जानिए क्यों, गजट नोटिफिकेशन के सात माह बाद भी नहीं शुरू हो पाया यह VIP थाना

राजधानी भोपाल में वीआईपी इलाके में एक थाना जमीन नहीं मिल पाने की वजह से शुरू नहीं हो सका है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:23 AM IST
जानिए क्यों, गजट नोटिफिकेशन के सात माह बाद भी नहीं शुरू हो पाया यह VIP थाना
भोपाल में वीआईपी इलाके में एक थाना जमीन नहीं मिल पाने की वजह से शुरू नहीं हो सका है
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 11, 2019, 11:23 AM IST
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में वीआईपी इलाके में एक थाना जमीन नहीं मिल पाने की वजह से शुरू नहीं हो सका है. इस थाने का वर्ष 2019 की जनवरी 9 में गजट नोटिफिकेशन हो चुका है और यहां तैनात किए जाने वाले बल को भी स्वीकृति मिल चुकी है. गौरतलब है कि इस थाने के लिए सब इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी को एसएचओ बनाया जाएगा. इसके अलावा यहां दो एएसआई, छह हवलदार और 21 सिपाही स्वीकृत किए गए हैं. इन सबके बावजूद सात महीने बीत जाने के बाद भी थाने को शुरू नहीं किया जा सका है. राज्य पुलिस की निगाह विधायक विश्राम गृह पर है. यह एक राजनेता को अलॉट किया जा चुका है. वहीं दूसरी ओर इस मकान को पुलिस थाने के लिए दिए जाने पर सहमति नहीं बन पाई है.

पुलिस की नजर एक राजनेता को अलॉट मकान पर है

वीआईपी थाना-VIP Thana
इस थाने का वर्ष 2019 की जनवरी 9 में गजट नोटिफिकेशन हो चुका है और यहां तैनात किए जाने वाले बल को भी स्वीकृति मिल चुकी है.


राज्य पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार नया थाना खोले जाने से वीआईपी लोगों को बेहतर सुरक्षा दी जा सकेगी. वहीं दूसरी ओर जहांगीराबाद थाने पर दबाव भी कम होगा. इस थाने को वीआईपी के नाम से जाना जाएगा. इस थाने के लिए पहले विधायक आवास स्थित चौकी को अपग्रेड किया गया था और यह दावा किया गया था कि लोकसभा चुनाव के बाद यह थाना काम करना शुरू कर देगा. विधानसभा प्रमुख सचिव एपी सिंह ने बताया कि नए थाने के लिए पहले पुरानी विधानसभा के गेट के पास स्थान दिया गया था. इस जगह को लेकर पुलिस ने किन्हीं वजहों से असहमति जताई.

यूं बंटेगा जहांगीराबाद थाना

इस वीआईपी थाने के शुरू होने के बाद जहांगीराबाद थाने को दो हिस्सों में बांटा जाएगी. जेल पहाड़ी से पुलिस कंट्रोल रूम तिराहा वाली मुख्य सड़क से रोशनपुरा और मालवीय नगर का पूरा हिस्सा वीआईपी थाना क्षेत्र का हिस्सा होगा. इसमें एमवीएम, जनसंपर्क कार्यालय, पुराना कांग्रेस कार्यालय भी शामिल रहेगा. थाना जहांगीराबाद में कंट्रोल रूम तिराहा से जेल मुख्यालय की ओर जाने वाली मुख्य सड़क से जिंसी, बरखेड़ी, पुलिस मुख्यालय, नीलम पार्क आदि क्षेत्र होगा.

गौरतलब है कि अबतक अतिसुरक्षित सरकारी इमारतें जहांगीराबाद थाना क्षेत्र में आती थीं. यहां आए दिन होने वाले धरना-प्रदर्शन में ही पुलिस व्यस्त रहती है और यहां की कानून व्यवस्था का ज्यादा ख्याल नहीं रख पाती है. यही वजह है कि यहां एक और थाने की जरूरत महसूस की गई है.
Loading...

यह भी पढ़ें: अपना ही पैसे मांगना पड़ा महंगा, बुजुर्ग को किया लहूलुहान

भोपाल: 94 दागी पुलिसकर्मी 60 दिनों तक सीखेंगे अच्छे व्यवहार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...