Indore : हालात सुधरने के बाद ही खोला जाए Lockdown, भले इसमें वक्त लगे

इंदौर को फिलहाल लॉकडाउन से रियायत नहीं!
इंदौर को फिलहाल लॉकडाउन से रियायत नहीं!

पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, प्रशासन जो भी तैयारी करेगा उसमें हमारा पूरा सहयोग रहेगा. ताई ने यह सुझाव दिया कि लॉकडाउन जब खत्म होगा उसके लिए अभी से रणनीति बनाई जाए. जीवन के लिए लॉकडाउन खोलना ही होगा.

  • Share this:
इंदौर. लॉकडाउन 4 (Lockdown) की ओर बढ़ रहा है यह शहर. ताजा हालात और नेताओं-अफसरों के बयान इसी और संकेत कर रहे हैं. पूरे शासन-प्रशासन का ध्यान रेड जोन (Red Zone) इंदौर के पल-पल के हालात पर है. सबकी प्राथमिकता इंदौर (Indore) में कोरोना का संक्रमण रोकने से है. रेसीडेंसी में आज एक बैठक हुई, इसमें नेता और अफसरों ने अपने सुझाव दिए. इस बात पर सबकी राय एक थी कि हालात सुधरने के बाद ही लॉकडाउन खोला जाए, भले ही इसमें वक्त लगे. और एक साथ के बजाये किस्तों में लॉकडाउन खत्म किया जाए.

रेसीडेंसी में कोरोना के हालात से निपटने के उपाय के लिए बैठक

इंदौर के रेसीडेंसी में कोरोना के हालात और उससे निपटने के उपाय करने के लिए बैठक हुई. इसमें में शहर के जनप्रतिनिधि और अफसर सब मौजूद थे. प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने अफसरों और नेताओं के साथ लंबी चर्चा की. कोरोना कंट्रोल के लिए उनके सुझाव मांगे. उन पर देर तक मंथन हुआ. पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, पूर्व सांसद कृष्ण मुरारी मोघे, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने अपनी राय रखी. पूर्व सांसद मोघे ने कहा इंदौर में पूरी तरह लॉकडाउन खोलने की स्थिति नहीं बनी है. उन्होंने सुझाव रखा कि केंद्र सरकार का निर्देश मानते हुए सबसे पहले रेड जोन के हालात पर विचार करना होगा. वहां कौन-सी एक्टिविटी हो सकती हैं. शहर को ग्रीन, यलो और रेड जोन में बांटकर कुछ एक्टिविटी शुरू करनी चाहिए.



सब्र से काम लें - विजयवर्गीय
कैलाश विजयवर्गीय ने इशारा किया कि फिलहाल इंदौर में लॉकडाउन से कोई रियायत नहीं मिलेगी. आने वाले समय में लोगों को सब्र से काम लेना होगा. इंदौर अब तक सफाई को लेकर गर्व के साथ जाना जाता था. लेकिन कोरोना रेड जोन में आने से नाम धूमिल हो गया है. इसे सभी को मिलकर सुधारना होगा. जीरो कोरोना होने तक सभी को संघर्ष करना होगा.

अभी से बनाएं रणनीति - ताई
पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, प्रशासन जो भी तैयारी करेगा उसमें हमारा पूरा सहयोग रहेगा. ताई ने यह सुझाव दिया कि लॉकडाउन जब खत्म होगा उसके लिए अभी से रणनीति बनाई जाए. जीवन के लिए लॉकडाउन खोलना ही होगा. हम जल्दबाजी करने के लिए नहीं कहते. लेकिन शहर की कानून व्यवस्था बनी रहे. लोगों को राहत मिले इसके लिए अभी से रणनीति बनानी होगी.

किस्तों में खुले लॉकडाउन

प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा, धीरे-धीरे किस्तों में लॉकडाउन खुलना चाहिए. मध्य प्रदेश के सबसे बड़े शहर इंदौर में सबसे बड़ा संकट है. कोरोना टेस्ट में पहले समय लगता था, लेकिन अब ये काम जल्दी होने लगा है. शहर में वेंटिलेटर की कमी नहीं होने दी जाएगी. प्रवासी मजदूरों की शिफ्टिंग दो-तीन दिन में पूरी हो जाएगी. उसके बाद ये सड़क पर नहीं दिखेंगे. उन सभी के लिए वाहन, भोजन और पानी का इंतजाम करवा दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें-

भोपाल के कोरोना डेथ जोन जहांगीराबाद में घर की छत पर ड्रोन टपका रहा है पर्चियां

इंदौर में कैदियों ने गाना गाकर पुलिसकर्मियों का बढ़ाया उत्साह, दिया ये संदेश..

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज