Assembly Banner 2021

भोपाल में आयकर का छापा : 9 महीने की छानबीन...112 बेनामी संपत्ति, 18 कंपनी की पड़ताल

इनकम टैक्स की टीम मामले लगातार जांच कर रही है.

इनकम टैक्स की टीम मामले लगातार जांच कर रही है.

इस छापे (raid) का कनेक्शन 2019 में लोकसभा चुनाव (locksabha election) से ठीक पहले भोपाल के प्लेटिनम प्लाजा स्थित अश्विनी शर्मा के घर पड़ी रेड से मिल रहा है

  • Share this:
भोपाल.भोपाल में हाल ही में फेथ और गोल्डन कंपनी पर इनकम टैक्स (Income Tax) विभाग के जो छापे पड़े उसके पीछे 9 महीने की लंबी तैयारी थी. विभाग इसकी 9 महीने से छानबीन कर रहा था. इस दौरान 112 बेनामी संपत्ति और 18 कंपनियों की पड़ताल की गई थी. छानबीन के दौरान ये भी पता चला कि लोकसभा चुनाव (Locksabha election) से पहले भोपाल के कारोबारी अश्विनी शर्मा के घर पर पड़े छापे का कनेक्शन भी इससे है. फेथ और गोल्डन कंपनी पर छापे की कार्रवाई पूरी हो चुकी है. अब इनकम टैक्स विभाग इससे जुड़े रसूखदारों की लिस्ट तैयार कर रहा है.

इन रसूखदारों का कनेक्शन फेथ कंपनी के मालिक राघवेंद्र सिंह तोमर और गोल्डन कंपनी के मालिक पीयूष गुप्ता के साथ है. 112 बेनामी संपत्ति और 18 कंपनियों के खिलाफ ईडी में पहली शिकायत नवंबर 2019 में हुई थी.

ईडी, लोकायुक्त में शिकायत
सूत्रों के अनुसार 7 नवंबर 2019 को प्रवर्तन निदेशालय दिल्ली और 13 जुलाई 2020 को एमपी लोकायुक्त में लिखित में शिकायत की गई थी. इस शिकायत में एक रिटायर्ड आईपीएस अफसर के नाम का जिक्र था. और उन पर आरोप लगाए गए थे कि उनकी 357 एकड़ कृषि भूमि, 22 आवासीय प्लॉट, 7 फ्लैट, 6 मकान, 4 डुप्लेक्स, 2 होटल रिसोर्ट, 2 शॉपिंग मॉल, 4 दुकान और आवासीय कॉलोनियों में बड़ा इन्वेस्टमेंट है. ईडी और लोकायुक्त से की गई शिकायत में पीयूष गुप्ता की 11 फर्म और महेंद्र गोधा, विपिन जैन, प्रकाश चंद परयानी, पूनम गुप्ता, समरीन खान, राहुल जौहरी, राजकुमार जौहरी की पार्टनरशिप वाली 7 फर्मों की जानकारी भी दी गई थी. ईडी ने ये शिकायत आयकर विभाग को सौंपी थी.
अश्विनी शर्मा का कनेक्शन


इस हालिया छापे का कनेक्शन 2019 में लोकसभा चुनाव से ठीक पहले भोपाल के प्लेटिनम प्लाजा स्थित अश्विनी शर्मा के घर पड़ी रेड से मिल रहा है. सूत्रों ने बताया कि रेड के दौरान जो दस्तावेज मिले उसमें से एक में लेनदेन वाले एक कॉलम में 56 करोड़ की राशि लिखी हुई थी. ये रकम परिवहन विभाग से आना बताया गया था. साथ ही आईपीएस अफसर के करीबी रिश्तेदारों के नाम भी निवेश की जानकारी मिल रही है. शिकायत में कहा गया है कि इंदौर, लखनऊ, मुंबई, मसूरी, गोवा और दिल्ली में बेनामी संपत्ति रिश्तेदारों के नाम पर है. पत्नी के भाइयों के नाम पर प्रॉपर्टी और उनके व्यापार में निवेश का दावा शिकायत में किया गया है. नोटबंदी के दौरान भारी मात्रा में सोना हीरा खरीदने का आरोप है.

व्यापम घोटाले के आरोपी
शिकायत में यह भी आरोप लगाए गए थे कि रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी के संबंध व्यापम घोटाले के आरोपियों से हैं. एजुकेशन की फील्ड में करोड़ों का इन्वेस्टमेंट भी किया था. कई कॉलेज में इन्वेस्टमेंट की बात आ रही है. इसके अलावा भोपाल ताल के केचमेंट एरिया में भी जमीन होने की बात की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज