होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /मैं जनता का सेवक हूं कुर्सी का नहीं, अगर कुर्सी का होता तो डिप्टी CM का प्रस्ताव स्वीकार कर लेता: सिंधिया

मैं जनता का सेवक हूं कुर्सी का नहीं, अगर कुर्सी का होता तो डिप्टी CM का प्रस्ताव स्वीकार कर लेता: सिंधिया

ज्योतिरादित्य सिंधिया (फाइल फोटो)

ज्योतिरादित्य सिंधिया (फाइल फोटो)

ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की माने तो उन्हें अंदाजा हो गया था कि 15 महीने के अंदर ही कमलनाथ की सरकार ...अधिक पढ़ें

    ग्वालियर. कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने अपने गृह जिले ग्वालियर (Gwalior) में बहुत बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि मैं जनता का सेवक (Public servant) हूं नहीं कि कुर्सी का. अगर मैं कुर्सी का सेवक होता तो मैं डिप्टी सीएम का प्रस्ताव स्वीकार कर लेता. लेकिन मुझे पता था कि सरकार में बैठे लोग राज्य का क्या करेंगे. यही वजह है कि मैं उनका हिस्सा बनना नहीं चाहता था.

    ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को ग्वालियर में अपने संबोधन में कहा कि साल 2018 में मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने मुझे उप मुख्यमंत्री का पद देने का प्रस्ताव किया था. लेकिन जनता की भलाई के लिए मैंने इसे ठुकरा दिया था. सिंधिया की माने तो उन्हें अंदाजा हो गया था कि 15 महीने के अंदर ही कमलनाथ की सरकार का बंटाधार होने वाला है और ऐसा हुआ भी.




     बीजेपी का फोकस ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर है
    दरअसल, मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले बीजेपी का फोकस ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर है. ज्योतिरादित्य सिंधिया से लेकर सीएम शिवराज को पार्टी के तमाम बड़े नेता ग्वालियर में डेरा डालकर 3 दिन तक पार्टी के संगठन को मजबूत बनाने और उप चुनाव की तैयारियों पर फोकस कर रहे हैं. इसी बीच बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ये बातें कहीं.

    इस कार्यक्रम पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं
    वहीं, रविवार को ग्वालियर में आयोजित हुए इस कार्यक्रम पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं. कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने सवाल पूछा है कि जब प्रदेश में रविवार को टोटल लॉकडाउन है तो वैसे में बीजेपी के आयोजन को ग्वालियर में किस आधार पर अनुमति दी गई है. यह जनता को बताना चाहिए. कांग्रेस ने कहा है कि यह चिंता का विषय है प्रदेश में जब कोरोना संक्रमण का आंकड़ा हर दिन बढ़ रहा है तो ऐसे में सरकार के रविवार को लॉकडाउन करने के आदेश के विरुद्ध बीजेपी का ग्वालियर में जमावड़ा करना कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन का उल्लंघन है.

    Tags: Bhopal news, Gwalior news, Jyotiraditya Sindhiya, Madhya pradesh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें