लाइव टीवी

तेलंगाना पुलिस से एमपी का भी है पुराना कनेक्शन, दो बार बचाई है 'इज्जत'

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 6, 2019, 1:44 PM IST
तेलंगाना पुलिस से एमपी का भी है पुराना कनेक्शन, दो बार बचाई है 'इज्जत'
वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप के आरोपियों को तेलंगाना पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया. घटनास्थल की तस्वीर.

वेटनरी डॉक्टर से सामूहिक दुष्कर्म (Hyderabad Gang rape case) के आरोपियों को एनकाउंटर में ढेर करने वाली तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) के साथ मध्य प्रदेश की पुलिस (Madhya Pradesh Police) का भी रहा है पुराना कनेक्शन. आतंकी धमाकों के आरोपियों को पकड़ने में की थी मदद.

  • Share this:
भोपाल. पूरे देश में तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) की तारीफ और जय-जयकार हो रही है. यह इसलिए हो रहा है, क्योंकि तेलंगाना पुलिस ने उन आरोपियों का एनकाउंटर किया, जिन्होंने हैवानियत की सारी हदें पार कर एक महिला डॉक्टर से गैंगरेप (Hyderabad Gang rape case) के बाद उसे जिंदा जलाकर मार डाला था. तेलंगाना पुलिस के इस काम को लेकर जहां एक तरफ तारीफ के पुल बांधे जा रहे हैं, वहीं कुछ लोग इस पुलिसिया कार्रवाई पर सवाल भी उठा रहे हैं. लेकिन इन सबके बीच तेलंगाना पुलिस के साथ मध्य प्रदेश की पुलिस (Madhya Pradesh Police) का पुराना नाता भी राज्य के लोगों को याद आ रहा है. जी हां, वह तेलंगाना पुलिस ही थी, जिसने एक बार नहीं, बल्कि दो बार मध्य प्रदेश की पुलिस को शर्मसार होने से बचाया था.

उज्जैन ट्रेन ब्लास्ट केस
तेलंगाना पुलिस नहीं होती तो एमपी पुलिस को भोपाल उज्जैन ट्रेन में हुए ब्लास्ट का कोई सुराग भी नहीं मिलता. ब्लास्ट के तत्काल बाद आए इनपुट पर एमपी पुलिस ने पिपरिया में आईएस के 3 आतंकियों को पकड़ा था. उसी शाम लखनऊ में भी एनकाउंटर हुआ. मार्च 2017 में उज्जैन जा रही पैसेंजर ट्रेन में ब्लास्ट हुआ था. जब तक एमपी पुलिस मामले में कुछ समझ पाती, तब तक आरोपी यात्री बस के जरिए होशंगाबाद पहुंच चुके थे. लेकिन तेलंगाना पुलिस से मिले इंटेलिजेंस इनपुट के बाद एमपी की एटीएस हरकत में आई और उसने लोकल पुलिस की सहायता से पिपरिया के पास से आतंकियों को धर दबोचा. इन आतंकियों से बाद में एनआईए ने भी पूछताछ की थी.

Hyderabad Gang rape case-Telangana Police-MP Police
एमपी की पुलिस को दो बार शर्मसार होने से तेलंगाना पुलिस ने बचाया है.


सिमी आतंकी मामला
दूसरा मामला खंडवा जेल से भागे दो सिमी आतंकी का है. इन दोनों को भी 2015 में तेलंगाना पुलिस ने ही मार गिराया था. 1 अक्टूबर 2013 को 6 सिमी आतंकी खंडवा जेल से फरार हो गए थे. तेलंगाना के नालगोंडा जिले में आधा घंटे पुलिस से हुई मुठभेड़ में इनमें से दो आतंकियों को मार गिराया गया था. मुठभेड़ हैदराबाद से 175 किलोमीटर दूर नालगोंडा जिले के मोठकुर मंडल में जानकीपुरा गांव के पास हुई थी. दरअसल, खंडवा की जेल से एजाजुद्दीन, मेहबूब उर्फ गुड्डू, अबू फैजल, जाकीर बदरुल, अमजद रमजान सहित एक अन्य कैदी आबिद मिर्जा ने टॉयलेट के शीशे तोड़े और चादरों की रस्सी बनाकर जेल की दीवार से नीचे उतर भाग गए थे. आबिद को पुलिस ने कुछ घंटे बाद ही पकड़ लिया था. कुछ दिनों बाद देश के अलग-अलग इलाकों से बाकी सभी आतंकी भी पकड़े गए थे.

ये भी पढ़ें -प्रह्लाद लोधी केस : सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की मध्य प्रदेश सरकार की याचिका

हैदराबाद गैंगरेप केस: चारों आरोपियों के एनकाउंटर पर पन्ना-उज्जैन में जश्न का माहौल, बताया- न्याय का सवेरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 1:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर