अच्छी खबर! जबलपुर का भेड़ाघाट और सतपुड़ा टाइगर रिजर्व यूनेस्को की लिस्ट में शामिल

जबलपुर भेड़ाघाट में नर्मदा की धार और सतपुड़ा टाइगर रिजर्व एरिया विश्वभर में प्रसिद्ध है.

जबलपुर भेड़ाघाट में नर्मदा की धार और सतपुड़ा टाइगर रिजर्व एरिया विश्वभर में प्रसिद्ध है.

केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की संस्था, एएसआई ने यूनेस्को विश्व धरोहर की संभावित सूची में शामिल करने के लिए नौ स्थलों का नाम प्रस्तावित किया था, जिनमें से छह स्थलों को संभावित सूची में शामिल कर लिया गया है.

  • Share this:

भोपाल. कोरोना संकट काल के दौरान प्रदेश के लिए एक अच्छी खबर आई है. अच्छी खबर यूनेस्को की तरफ से है. यूनेस्को ने मध्य प्रदेश के दो बड़े पर्यटन स्थलों को विश्व धरोहर की सूची में शामिल कर लिया है.केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की संस्था, एएसआई ने यूनेस्को विश्व धरोहर की संभावित सूची में शामिल करने के लिए नौ स्थलों का नाम प्रस्तावित किया था, जिनमें से छह स्थलों को संभावित सूची में शामिल कर लिया गया है. इनमें मध्यप्रदेश के दो स्थल शामिल हैं. पहला- नर्मदा घाटी पर बना भेड़ाघाट-लम्हेटाघाट और दूसरा- सतपुड़ा टाइगर रिजर्व शामिल है. ये दोनों ही स्थल अपनी खासियत के लिए विश्व में पहचाने जाते हैं. जबलपुर के भेड़ाघाट में नर्मदा की धार पूरे विश्व में प्रसिद्ध है तो वहीं दूसरी तरफ प्राकृतिक सौंदर्य और बाघों के बेहतर रहवास के लिए सतपुड़ा टाइगर रिजर्व एरिया विश्वभर में प्रसिद्ध है. अब यूनेस्को की सूची में शामिल होने के बाद यह विश्व धरोहर में शामिल हो गया है.

इनके अलावा महाराष्ट्र का मराठा सैन्य वास्तुकला, वाराणसी का गंगाघाट रिवरफ्रंट, हायर बेंकल, मेगालिथिक साइट और कांचीपुरम के मंदिरों को संभावित सूची में शामिल किया गया है.

एमपी के दो पर्यटन स्थलों को यूनेस्को की सूची में शामिल किए जाने को लेकर केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल ने ट्वीट कर गौरव का विषय बताया है. पटेल ने कहा कि छह स्थलों को यूनेस्को की संभावित सूची में जगह मिलना देश के लिए बहुत ही गौरव की बात है. साथ ही उन्होंने मध्यप्रदेश से दो स्थलों के यूनेस्को साइट में चयन को लेकर खुशी जाहिर की और कहा कि ये मध्यप्रदेश वासियों के लिए बहुत ही खुशी और गौरव का क्षण है.

आपको बता दें कि एएसआई ने यूनेस्को वर्ल्ड हैरिटेज में नौ स्थलों को नामांकन के लिए भेजा था जिनमें मध्य प्रदेश के नर्मदा घाटी के भेड़ाघाट-लम्हेटाघाट, मध्य प्रदेश का सतपुड़ा टाइगर रिजर्व, अरुणाचल प्रदेश के टेल वाइल्डलाइफ सेंचुरी, वाराणसी का प्रतिष्ठित रिवरफ्रंट, जियोग्लिफ़ ऑफ कोंकण, तमिलनाडु स्थित कांचीपुरम के मंदिर, कर्नाटक का बेंकल महापाषाण स्थल, जम्मू की मुबारक मंडी महाराष्ट्र में मराठा सैन्य वास्तुकला नामांकन के लिए भेजे गए थे. देश के छह स्थल यूनेस्को की सूची में शामिल हो सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज