जब मिले राजनीति के दो मंझे हुए खिलाड़ी... तो ऐसे बनी बात

कांग्रेस मानती है, UPA की सरकार में मंत्री रहे कमलनाथ ने कभी राज्यों के साथ भेदभाव नहीं किया. यही बात कमलनाथ भाजपा नेताओं को याद दिलाते हैं और अब बिना भेदभाव मध्य प्रदेश का विकास करने में मदद मांग रहे हैं.

Ashraf Kazmi | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 3, 2019, 12:05 PM IST
जब मिले राजनीति के दो मंझे हुए खिलाड़ी... तो ऐसे बनी बात
कमलनाथ और नितिन गडकरी
Ashraf Kazmi | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 3, 2019, 12:05 PM IST
यह कमलनाथ के राजनीतिक अनुभव का नतीजा है या फिर कहे कि नरेंद्र मोदी 2.0 की न्यू इंडिया की इबारत. इंदौर भोपाल हाईवे निर्माण, विकास का इंजन बनेगा औऱ फायदा भी राज्य के लोगों को होगा. दो दिन पहले दो मंझे हुए राजनीति खिलाड़ियों की मुलाकात से अच्छा नतीजा निकला कि इंदौर भोपाल हाईवे निर्माण को लेकर सारी जिम्मेदारी केंद्र सरकार ने राज्य सरकार पर छोड़ दी. यह भी तय कमलनाथ को ही करना है कि निर्माण कार्य कब शुरू होगा और राज्य सरकार करेगी या केंद्र सरकार.

नया सवेरा
अभी तक की राजनीति में दो अलग अलग दलों की केंद्र और राज्य सरकारें 'विकास' के नाम पर भेदभाव का आरोप मढ़ती आ रही हैं. लेकिन कमलनाथ और केंद्रीय भूतल परिवहन नितिन गडकरी की मुलाकात ने केंद्र -राज्य सरकार के रिश्तों में आई कड़वाहट को जरूर कम किया है. इसका अंदाज इसी बात से लगता है कि खुद मुख्यमंत्री कहते हैं कि नितिन गडकरी से मुलाकात से संतुष्ट हैं और केंद्र ने गेंद हमारे पाले में डाल दी है. हाईवे निर्माण कार्य कब शुरू होगा और कौन करेगा यह भी राज्य सरकार को तय करना है.

वहीं, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी एक कदम आगे बढ़कर कहते हैं देश सब का, राजनीति से ऊपर उठकर सबका साथ सबका विकास की नीति पर केंद्र सरकार चल रही.

मध्य प्रदेश के लोग और आने वाला वक्त तय करेगा कि हाईवे निर्माण कमलनाथ के राजनीतिक अनुभव की देन है या केंद्र सरकार की नीतियों का परिणाम.

कांग्रेस का मत
कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा इस फैसले के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ की रणनीति और अनुभव को श्रेय देती हैं. उन्होंने कहा UPA की सरकार में मंत्री रहे कमलनाथ ने कभी राज्यों के साथ भेदभाव नहीं किया. यही बात कमलनाथ भाजपा नेताओं को याद दिलाते हैं और अब बिना भेदभाव मध्य प्रदेश का विकास करने में मदद मांग रहे हैं. शोभा ओझा ने कहा कि नरेंद्र मोदी दूसरे कार्यकाल में बदले नहीं हैं, केंद्र सरकार ने मध्य प्रदेश के किसानों का गेहूं नहीं खरीदा, यूरिया का कोटा कम कर दिया. यह सब देख रहे हैं, मगर कमलनाथ दबाव बनाना जानते हैं और काम करवाना जानते हैं. साथ ही केंद्र से कैसे अपने अधिकार लेने है.
Loading...

तोमर का बयान
दूसरी तरफ केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार सबका साथ सबका विकास की नीति पर चल रही है. केंद्र सरकार मध्य प्रदेश को बिना मांगे उसका हिस्सा दे रही है.हाईवे निर्माण में नितिन गडकरी का फैसला खुद साबित करता है कि केंद्र भेदभाव नहीं करता है.

ये भी पढ़ें-भोपाल-इंदौर हाईवे निर्माण में राज्य की बात मानेगा केंद्र

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 8:08 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...