Home /News /madhya-pradesh /

शिवराज सरकार ने टंट्या भील मामा के बलिदान दिवस पर आयोजित किया कार्यक्रम, कांग्रेस ने साधा निशाना

शिवराज सरकार ने टंट्या भील मामा के बलिदान दिवस पर आयोजित किया कार्यक्रम, कांग्रेस ने साधा निशाना

पूर्व सीएम ने कमल नाथ ने कहा कि भाजपा को आदिवासी वर्ग पर बात करने का कोई हक नहीं है.

पूर्व सीएम ने कमल नाथ ने कहा कि भाजपा को आदिवासी वर्ग पर बात करने का कोई हक नहीं है.

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार द्वारा टंट्या भील मामा के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त देते हुए बीजेपी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि भाजपा जिस आदिवासी वर्ग को लुभाने, साधने के लिए उनके महानायको की जयंती, बलिदान दिवस मना रही है, घोषणाएं कर रही है, कार्यक्रम आयोजित कर रही है, वह सिर्फ चुनावी एजेंडा है.

अधिक पढ़ें ...

    भोपाल. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार द्वारा टंट्या भील मामा के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बीजेपी आज जिस आदिवासी वर्ग को लुभाने ,साधने के लिए उनके महानायको की जयंती, बलिदान दिवस मना रही है, घोषणाएं कर रही है, कार्यक्रम आयोजित कर रही है, यह भाजपा का सिर्फ चुनावी एजेंडा है. उन्होंने सवालिया अंदाज में कहा कि पिछले 18 वर्षों से प्रदेश में भाजपा की सरकार है , इन 18 वर्षों में भाजपा को आज तक आदिवासी वर्ग या उनके महानायकों की कभी याद नहीं आई? रानी कमलापति, बिरसा मुंडा, टंट्या भील, राजा शंकर शाह, कुंवर रघुनाथ शाह, भीमा नायक, रानी दुर्गावती सहित इन सभी महानायकों का वर्षों का अपना गौरवशाली इतिहास है. बीजेपी को इतने वर्षों में कभी इनकी याद आई.

    पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, “वैसे भी भाजपा को तो आदिवासी वर्ग के महानायकों के गौरव दिवस या गौरव यात्रा निकालने का कोई हक नहीं है , भाजपा को तो माफी दिवस व माफी यात्रा निकालना चाहिए क्योंकि आदिवासी वर्ग इस सच्चाई को जानता है कि मध्य प्रदेश में आदिवासी वर्ग के साथ उत्पीड़न , दमन व अत्याचार की घटनाएं देश में सबसे ज्यादा होती है. इसका प्रमाण एनसीआरबी के हाल ही के आंकड़े हैं. इस रिपोर्ट के मुताबिक़ आदिवासी वर्ग के साथ उत्पीड़न की घटनाओं में प्रदेश का नाम देश में शीर्ष पर है.”

    उन्होंने आगे कहा, “प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस का अवकाश घोषित किया था और इस दिवस को मनाने के लिये 89 विकास खंडों में 1-1 लाख की राशि भी प्रदान की थी. शिवराज सरकार ने आते ही उस अवकाश को भी निरस्त कर दिया और उस राशि पर भी रोक लगा दी. यह सच्चाई भी आदिवासी वर्ग जानता है. यह वही शिवराज सरकार है ,जिसने आते ही कांग्रेस सरकार के समय आदिवासी वर्ग के हित के लिए लागू की गई योजनाओं को रोक दिया. कांग्रेस सरकार ने आदिवासी के हित ,उत्थान व कल्याण के लिए उनके जन्म से लेकर मृत्यु तक कई योजनाओं को लागू किया था और कई निर्णय लिए थे. चाहे आदिवासी वर्ग को बर्तनों के लिए राशि देने की बात हो या उनके घर में जन्म व मृत्यु के समय राशन देने की बात हो , उन सब पर भी शिवराज सरकार ने रोक लगा दी.

    पूर्व सीएम ने कहा, “भाजपा को तो वैसे भी आदिवासी वर्ग पर बात करने का कोई हक नहीं है. भाजपा के यह सब आयोजन एक इवेंट व मेगा शो की तरह है जो सिर्फ चुनावी एजेंडे के तहत , वर्ष 2023 में आने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए आदिवासी वर्ग को लुभाने व साधने के लिए किए जा रहे हैं. आदिवासी वर्ग भाजपा की इस सच्चाई को जानता है ,वह उसके किसी भी गुमराह करने वाले झांसे में आने वाला नहीं है.”

    Tags: Bhopal news, Kamal nath, Madhya pradesh news, Shivraj singh chauhan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर