अब बिहार की राह पर चला MP, जातिगत वोट साधने के लिए UP के इन नेताओं की बढ़ी मांग

 पार्टी भी इस संबंध में विचार कर रही है और नेताओं को उन सीटों पर प्रचार-प्रसार के लिए बुला रही है.  (file photo)
पार्टी भी इस संबंध में विचार कर रही है और नेताओं को उन सीटों पर प्रचार-प्रसार के लिए बुला रही है. (file photo)

मध्य प्रदेश के उपचुनाव (Bye Election) में कुशवाहा समाज के नेता और यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मोर्य को चुनाव प्रचार में बुलाने की मांग की गई है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश के उपचुनाव (By-Election) में प्रचार के लिए बीजेपी उम्मीदवारों ने चर्चित नेताओं की डिमांड पार्टी फोरम पर की है. इन उम्मीदवारों ने अपनी विधानसभा सीटों पर जातिगत समीकरण (Caste Equation) को देखते हुए इन नेताओं की डिमांड की है. मध्य प्रदेश की सियासत में जातिगत समीकरण का अहम रोल दिख रहा है. यूपी-बिहार का मॉडल अब मध्य प्रदेश में भी लागू होने जा रहा है. जातिगत वर्चस्व रखने वाले नेताओं की डिमांड उम्मीदवार कर रहे हैं. कुशवाहा समाज के नेता और यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मोर्य को प्रचार में बुलाने की मांग की गई है.

कुशवाहा समाज कई सीटों पर निर्णायक भूमिका में है. सुमावली, जौरा और करैरा विधानसभा सीट पर कुशवाह वोट बड़ी संख्या में है. उम्मीदवारों ने यूपी के मंत्री मुन्ना लाल कोरी से भी प्रचार कराने की डिमांड की है. कोरी वोटर्स गोहद, डबरा और अंबाह में निर्णायक हैं. वहीं, यादव समाज की तरफ से भोपाल की विधायक कृष्णा गौर भी लगातार प्रचार में जुटी हैं. मुंगावली, अशोक नगर, सुरखी में यादवों का वोट निर्णायक है. बीजेपी प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी ने बताया कि प्रत्याशियों की आ रही डिमांड के तहत तमाम नेताओं को बुलाने के लिए निवेदन किया गया है.





कांग्रेस ने साधा निशाना
प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने कहा कि बीजेपी के पास अब नेता बचे नहीं हैं. यही कारण है कि जिस सिंधिया के भरोसे सबसे ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ा जा रहा है, अब वही सिंधिया फेल साबित हो रहे हैं. यही कारण है कि दूसरे राज्यों से नेताओं को प्रचार-प्रसार की डिमांड उनके प्रत्याशी कर रहे हैं. 28 विधानसभा चुनाव पर जातिगत समीकरण के मायने को समझते हुए स्थानीय प्रत्याशी बाहरी राज्यों के नेताओं की लगातार प्रचार-प्रसार और आम सभाएं कराने की डिमांड कर रहे हैं. पार्टी भी इस संबंध में विचार कर रही है और नेताओं को उन सीटों पर प्रचार-प्रसार के लिए बुला रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज