उपचुनाव को लेकर कमलनाथ ने तय की जिम्मेदारियां, जातिगत आधार पर पन्ना प्रभारी नियुक्त करने के निर्देश 
Bhopal News in Hindi

उपचुनाव को लेकर कमलनाथ ने तय की जिम्मेदारियां, जातिगत आधार पर पन्ना प्रभारी नियुक्त करने के निर्देश 
पीसीसी ने पन्ना प्रभारियों की जिम्मेदारी को भी तय कर दिया है. मतदाता सूची को गांव, मोहल्ले और कॉलोनी वार बनाना होगा. (फाइल फोटो)

सह प्रभारी समन्वयक और सहायक समन्वयकों को बूथ के आधार पर विधानसभा (Assembly) की जिम्मेदारी दी गई है. सह प्रभारी को पन्ना प्रभारियों के साथ संपर्क बनाकर लगातार समीक्षा करनी होगी

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 27 विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव से पहले बीजेपी के मजबूत संगठन के मुकाबले में कांग्रेस (Congress) ने अपने संगठन को मजबूती देने का प्लान तैयार किया है. इसको लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamal Nath) ने विधानसभा प्रभारी, सह प्रभारी समन्वयक मंडलम अध्यक्ष, सेक्टर प्रभारी और पन्ना प्रभारियों के बीच कार्य का बंटवारा करके उनकी जिम्मेदारियां तय कर दी हैं. कमलनाथ ने निर्देश जारी कर विधानसभा प्रभारियों को सह प्रभारी, समन्वयक और सहायक समन्वयक को विधानसभा क्षेत्र के बूथ आवंटित करने और वहां संगठन को मजबूती देने को कहा है. विधानसभा क्षेत्र के आईटी विभाग को बूथ स्तर तक सक्रिय बनाने और व्हाट्सएप ग्रुप बनाने जैसे कुछ जरूरी काम बताए गए हैं. मंडलम की मीटिंग (Mandalam meeting) लगातार करनी होगी और उसका फीडबैक भी पीसीसी को भेजना होगा.

सह प्रभारी समन्वयक और सहायक समन्वयकों को बूथ के आधार पर विधानसभा की जिम्मेदारी दी गई है. सह प्रभारी को पन्ना प्रभारियों के साथ संपर्क बनाकर लगातार समीक्षा करनी होगी और इस बात पर नजर रखनी होगी कि मंडलम अध्यक्ष अपने सेक्टर अध्यक्षों के संपर्क में है या नहीं. इसी तरह सेक्टर अध्यक्ष को अपने सेक्टर के बूथ के पन्ना प्रभारियों से भी संपर्क रखना होगा. मंडल अध्यक्ष की जिम्मेदारी है कि मंडल के सेक्टर अध्यक्षों और बूथ के पन्ना प्रभारियों से संपर्क बनाने और हर सेक्टर का सप्ताह में दो बार दौरा करें. साथ ही पीसीसी ने सेक्टर प्रभारी को अपने सेक्टर क्षेत्र में बूथ में पन्ना प्रभारियों की नियुक्ति करने का अधिकार दिया है. लेकिन इस बात के निर्देश भी दिए गए हैं कि पन्ना क्षेत्र में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखते ही पन्ना प्रभारी की नियुक्ति करना होगी. साथ ही सेक्टर प्रभारी हर एक बूथ पर 2 बूथ लेवल एजेंट नियुक्त करेंगे.

पन्ना प्रभारियों की जिम्मेदारी
पीसीसी ने पन्ना प्रभारियों की जिम्मेदारी को भी तय कर दिया है. मतदाता सूची को गांव, मोहल्ले और कॉलोनी वार बनाना होगा. मतदाता सूची पर पूरी नजर रखनी होगी. इस बात पर भी पन्ना प्रभारियों को जिम्मेदारी दी गई है कि वह मतदाताओं से संपर्क बनाने का काम करें. कुल मिलाकर प्रदेश में होने वाले उपचुनाव में बीजेपी के मजबूत संगठन को टक्कर देने के लिए कमलनाथ ने अपनी टीम को मजबूत बनाने का प्लान बनाया है, ताकि उपचुनाव में बीजेपी को कड़ी टक्कर दी जा सके और यही कारण है कि खुद कमलनाथ विधानसभा प्रभारियों से लेकर पन्ना प्रभारियों तक काम का बंटवारा तय कर और जिम्मेदारी देने के साथ ही उन पर नजर रखने के लिए फीडबैक लेने का काम कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज