Home /News /madhya-pradesh /

'मेरा नाम ज्योतिरादित्य सिंधिया है,’ कांग्रेस नेता ने कसा तंज तो केंद्रीय मंत्री ने किया पलटवार

'मेरा नाम ज्योतिरादित्य सिंधिया है,’ कांग्रेस नेता ने कसा तंज तो केंद्रीय मंत्री ने किया पलटवार

Jyotiraditya Scindia News: केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोकसभा में उन्हें महाराज कहने पर आपत्ति जताई. उन्होंने कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी को दो-टूक जवाब दिया. (File)

Jyotiraditya Scindia News: केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोकसभा में उन्हें महाराज कहने पर आपत्ति जताई. उन्होंने कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी को दो-टूक जवाब दिया. (File)

Jyotiraditya Scindia News: लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच हल्की-फुल्की नोक-झोंक देखने को मिली. चौधरी ने उन्हें महाराज कहकर तंज कसा. दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया स्वर्गीय माधवराव सिंधिया के पुत्र और ग्वालियर रियासत के अंतिम शासक जीवाजीराव सिंधिया के पोते हैं. इसलिए, समर्थक उनके नाम के साथ ‘श्रीमंत’ और ‘महाराज’ जैसे विशेषण का इस्तेमाल अक्सर करते हैं.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने अपने पूर्व साथी और कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury)  के ‘महाराज’ तंज पर करारा जवाब दिया. उन्होंने कांग्रेस सांसद से कहा – मेरा नाम ज्योतिरादित्य सिंधिया है. लोकसभा में ये मामला उस वक्त गर्मा गया था जब एक प्रश्न के दौरान चौधरी ने तंस कसा था- ‘‘एक महाराज यहां हैं और दूसरे महाराज ‘एयर इंडिया’ का निजीकरण किया जा रहा है.’’ ये कहते हुए चौधरी ने पश्चिम बंगाल में कुछ हवाई अड्डों को लेकर सवाल किया.

गौरतलब है कि लोकसभा में प्रश्न पूछने के दौरान पक्ष-विपक्ष के नेताओं में वाद-विवाद और नोंक-झोंक होती रहती है. इसी तरह की नोंक-झोंक सिंधिया और चौधरी के बीच भी देखने को मिली. ये बात इसलिए भी खास थी क्योंकि, सिंधिया पहले कांग्रेस में ही थे, लेकिन दो साल पहले बीजेपी में शामिल हो गए थे. सांसद चौधरी के पूरक प्रश्न का उत्तर देते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ‘‘मैं कांग्रेस नेता को सूचित करना चाहता हूं कि मेरा नाम ज्योतिरादित्य सिंधिया. वह बार-बार मेरे अतीत के बारे में चर्चा करते रहे हैं. मैं उन्हें सिर्फ यह सूचित करना चाहता हूं.’’

2020-21 में एयरलाइंस का अनुमानित नुकसान 19564 करोड़ था

सिंधिया ने बताया कि कोरोनो वायरस महामारी के मद्देनजर नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने विमान अधिनियम, 1934 के तहत अस्थायी उपाय के रूप में ऊपरी और निचली सीमा के साथ विमान किराया बैंड की शुरुआत की. एक अलग लिखित उत्तर में उन्होंने बताया कि 2020-21 में भारत में एयरलाइंस द्वारा अनुमानित नुकसान लगभग 19,564 करोड़ रुपये था.

एयरलाइंस विमान किराया तय करने के लिए स्वतंत्र

सिंधिया ने बताया कि सामान्य परिस्थितियों में हवाई किराए न तो सरकार द्वारा निर्धारित किए जाते हैं और न ही विनियमित होते हैं. एयरलाइंस विमान नियम, 1937 के तहत एयरलाइन हवाई किराया तय करने के लिए स्वतंत्र हैं. उन्होंने बताया कि किराया बैंड यात्रियों के साथ-साथ एयरलाइनों के हितों की रक्षा के दोहरे उद्देश्य की पूर्ति करता है और समय-समय पर संशोधित किया गया है. किराया कैपिंग, वर्तमान में, 15 दिनों के चक्र के लिए रोलिंग आधार पर लागू है.

Tags: Bhopal news, Jyotiraditya Scindia, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर