लाइव टीवी

MP का सियासी संग्राम: अब अपने विधायकों को जयपुर भेजने की तैयारी में कमलनाथ
Jaipur News in Hindi

मनोज शर्मा | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 11, 2020, 9:50 AM IST
MP का सियासी संग्राम: अब अपने विधायकों को जयपुर भेजने की तैयारी में कमलनाथ
सरकार बचाने की जुगत में सीएम कमलनाथ

कांग्रेस ने कुछ महीनों पहले महाराष्ट्र के अपने विधायकों को जयपुर में ही रखा था और बाद में वहां सरकार बनाई.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में चल रही सियासी उठापटक (Madhya Pradesh Crisis) के बीच खबर आ रही है कि कांग्रेस अपने बचे हुए सभी 92 विधायकों को राजस्थान के जयपुर में शिफ्ट करने की तैयारी में है. दरअसल वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के कांग्रेस से इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने कुल 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है. ऐसे में पार्टी अपने बाकी विधायकों को बचाने की हर संभव कोशिश कर रही है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस (Congress) ने कुछ महीनों पहले महाराष्ट्र के अपने विधायकों को भी इसी जगह रखा था.

दरअसल मध्य प्रदेश में सियासी उथलपुथल का यह दौर रविवार शाम से शुरू हुआ, जब ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक माने जाने वाले 19 विधायक अपना फोन स्विच ऑफ करके बेंगलुरु के रिजॉर्ट चले गए. इसके अगले दिन यानी मंगलवार को सिंधिया ने कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. कांग्रेस ने पार्टी विरोधी गतिविधि के कारण पार्टी के महासचिव एवं पूर्ववर्ती ग्वालियर राजघराने के वंशज ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी से निष्कासित कर दिया. सिंधिया के साथ ही उनके समर्थक 22 विधायकों के इस्तीफे से राज्य की कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे.

सिंधिया को पार्टी से किया निष्कासित
कांग्रेस छोड़ने वाले 49 वर्षीय सिंधिया केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं. उनकी दादी दिवंगत विजयराजे सिंधिया इसी पार्टी में थीं. ऐसी अटकले हैं कि सिंधिया को राज्यसभा का टिकट दिया जा सकता है और उन्हें केंद्रीय मंत्री बनाया जा सकता है.



राहुल गांधी के थे बेहद करीबी


मंगलवार सुबह जब पूरा देश होली का जश्न मना रहा था, तभी सिंधिया ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके 7, लोक कल्याण मार्ग स्थित आवास पर मुलाकात की. बैठक में क्या बातचीत हुई, इस बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा गया है. हालांकि, भाजपा सूत्रों ने कहा कि सिंधिया से लंबी बातचीत करने का पार्टी के दोनों शीर्ष नेताओं का फैसला इस बात को दर्शाता है कि वे उन्हें (सिंधिया को) कितना महत्व देते हैं जिन्हें राहुल गांधी का बेहद करीबी माना जाता है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को नौ मार्च को लिखे इस्तीफा पत्र में सिंधिया ने कहा कि उनके लिए आगे बढ़ने का समय आ गया है क्योंकि इस पार्टी में रहते हुए अब वह देश के लोगों की सेवा करने में अक्षम हैं. कांग्रेस पार्टी ने कहा कि उनका पत्र सोनिया गांधी के आवास पर मंगलवार को दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर मिला. इस दिन उनके पिता और कांग्रेस नेता माधव राव सिंधिया का 75 वां जन्मदिन भी था.

ये भी पढ़ें- चचेरे भाई प्रद्युत ने कहा- राहुल गांधी से मिलने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया बहुत 'इंतजार'

MP के बाद BJP के निशाने पर राजस्‍थान! सूत्रों का दावा- संपर्क में हैं कांग्रेस के तीन दर्जन विधायक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 11, 2020, 9:09 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading