मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

" />मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

" /> मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

"> मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

">

मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी, एमबीबीएस डॉक्टर गिरफ्तार

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

  • Share this:

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुफ्त इलाज के नाम पर ठगी करने वाले एक एमबीबीएस डॉक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि डॉक्टर अपने दो  साथियों के साथ मिलकर चिटफंड कंपनी चला रहा था. डॉक्टर और उसके साथियों पर सीहोर में खोले जा रहे एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में मुफ्त इलाज और फायदे में हिस्सा देने के नाम ठगी करने का आरोप है. शुक्रवार को डॉक्टर हितेश शर्मा को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.


ठगी का अनोखा तरीक़ा

एमपी नगर पुलिस के मुताबिक, करोंद में रहने वाले भागीरथ अहिरवार ने कोलार रोड निवासी डॉ. हितेश शर्मा और सीहोर निवासी उनके दो पार्टनर शैलेंद्र नागर व सुशील राय के खिलाफ शिकायत की थी. आरोपी डॉ. हितेश का सीएमएच नाम से दस नंबर मार्केट और अशोका गार्डन में अस्पताल भी है. डॉक्टर हितेश ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर एमपी नगर में श्याम सुंदर डील फायनेंस नाम से एक कंपनी खोली थी. उनका दावा था कि वे जल्द ही सीहोर में एक मल्टी सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल खोल रहे हैं. उक्त कंपनी में निवेश करने वाले लोगों और उनके परिवार के सदस्यों को मुफ्त इलाज देंगे. साथ ही निवेश करने वाले को अस्पताल में हुए सालाना फायदे में से हिस्सा भी दिया जाएगा.


शिकायतकर्ता पर  हमला भी हुआ


फरियादी भागीरथ अहिरवार का कहना है कि बातों में आकर भागीरथ और दो अन्य लोगों ने डेढ़ लाख रुपए आरोपियों को दे दिए थे. जब उसने पैसे वापस करने की मांग की तो डॉक्टर हितेश शर्मा और उसके साथियों ने उस पर हमला भी करवाया था, जिसमें पीड़ित का हाथ फ्रेक्चर हो गया था. जांच के बाद पुलिस ने 22 मई को तीनों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया. जबकि आरोपी डॉक्टर ने कहा कि शिकायतकर्ता उसे ब्लैकमेल कर रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज