लाइव टीवी

मध्य प्रदेश में नेताओं के भाई-भतीजे अफसरों को खुलेआम दे रहे हैं धमकी, जानें वजह...

News18 Madhya Pradesh
Updated: November 6, 2019, 3:09 PM IST
मध्य प्रदेश में नेताओं के भाई-भतीजे अफसरों को खुलेआम दे रहे हैं धमकी, जानें वजह...
इंदौर में तुलसी सिलावट और उनके समर्थकों की गुंडागर्दी

कांग्रेस और बीजेपी से लेकर बीएसपी के नेता और विधायकों द्वारा अलग-अलग मुद्दे को लेकर सरकारी अफसरों को धमकी देने के मामले सामने आए हैं. साथ ही उनके समर्थक भी इन्हें डरा-धमका रहे हैं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में नेता और उनके रिश्तेदार गुंडागर्दी पर उतर आए हैं. ये किसी एक दल की बात नहीं है बल्कि इस मामले में हर दल के नेताओं (Leaders) का एक सा हाल है. सत्ताधारी कांग्रेस (Congress) और बीजेपी (BJP) के नेताओं के रिश्तेदारों और समर्थकों की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है. तो वहीं बीएसपी विधायक रामबाई (BSP MLA Rambai) का भी एक भ्रष्ट अफसर को धमकी देने का वीडियो वायरल हुआ. इंदौर में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के जन्मदिन पर उनके समर्थकों और निगमकर्मियों के बीच विवाद और मारपीट हुई. मंत्री के जन्मदिन के बधाई संदेश के बैनर पोस्टर हटाने की बात को लेकर ये विवाद हुआ.

मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट का जन्मदिन था. उनके समर्थकों ने इंदौर के रेसीडेंसी क्षेत्र में स्थित सरकारी बंगले पर बधाइयों के होर्डिंग और बैनर लगाए थे. नगर निगम की टीम को इसकी जानकारी मिली तो वो उन्हें हटाने गई. इस दौरान मंत्री के समर्थकों ने निगम उपायुक्त महेंद्र सिंह से तीखी बहस और मारपीट की. साथ ही मीडियाकर्मियों को भी इसकी कवरेज से रोका.

बता दें कि सार्वजनिक स्थानों पर अवैध होर्डिंग्स और बैनर को लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ का स्पष्ट निर्देश है कि अगर कहीं उनका पोस्टर भी हो तो उसे हटा दिया जाए, बावजूद इसके मंत्री तुलसी सिलावट के समर्थक गुंडागर्दी पर उतर आए.



FIR का आदेश

इस मामले में इंदौर की महापौर मालिनी गौड़ ने नगर निगम कमिश्नर को, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के भांजे और समर्थकों के खिलाफ तत्काल FIR करने का आदेश दिया है. मेयर ने कहा कि सीएम कमलनाथ ने शहर के बैनर पोस्टर हटाने के निर्देश दिए थे, क्योंकि इससे शहर बदरंग हो रहा था. नगर निगम कर्मचारियों के साथ हुई मारपीट की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि इंदौर शहर लगातार चौथी बार देश का सबसे साफ-सुथरा शहर बना है इसलिए शहर की सुंदरता को बनाए रखना सभी का कर्तव्य है.

मंत्री के भतीजे की धमकी
Loading...

दूसरा मामला श्योपुर का है. यहां के विजयपुर जनपद सीईओ ने जिले के प्रभारी मंत्री के भतीजे और एक अन्य व्यक्ति के खिलाफ फोन पर धमकाने और गाली-गलौच की शिकायत की है. सीईओ ने अपनी जान को खतरा बताया है. सीईओ का कहना है लाखन सिंह के भतीजे संजय यादव के नाम से उनके पास फोन आया और बैनीपुरा में बंद पड़े काम को शुरू न करने पर धमकी दी. आरोपी है कि संजय यादव ने गाली-गलौज की और उन्हें मारने की धमकी दी. दरअसल वित्तीय धांधली के कारण बैनीपुरा का काम बंद पड़ा है. सीईओ की शिकायत पर पुलिस फोन नंबर और मामले की जांच कर रही है.

फिर गरजीं विधायक रामबाई
तीसरा मामला पथरिया का है जहां बीएसपी विधायक रामबाई काम ना होने पर अफसर को फटकार रही हैं. उनका यह वीडियो वायरल हो रहा है. इस बार वो ट्रेजरी अधिकारी को खरी-खोटी सुना रही हैं. ये वीडियो मंगलवार का बताया जा रहा है. इसमें रामबाई ट्रेजरी कार्यालय में ट्रेजरी अफसर विवेक घारू पर बरस रही हैं. विधायक रमाबाई कह रही हैं कि हमारी विधानसभा की विधायक निधि और सुरक्षा निधि के इस्तेमाल में लापरवाही की तो ठीक नहीं होगा. पैसों की ज्यादा जरूरत हो तो जिला चेंज करा लो. सीधे तरीके से नहीं भागे तो दूसरे तरीके से भगाना मुझे आता है. आज की डेट में राशि जमा नहीं की तो कल की डेट नहीं रहेगी तुम्हारी.



क्या है पूरा मामला
बताया जा रहा है कि रामबाई को शिकायत मिली थी कि ट्रेजरी अधिकारी विकास घारू काम के लिए सरपंचों से पैसे वसूलने के बाद सरकारी पैसा उनके अकाउंट में डाल रहे हैं. विधायक निधि की राशि जारी करने के लिए ट्रेजरी अफसर पैसे मांग रहा था. इस मामले में सरपंच पथरिया विधायक को लेकर ट्रेजरी कार्यालय पहुंचा था.

(इंदौर से विकास सिंह चौहान, श्योपुर से दीपक दंडोतिया के साथ दमोह से धर्मेश पांडेय की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें- गुस्से में शिवराज, बोले-प्रह्लाद लोधी की सदस्यता शून्य करना गैरकानूनी!

कमलनाथ सरकार खाली पड़े सरकारी पदों पर करेगी नयी भर्ती, ये है तैयारी...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 12:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...