Home /News /madhya-pradesh /

अटल बिहारी वाजपेयी को 'अपना' बनाने में जुटी कांग्रेस!

अटल बिहारी वाजपेयी को 'अपना' बनाने में जुटी कांग्रेस!

Atal Bihari Vajpayee (File Photo)

Atal Bihari Vajpayee (File Photo)

Atal Bihari Vajpayee: कमलनाथ सरकार ने अटल जी के जन्मदिन को सुशासन दिवस के रूप में मनाए जाने की परंपरा को बरकरार रखने का फैसला किया है

मध्य प्रदेश में सरकार बदलते ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अपना बनाने की होड़ भी तेज़ हो गई है. एक तरफ जहां कमलनाथ सरकार ने अटल जी के जन्मदिन को सुशासन दिवस के रूप में मनाए जाने की परंपरा को बरकरार रखने का फैसला किया है. वहीं बीजेपी भी 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में मना रही है. ऐसे में अब सवाल ये उठ रहा है कि आखिर अटल जी किसके हैं?

सरकार में आते ही सीएम कमलनाथ ने भले ही शिवराज सरकार में जमें दर्जनों आईएएस अधिकारियों को हटा दिया, निगम मंडल और बोर्ड को भंग कर दिया और नगर निगमों में नियुक्त एल्डर मैन की नियुक्तियां भी रद्द कर दी लेकिन सरकार वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर मनाए जाने वाले सुशासन दिवस की परंपरा को बरकरार रखेगी. कांग्रेस के इस सियासी पैंतरे के बीच अब बीजेपी ने भी ये तय किया है कि वह 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के तौर पर मनाएगी.

दरअसल बीजेपी सरकार अटल जी के जन्मदिन को सुशासन दिवस के तौर पर मनाती आई है. इस बार कांग्रेस सरकार के सत्ता में आते ही इस बात को लेकर कयास लगाए जा रहे थे कि क्या अब सुशासन दिवस मनाया जाएगा. इस बीच कमलनाथ सरकार ने आदेश जारी कर तय किया है कि 25 दिसंबर से 30 दिसंबर के बीच पूरे प्रदेश में सुशासन दिवस मनाया जाएगा.

कांग्रेस की मानें तो बीजेपी अटल बिहारी वाजपेयी का इस्तेमाल सियासी फायदे के लिए करती आई है. विरोधियों को भी अपना बना लेने की खूबी रखने वाले अटल बिहारी वाजपेयी भले ही अब नहीं हैं लेकिन उनकी जरूरत अब बीजेपी के बाद कांग्रेस को भी लगने लगी है. ऐसे में क्या वाकई में बीजेपी और कांग्रेस के बीच उन्हें अपना बनाने की होड़ है या इसके सियासी मायने हैं. यह देखना दिलचस्प है.

यह भी पढ़ें- मीसाबंदी सम्मान निधि पर सियासत तेज, बीजेपी ने कांग्रेस को दी चेतावनी

Tags: Atal Bihari Vajpayee, Bhopal news, Madhya Pradesh Assembly, Madhya pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर