Bhopal: चिरायु अस्पताल ने इलाज से इनकार किया तो ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बढ़ाए मदद के हाथ

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने फोन पर पीड़ित युवक से बात की.(File)

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने फोन पर पीड़ित युवक से बात की.(File)

Bhopal. वीडियो वायरल होते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने युवक से फोन पर बात की और उसे हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया. सिंधिया ने उस युवक से आयुष्मान कार्ड की डिटेल और उसकी दादी की पूरी डिटेल मोबाइल फोन पर मंगवाई और स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी और अस्पताल मैनेजमेंट से चर्चा की.

  • Share this:

भोपाल. कोरोना मरीज़ों (Corona patients) के इलाज में अग्रणी रहा भोपाल के चिरायु अस्पताल (Chirayu Hospital) को लेकर कुछ सवाल उठ रहे हैं. दो दिन में दो मामले यहां चर्चा में आए. पहले मामला बिना पैसे दिये मृतक का शव देने से मना करने का था और दूसरा आयुष्मान कार्ड धारक का इलाज करने से इंकार करना. खबरें सामने आयीं और कुछ वीडियो वायरल हुए तो कांग्रेस नेताओं और बीजेपी में गए ज्योतिरादित्य सिंधिया तक एक्शन में आ गए. मध्य प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ने भी संज्ञान ले लिया और शासन ने अस्पताल को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया.

भोपाल के चिरायु अस्पताल में आयुष्मान कार्ड धारक गरीब कोरोना पीड़ित मरीज़ों का इलाज न करने की दो शिकायतें सामने आयीं. पहले मामले में एक वीडियो भी वायरल हुआ. एक वीडियो भी वायरल हुआ. इसमें अस्पताल का मैनेजर एक मरीज के अटेंडेंट को धमकाते हुए लहजे में बात कर रहा है. वो साफ कह रहा है कि इस अस्पताल में आयुष्मान कार्ड एप्लिकेबल नहीं है. वो गार्ड से कह रहा है कि अटेंडेंट को धक्का देकर बाहर निकाल दो.

सिंधिया ने की फोन पर बात

एक युवक ने अस्पताल में आयुष्मान कार्ड न स्वीकार करने के आरोप चिरायु मेडिकल प्रबंधन पर लगाए हैं. युवक का नाम योगेंद्र रघुवंशी है उसकी दादी सरजू बाई रघुवंशी का इलाज होना है. चिरायु के इस दूसरे मामले में वीडियो वायरल होते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने युवक से फोन पर बात की और उसे हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया. सिंधिया ने उस युवक से आयुष्मान कार्ड की डिटेल और उसकी दादी की पूरी डिटेल मोबाइल फोन पर मंगवाई और स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी और अस्पताल मैनेजमेंट से चर्चा की.

Youtube Video

कांग्रेस ने शिवराज से पूछे सवाल

कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से पूछा. क्या आत्मीय लगाव है जो सरकार इस अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है. कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने भी ट्वीट करते हुए सवाल किया. उन्होंने कहा व्यापम घोटाले से जुड़े चिरायु अस्पताल में कोरोना की दूसरी लहर में भी लूट-खसोट-गुंडागर्दी चालू है.  कई मंत्रियो का इलाज करने वाला, सरकार की विशेष कृपा प्राप्त यह अस्पताल, सरकार के आदेश को कैसे हवा में उड़ा रहा है.

मानवाधिकार आयोग ने लिया संज्ञान



चिरायु अस्पताल में रुक्मणी बलवानी केस में संज्ञान लिया है. शनिवार शाम को योगेश की मां की मौत हो गई थी. बताया जा रहा है अस्पताल ने बिना पैसे शव देने से इनकार कर दिया था. बडी मुश्किल से शव दिया था. इस मामले में कलेक्टर भोपाल का कहना है कि मामला गंभीर है, जांच के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी. सोशल मीडिया पर जो वीडियो चला है, उसकी जांच कराई जा रही है. इस मामले में आयोग ने कमिश्नर भोपाल संभाग, कलेक्टर और उप पुलिस महानिरीक्षक भोपाल से अगले एक सप्ताह में प्रतिवेदन मांगा है. आयोग ने इन अधिकारियों से यह भी पूछा है कि अब तक चिरायु के मैनेजर के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है.


2 मई का है वीडियो

सोशल मीडिया पर चिरायु अस्पताल का जो वीडियो वायरल हुआ है वो इसी महिने की 2 तारीख का बताया जा रहा है. वायरल वीडियो का दावा है कि हॉस्पिटल स्टाफ, डॉक्टर्स और मैनेजर ने कथित रूप से 3 लोगों को दौड़ा दौड़ा कर इसलिए पीटा क्योंकि मां की मौत के बाद घंटों तक नहीं बताया गया था. सवाल करने पर अस्पताल प्रबंधन ने ये सुलूक किया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज