Home /News /madhya-pradesh /

indore number 1 in accident ptri latest report reveal shocking details know about bhopal jabalpur data cgpg

स्वच्छता के साथ एक्सीडेंट में इंदौर नंबर -1, PTRI की ताजा रिपोर्ट में खुलासा, जानें आपके शहर का हाल

Indore News: इंदौर स्वच्छता के साथ सड़क हादसे में भी नंबर वन बन गया है. पीटीआरआई की ताजा रिपोर्ट में बड़े खुलासे हुए हैं.

Indore News: इंदौर स्वच्छता के साथ सड़क हादसे में भी नंबर वन बन गया है. पीटीआरआई की ताजा रिपोर्ट में बड़े खुलासे हुए हैं.

Indore News: पुलिस ट्रेनिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (PTRI) की ताजा रिपोर्ट में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) में हुए सड़क हादसों को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक सड़क हादसे इंदौर () Road Accident in Indore) में हो रहे हैं. जबलपुर (Jabalpur News) इस मामले में दूसरे नंबर पर है, जबकि भोपाल में पुलिस कमिश्नर सिस्टम का असर दिखाई दे रहा है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्य प्रदेश के बड़े महानगरों में सबसे ज्यादा सड़क हादसे इंदौर में हो रहे हैं. जबलपुर इस मामले में दूसरे नंबर पर है, जबकि भोपाल में पुलिस कमिश्नर सिस्टम का असर दिखाई दे रहा है. ट्रैफिक की अलग से व्यवस्था होने की वजह से बड़े महानगरों में सड़क हादसों के मामले में भोपाल तीसरे नंबर पर है, जबकि ग्वालियर चौथे नंबर पर है. पुलिस ट्रेनिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट की ताजा रिपोर्ट के अनुसार सबसे ज्यादा सड़क हादसे इंदौर में हो रहे हैं. अब इंदौर स्वच्छता के साथ सड़क हादसों के मामले में भी नंबर वन बन गया है. इस मामले में जबलपुर दूसरे नम्बर पर, तो भोपाल तीसरे पायदान पर है, जबकि ग्वालियर चौथे नंबर पर है.

सबसे ज्यादा मौत भी इंदौर में हुई. ग्वालियर मौत के मामले में नम्बर दो पर है. सबसे कम मौत भोपाल में हुई. पीटीआरआई के 1जनवरी से 6 मई 2022 तक iRAD डाटा के अनुसार इंदौर में कुल  सड़क हादसे 1134 हुए. इनमें 148 लोगों की मौत और 1048 लोग घायल हुए. जबलपुर में कुल 1058 एक्सीडेंट हुए. इनमें  92  की मौत और 1335 लोग घायल हुए. जबकि भोपाल में कुल  828 सड़क हादसे हुए. इनमें 68 की मौत और 707 लोग घायल हुए. वहीं ग्वालियर में 674 सड़क हादसे हुए. इनमें 97 लोगों की मौत और हादसे में 679 लोग घायल हुए.
मध्य प्रदेश इस मामले में देश में नंबर वन
iRAD एप में सड़क हादसों का डाटा अपलोड करने के मामले में मध्य प्रदेश देश में नंबर वन है, जबकि नंबर दो पर तमिलनाडु है. भोपाल ट्रैफिक के डीसीपी हंसराज ने कहा कि सड़क हादसों को रोकने के पीछे कई कारण हो सकते हैं. नियमों का पालन करना, शहर की भौगोलिक स्थिति या संयुक्त एजेंसियों के जरिए सुधारात्मक कार्य करने जैसे कई बिंदु है जिनकी वजह से हादसों को रोका जा सकता है. किसी एक कारण से हादसों को नहीं रोका जा सकता, इसलिए सभी तरीके की एजेंसी एक्सीडेंट पर अंकुश लगाने का काम कर रही है.

ये भी पढ़ें:  Madhya Pradesh में जल्द बनेगा बिजली बैंक, 600 किलोवाट तक पावर हो सकेगा स्टोर, पढ़ें पूरा प्लान
केंद्रीय सड़क परिवहन एवं हाइवे मंत्रालय की पहल पर  एकीकृत सड़क दुर्घटना डेटाबेस (Integrated Road Accident Database, IRAD) एप  IIT चेन्नई और NIC की मदद से तैयार किया गया. इस एप के जरिए पुलिस विभाग रोड बनाने वाली एजेंसी के साथ दूसरी एजेंसियां सड़क हादसों का डाटा जुटाने का काम करती है. इस डाटा के जरिए सड़क हादसों को कम करने की कोशिश की जा रही है.

Tags: Bhopal news, Indore news, Mp news, Road accident

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर