Home /News /madhya-pradesh /

karam dam leakage cm shivraj singh chouhan forms committee for inspection corrupt officials to be punished mpns

MP: धार के कारम डैम का संकट टला, अब बढ़ेगी अफसरों की मुश्किल, जानें मामला

Bhopal News: धार के कारम डैम में लीकेज की जांच के लिए जल संसाधन विभाग ने कमेटी का गठन किया है.

Bhopal News: धार के कारम डैम में लीकेज की जांच के लिए जल संसाधन विभाग ने कमेटी का गठन किया है.

MP Latest News: धार में लीक हुए कारम डैम का संकट टल गया है. लेकिन, अब प्रशासनिक अधिकारियों की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. दरअसल, सरकार अब इस मामले में बड़ा कदम उठाने जा रही है. सरकार इस डैम के निर्माण में किसी घोटाले की पुष्टि तो नहीं कर रही, लेकिन जल संसाधन के अपर सचिव की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन जरूर कर दिया है. यह कमेटी 5 दिन में अपनी रिपोर्ट शासन को देगी. इस मामले की गंभीरता इसी बात से समझी जा सकती है कि कमेटी के गठन के आदेश स्वतंत्रता दिवस यानी अवकाश के दिन जारी किए गए.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्य प्रदेश में सनसनी फैलाने वाले कारम डैम लीकेज मामले में सरकार बड़ा कदम उठा रही है. धार जिले में स्थित इस डैम के निर्माण में हुए घोटाले की जांच के लिए सरकार ने जल संसाधन के अपर सचिव की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन किया है. यह कमेटी 5 दिन में अपनी रिपोर्ट शासन को देगी. डैम के निर्माण में गड़बड़ी की जांच के आदेश सोमवार को स्वतंत्रता दिवस यानी अवकाश के दिन जारी किए. जल संसाधन विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि कारम डैम के क्षतिग्रस्त होने के संबंध में अपर सचिव जल संसाधन आशीष कुमार की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई है.

आदेश के मुताबिक, इस कमेटी में राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान क्षेत्रीय केंद्र भोपाल के वैज्ञानिक डॉ. राहुल कुमार जायसवाल, मुख्य अभियंता ब्यूरो ऑफ डिजाइन एंड हायडल, जल संसाधन भोपाल दीपक सातपुते और संचालक बांध सुरक्षा भोपाल अनिल सिंह को शामिल किया गया है. यह समिति दो बिंदुओं पर अपनी जांच रिपोर्ट देगी. पहला यह कि निर्माणाधीन कारम बांध के क्षतिग्रस्त होने की परिस्थितियां क्या थीं? इसके कारण और जिम्मेदार अधिकारियों के उत्तरदायित्व का निर्धारण कमेटी करेगी. इसके साथ ही भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसके संबंध में सुझाव, दिशा-निर्देश कमेटी को देने के लिए कहा गया है. कमेटी की सिफारिशों के बाद राज्य सरकार संबंधित अफसरों को ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई करेगी.


प्रदेश में फैल गई थी सनसनी
गौरतलब है कि जैसे ही धार के कारम डैम से पानी के लीकेज की खबर आई थी. वैसे ही पूरे प्रदेश में सनसनी फैल गई थी. वहां से पानी निकालने के लिए पैरेरल रास्ता भी निकाला गया था, लेकिन खतरा घटने के बजाए बढ़ गया. बांध स्थल पर तेजी से पानी का बहाव होने लगा था. उस वजह से मिट्टी का कटाव भी तेज हो गया था. इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने धार और खरगोन के प्रभावित गांव के लोगों से अपील की थी कि वह उस वक्त गांव में न जाएं. क्योंकि, यह खतरे से खाली नहीं. मुख्यमंत्री ने कहा था कि पशुओं को भी गांव में न रहने दिया जाए.

सीएम शिवराज परिवार के साथ पहुंचे पचमढ़ी
वहीं, कारम डैम के संकट को टालने के लिए लगातार बैठकें करने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वतंत्रता दिवस की शाम को पचमढ़ी के लिए रवाना हुए. लंबी बैठकों के बाद वह परिवार के साथ पचमढ़ी पहुंचे. बताया जा रहा है कि उनका यह निजी दौरा है. मुख्यमंत्री  पचमढ़ी में 2 दिन रह कर परिवार के साथ समय बिताएंगे.

Tags: Bhopal news, Mp news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर