लाइव टीवी

Honey Trap : SIT ने की मंत्रालय की घेराबंदी,रडार पर 4 सरकारी विभाग

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 7, 2019, 7:00 PM IST
Honey Trap : SIT ने की मंत्रालय की घेराबंदी,रडार पर 4 सरकारी विभाग
मंत्रालय में सरकारी विभागों की जांच

नई एसआईटी की टीम को जांच के दौरान आरोपियों के बैंक अकाउंट के ट्रांजेक्शन में कई अहम सुराग मिले हैं.सूत्रों पर यकीन करें, तो जांच एजेंसी को कई नेताओं, अफसरों, कारोबारियों, बिल्डरों और व्यापारियों के बैंक अकाउंटर से आरोपियों के बैंक अकाउंट में मोटी रकम ट्रांसफर की जानकारी भी मिली है.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (madhya pradesh)के हाईप्रोफाइल हनीट्रैप (honey trap)मामले में जांच एजेंसी SIT ने अब मंत्रालय (mantralay)की घेराबंदी शुरू कर दी है.उसके रडार पर चार सरकारी विभाग हैं.ये वही विभाग हैं, जिनकी सील भोपाल की आरोपी महिला के घर से बरामद की गयी थीं.इन विभागों के कई अफसरों की नेताओं से सांठगांठ भी सामने आई है.
मंत्रालय में जांच
हनीट्रैप केस की जांच के लिए बनायी गयी एसआईटी ने मंत्रालय के चार सरकारी विभागों की पड़ताल तेज कर दी है.जांच इस बात को लेकर की जा रही है कि जिन सरकारी विभागों की सील भोपाल की आरोपी महिला के घर से बरामद की गयी थीं, उसका इस्तेमाल आरोपी किन-किन अधिकारियों के इशारे पर कर रहे थे.
4 विभागों पर नज़र

सूत्रों के अनुसार एसआईटी के हाथ जिन विभागों की सांठगांठ के सबूत लगे हैं, उनमें से कृषि विभाग को लेकर पहले ही शिकायत हो चुकी है.आरोप है कि कृषि विभाग में सक्रिय हनीट्रैप गैंग ने कई सरकारी काम कराए हैं.इनमें गैंग में शामिल एक दंपति की सक्रियता की बात भी बार-बार सामने आ रही है.अब इन विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत से कितने और कौन-कौन से काम कराए हैं,इस बिंदु को लेकर भी जांच की जा रही है.
भोपाल में आरोपी महिला के घर दबिश के दौरान इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ चार सरकारी विभागों की सील और कई सरकारी दस्तावेज बरामद किए गए थे.कांग्रेस का आरोप है कि हनीट्रैप गैंग के मंत्रालय से जुड़े कनेक्शन को गंभीरता से लेने की ज़रूरत है.एसआईटी बारीकी से जांच कर दोषियों को बेनकाब करेगी.
बैंक ट्रांजेक्शन की पड़ताल में खुलासा
Loading...

नई एसआईटी की टीम को जांच के दौरान आरोपियों के बैंक अकाउंट के ट्रांजेक्शन में कई अहम सुराग मिले हैं.सूत्रों पर यकीन करें, तो जांच एजेंसी को कई नेताओं, अफसरों, कारोबारियों, बिल्डरों और व्यापारियों के बैंक अकाउंटर से आरोपियों के बैंक अकाउंट में मोटी रकम ट्रांसफर की जानकारी भी मिली है.इस जानकारी को पुख्ता करने के लिए एसआईटी की एक टीम तेजी से जांच में जुट गई है.सभी आरोपियों के बैंक अकाउंट को खंगाला जा रहा है.पिछले कुछ साल में हुए ट्रांसजेक्शन की जानकारी की जांच भी की जा रही है.
सूची में नाम
उन नामों की सूची बनाई जा रही है, जिन्होंने इन आरोपियों के बैंक अकाउंट में मोटी रकम ट्रांसफर की है.प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है अगर जांच एजेंसी बिना भेदभाव के जांच करेगी, तो जो भी दोषी होगा, उसके चेहरे बेनकाब हो जाएंगे.लेकिन एसआईटी से ऐसी उम्मीद नहीं है.इसलिए बीजेपी सीबीआई जांच की मांग कर रही है.

नई एसआईटी की जांच में कई खुलासे होने की संभावना है.अभी जांच अधिकारी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के डाटा से मिली जानकारी, बैंक अकाउंट और सरकारी विभागों से कनेक्शन के सबूत जुटा रहे हैं.आने वाले समय में पांच आरोपियों के अलावा भी दूसरे कई आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकती है.

ये भी पढ़ें-मध्यप्रदेश में अब सरकारी डॉक्टरों को 3 बार लगानी होगी हाज़िरी,वरना कटेगी सैलरी

दिग्विजय के फिर बिगड़े बोल, BJP- बजरंग दल के नेता कर रहे हैं ISI के लिए जासूसी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 7:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...