लाइव टीवी

कमलनाथ सरकार का बड़ा प्‍लान, होमगार्ड जवानों से SDRF में भरेगी दम

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 10, 2019, 10:52 AM IST
कमलनाथ सरकार का बड़ा प्‍लान, होमगार्ड जवानों से SDRF में भरेगी दम
पहले चरण में 550 होमगार्ड जवानों की गई है भर्ती.

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (State Disaster Response Force) की ताकत बढ़ाने के लिए होमगार्ड के 3000 जवानों को भर्ती करने का फैसला किया है. फिलहाल एसडीआरएफ में सिर्फ 130 जवान हैं.

  • Share this:
भोपाल. स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (State Disaster Response Force) यानी एसडीआरएफ होमगार्ड के भरोसे है. अब कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने एसडीआरएफ की ताकत बढ़ाने के लिए जो प्लान तैयार किया है, उसके तहत होमगार्ड के जवानों को ही एसडीआरएफ में भर्ती किया जाएगा. 130 फोर्स वाले एसडीआरएफ में तीन हजार होमगार्ड (Homeguard) जवानों को चरणबद्ध तरीके से भर्ती किया जा रहा है. जबकि एसडीआरएफ एडीजी डीसी सागर (DC Sagar) के मुताबिक पहले चरण में 550 होमगार्ड जवानों को भर्ती कर एक महीने की स्पेशल ट्रेनिंग दी जा रही है.

यूं बढ़ेगी एसडीआरएफ की ताकत
मध्य प्रदेश में 2019 में चाहे बाढ़ की स्थिति बनी हो या फिर दूसरी आपदा स्थितियों को नियंत्रण करने में हर बार एसडीआरएफ फेल साबित हुआ. जब सरकार के स्तर पर इसकी समीक्षा की तो पता चला कि एसडीआरएफ के महज 130 जवान पूरे प्रदेशभर में तैनात हैं. होमगार्ड के जवान भी आपदा में मदद करते हैं, लेकिन ट्रेनिंग और संसाधन नहीं होने की वजह से ये जवान भी ज्यादा कुछ नहीं कर पाते हैं. ऐसे में सरकार ने होमगार्ड के युवा जवानों को एसडीआरएफ में भर्ती करने का प्लान तैयार किया है. इसी प्लान के तहत होमगार्ड के जवानों की भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है. पहले चरण में 550 जवानों को एसडीआरएफ में भर्ती किया गया. इन्हें आपदा प्रबंधन से निपटने की ट्रेनिंग भी दी जा रही है. जबकि अगले चरण में 1100 जवानों को भर्ती किया जाएगा. कुल मिलाकर 130 फोर्स वाले एसडीआरएफ में तीन हजार होमगार्ड के जवानों की तैनाती होगी.

ये हैं फोर्स के आंकड़े

>>होमगार्ड फोर्स में कुल 13,000 जवान.
>>होमगार्ड में 2009 से भर्ती नहीं हुई.
>>SDRF में कुल 130 जवान हैं.>>NDRF में कुल 45 जवान हैं. जबकि कम फोर्स की वजह से ये जवान सिर्फ महानगरों में तैनात
>>SDRF को मजबूत करने के लिये 550 जवानों की पहले चरण में भर्ती की गई

130 जवानों से चल रहा था एसडीआरएफ
चार पहले राज्य आपदा प्रबंधन बल यानि एसडीआरएफ का गठन किया गया. इसका उद्देश्य प्रदेश में होने वाली आपदाओं में लोगों की मदद करना था. इसके लिए प्रतिनियुक्ति और संविदा पर भर्ती के नियम रखे गए. ऐसे में होमगार्ड समेत अन्य विभागों से इसमें प्रतिनियुक्ति पर पद भरना था, लेकिन नियुक्ति प्रक्रिया और होमगार्ड में भर्ती नहीं होने के कारण तीन साल में एसडीआरएफ में कुल 130 पद ही भरे जा सके हैं. हालांकि अब तक करीब ढाई हजार पद भरे जाना चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. जबकि होमगार्ड में बीते 10 साल से भर्ती नहीं होने के कारण एसडीआरएफ को कुछ नहीं मिल पाया. अब होमगार्ड के सहारे ही सरकार एसडीआरएफ को मजबूत कर रही है.

बंगलों की चाकरी करते हैं होमगार्ड जवान
होमगार्ड के जवानों को सरकारी अफसरों और राजनेताओं के बंगलों की चाकरी करते देखा जा सकता है, लेकिन सरकार इस चाकरी को कम करके होमगार्ड जवानों को एसडीआरएफ में भर्ती कर रही है. ऐसा करने से एसडीआरएफ की ताकत बढ़ेगी और आपदा के समय आम जनता को पर्याप्त मदद मिल सकेगी.

एसडीआरएफ को मिलेगी मदद
एसडीआरएफ एडीजी डीसी सागर (SDRF ADG DC Sagar) ने बताया कि पहले चरण में 550 होमगार्ड जवानों को भर्ती कर एक महीने की स्पेशल ट्रेनिंग दी जा रही है. जबकि दूसरे चरण में 1100 होमगार्ड जवानों को भर्ती किए जाने की स्वीकृति शासन से लेनी है. आपदा के समय प्रशिक्षित फोर्स की जरूरत रहती है और ऐसे में होमगार्ड के जवानों को ट्रेनिंग देकर उन्हें आपदा से निपटने की ट्रेनिंग देकर तैयार किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-

कमलनाथ के मंत्री ने शिवराज पर कसा तंज, बोले- 900 चूहे खाकर बिल्‍ली हज़ को चली

कुत्तों के 'आतंक' से लोगों को बचाने की कवायद में जुटा नगर निगम, अब करेगा ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 8:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर