है. इसी के साथ उज्जैन, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, शहडोल, नर्मदापुरम, भोपाल और चंबल संभाग को भी सतर्क रहने के लिए कहा गया है.

रतलाम में सबसे ज़्यादा बारिश

प्रदेश में इस वर्ष मानसून में 15 जून से 30 जुलाई तक 14 जिलों में सामान्य से अधिक  पानी बरस चुका है.  28 जिलों में सामान्य वर्षा और 9 जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज की गई है. सबसे ज़्यादा रतलाम जिले में एवं सबसे कम वर्षा सीधी जिले में हुई है.

इस वजह से हो रही है भारी बारिश
-मौसम विज्ञानी प्रदेश में हो रही इस भारी बारिश की वजह ये बता रहे हैं कि कम दबाव का क्षेत्रफल पूर्वी मध्य प्रदेश और उससे लगे छत्तीसगढ़ में बना हुआ है. ये हवा के ऊपरी भाग में 5.8 किलोमीटर की ऊंचाई तक बना है और दक्षिण दिशा की ओर ऊंचाई के साथ झुका हुआ है.
दूसरी वजह ये है कि मानसून द्रोणिका मीन, सी लेवल पर बाड़मेर चित्तौड़गढ़ विदिशा और लो प्रेशर एरिया पूर्वी मध्य प्रदेश एवं उससे लगे छत्तीसगढ़ से होते हुए बिहार के जमशेदपुर, उड़ीसा के बालासोर और दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी से होकर गुजर रहा है. ये हवा के ऊपरी भाग में 2 . 1 मीटर की ऊंचाई तक बना हुआ है.
Loading...

-हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात दक्षिण पश्चिम राजस्थान एवं उससे लगे इलाके में बना हुआ है जो 3. 6 किलोमीटर की ऊंचाई तक है.ये ऊंचाई के साथ दक्षिण पश्चिम दिशा की ओर झुका हुआ है.
एक और द्रोणिका दक्षिण गुजरात एवं उससे लगे उत्तरी महाराष्ट्र से लेकर उड़ीसा के अंदरूनी हिस्से तक बना हुआ है जो पूर्वी मध्य प्रदेश एवं उसे लगे छत्तीसगढ़ से होकर गुजर रही है.
मौसम विज्ञानी बता रहे हैं कि एक अन्य कम दबाव का क्षेत्र 4 अगस्त के आसपास उत्तर पूर्वी बंगाल की खाड़ी में बनने की संभावना है.

कहां कितनी हुई बारिश
भोपाल में 166.5, इंदौर 18.8, बैतूल 19, पचमढ़ी 55, सिवनी 14.8, नरसिंहपुर 37.0 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. इसके अलावा खंडवा में 163, खरगौन 117.4, मंडला 61, होशंगाबाद 50.6, उज्जैन 32, शाजापुर 50, रतलाम 8.4, रायसेन 22.4 और दमोह में 22 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड दर्ज की गयी.

ये भी पढ़ें-इंदौर कलेक्ट्रेट के पीछे छापा, केमिकल में पकाए जा रहे थे फल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 7:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...