• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Bhopal: कमलनाथ का ऐलान- कृषि कानूनों के खिलाफ 16 जनवरी को कांग्रेस का किसान सम्मेलन

Bhopal: कमलनाथ का ऐलान- कृषि कानूनों के खिलाफ 16 जनवरी को कांग्रेस का किसान सम्मेलन

किसानों के आंदोलन (Kisan Andolan) को लेकर पूर्व CM कमलनाथ ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है.. (फाइल फोटो)

किसानों के आंदोलन (Kisan Andolan) को लेकर पूर्व CM कमलनाथ ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है.. (फाइल फोटो)

Kisan Andolan: पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि केंद्र सरकार का नया कृषि कानून MSP खत्म करने वाला है. केंद्र सरकार कृषि क्षेत्र का निजीकरण कर रही है.

  • Share this:
भोपाल. देश में जारी किसान आंदोलन (Kisan Aandolan) के बीच कांग्रेस ने भाजपा पर बड़ा हमला बोला है. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि केंद्र सरकार का नया कृषि कानून MSP खत्म करने वाला है. केंद्र कृषि क्षेत्र का निजीकरण कर रही है. इसके खिलाफ कांग्रेस 16 जनवरी से छिंदवाड़ा में किसान सम्मेलन आयोजित करेगी. इसके बाद एक बड़ा सम्मेलन 20 जनवरी को होगा.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार किसानों को खत्म करने का काम कर रही है. केंद्र सरकार के कानून की बुनियाद कमजोर है. उन्होंने कहा कि इस कानून का केवल हम ही विरोध नहीं करे रहे, बल्कि NDA के घटक दल भी कर रहे हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश देश में सबसे ज्यादा गेहूं पैदा करने वाला राज्य है. केंद्र सरकार के इस कानून से कॉन्ट्रेक्ट फॉर्मिंग के लिए किसान मजबूर हो जाएगा. अभी प्रदेश में 20 फीसदी लोगो को ही MSP का फायदा मिलता है. इससे सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश के किसान प्रभावित होंगे. इसलिए किसानों को जागरूक करने के लिए किसान सम्मेलन की शुरुआत 16 जनवरी से छिंदवाड़ा में होगी और फिर एक बड़ा सम्मेलन 20 जनवरी को होगा.

दिल्ली जाने के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि वे कहीं नहीं जाएंगे. मध्य प्रदेश ही उनकी कर्मभूमि है. कमलनाथ ने आराम करने के मामले पर कहा कि फिलहाल उनकी ऐसी कोई योजना नहीं है.

कांग्रेस के किसान सम्मेलन को शेड्यूल

1- 7 से 15 जनवरी तक कांग्रेस करेगी किसान सम्मेलन

2- 15 जनवरी को किसानों तक साथ चक्काजाम

3- 12 से 2 बजे तक होगा चक्काजाम

4- 20 जनवरी को मुरैना में किसान सम्मेलन होगा

5- 23 जनवरी को होगा राजभवन का होगा घेराव

पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के पोतेनए कृषि कानूनों  के समर्थन में 
उधर, पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri) के पोते संजय नाथ सिंह (Lal Bahadur Shastri) नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) के समर्थन में आए हैं. नाथ के नेतृत्व वाली ‘ऑल इंडिया फार्मर्स एसोसिएशन’ (All India Farmers Association) ने बुधवार को तीन नए कृषि कानूनों को अपना समर्थन जताया है. खास बात है कि इन नए कानूनों के चलते 40 किसान संगठन एक महीने से ज्यादा समय से राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) के माध्यम से सिंह ने केन्द्र सरकार को कुछ सुझाव दिए, जो प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के साथ आठ जनवरी को होने वाली बातचीत में मददगार साबित हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि एआईएफए ने कृषि अनुबंधों की निगरानी के लिए एक स्वतंत्र नियामक संस्था स्थापित करने, कृषि उत्पादों की खरीद और बिक्री में मूल्य की निगरानी के लिए मूल्य नियामक प्राधिकरण बनाने और अनुबंध समझौतों के प्रावधानों को लागू करने सहित अन्य सिफारिश की है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज