होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

MP: कारम डैम लीकेज का खतरा बढ़ा, सीएम ने कहा- गांव में न जाएं लोग, यह खतरे से खाली नहीं

MP: कारम डैम लीकेज का खतरा बढ़ा, सीएम ने कहा- गांव में न जाएं लोग, यह खतरे से खाली नहीं

Bhopal News: धार के कारम डैम में लीकेज से खतरा बढ़ गया है. सीएम शिवराज ने लोगों से अपील की है कि वह गांव से दूर रहें.

Bhopal News: धार के कारम डैम में लीकेज से खतरा बढ़ गया है. सीएम शिवराज ने लोगों से अपील की है कि वह गांव से दूर रहें.

Karam Dam Leakage: मध्य प्रदेश के धार जिले में कारम नदी पर बने बांध को लेकर खतरा बढ़ गया है. इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अफसरों की इमरजेंसी मीटिंग बुलाई और जरूरी निर्देश दिए. उन्होंने धार और खरगोन के प्रभावित गांव के सभी लोगों से अपील की है कि वह इस वक्त गांव से दूर रहें. वहां जाना खतरे से खाली नहीं. मुख्यमंत्री ने पशुओं को भी गांव से दूर रखने की बात कही है. बता दें, बांध स्थल पर तेजी से पानी का बहाव हो रहा है, जिसके कारण मिट्टी का कटाव तेज हो गया है. इसके चलते हालात गंभीर हो गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्य प्रदेश के धार जिले में कारम नदी पर बने बांध को लेकर फिर से गंभीर हालात हो गए हैं. बांध स्थल पर तेजी से पानी का बहाव हो रहा है, जिसके कारण मिट्टी का कटाव तेज हो गया है. इसके चलते हालात गंभीर हो गए हैं. इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने धार और खरगोन के प्रभावित गांव के सभी लोगों से अपील की है कि वह गांव में न जाएं. सरकार ने माना कि इस समय गांव में आना खतरे से खाली नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि पशुओं को भी गांव में न रहने दिया जाए.

गौरतलब है कि रविवार दोपहर तक इस बात को लेकर राहत जताई जा रही थी कि कारम नदी पर बना डैम अब संकट से उबर आया है और जल्दी लोगों को सुरक्षित अपने गांव में वापसी करने का मौका मिलेगा. लेकिन दोपहर ढलने के साथ ही मिट्टी के कटाव की मिल रही खबरों के बाद हालात और बिगड़ते हुए नजर आए. राज्य सरकार ने तत्काल धार और खरगोन जिला प्रशासन को अलर्ट जारी करते हुए लोगों को गांव नहीं जाने के निर्देश जारी किए. इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में पहुंचकर अफसरों के साथ बैठक की. इस बैठक में सिंचाई परियोजना और बांध से जुड़े मामलों को लेकर फीडबैक लिया.

सीएम ने दिए थे ये जरूरी निर्देश
बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि यह सुखद है कि पानी की निकासी कल शाम से जिस गति से शुरू हुई थी उसमें तेजी आई है. बांध को सुरक्षित करने के प्रयास में सफलता मिल रही है. सरकार की प्रतिबद्धता है कि जनता की जिंदगी को सुरक्षित किया जाए. मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में सिचुएशन रूम में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बेस, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एसएन मिश्रा और डीजीपी सुधीर सक्सेना के साथ बैठक कर धार जिले में बांध प्रभावितों के रहवास और भोजन के लिए निर्देश जारी किए.

प्रशासन आ गया तनाव में
सरकार ने माना था कि शनिवार तक लगभग 10 क्यूसेक पानी डैम से निकल रहा था, जो रविवार को साढ़े तीन गुना बढ़कर 35 क्यूसेक हो गया. प्रशासन ने पानी के इस बहाव को और तेज करने पर विचार शुरू किया. अधिकारियों को आशा थी कि एक बार पानी की निकासी शुरू होने के बाद मिट्टी की दीवार चौड़ी होने से पानी ज्यादा मात्रा में निकलेगा. लेकिन, साइड वॉल के कारण अपेक्षित पानी बाहर नहीं गया. अधिकारियों की कोशिश थी कि बांध से जल्द से जल्द अधिक से अधिक पानी निकालकर उसे सुरक्षित बनाया जाए, लेकिन दोपहर बाद जो रिपोर्ट निकल कर आई उसके बाद फिर पूरा प्रशासन अलर्ट पर आ गया.

Koo App

धार के निर्माणाधीन कारम बांध के कारण उत्पन्न हुआ अप्रत्याशित संकट टल गया है। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और गृहमंत्री श्री अमित शाह जी का लगातार मार्गदर्शन मिलता रहा। पानी की निकासी के कार्य में लगी पूरी टीम और खरगोन व धार जिले के 18 गांव की जनता को हृदय से बधाई:CM

CM Madhya Pradesh (@CMMadhyaPradesh) 14 Aug 2022

लोगों से गांव में न जाने की अपील- सीएम
इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार शाम को फिर वल्लभ भवन में बने कंट्रोल रूम पहुंचे. मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव और पूरी टीम से फीडबैक लिया. उन्होंने धार और खरगोन के प्रभावित गांव के सभी लोगों से अपील की है कि वह गांव में न जाएं. उन्होंने कहा कि लोगों को सुरक्षित रखने के लिए यह जरूरी है. सरकार ने माना है कि इस समय गांव में आना खतरे से खाली नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि पशुओं को भी गांव में न रहने दिया जाए. मुख्यमंत्री ने सभी निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से इसमें सहयोग करने की अपील की. वहीं शाम ढलने के बाद मुख्यमंत्री ने एक बार फिर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से बात कर डैम से निकाले जा रहे पानी के हालातों की जानकारी दी.

Tags: Bhopal news, Mp news

अगली ख़बर