लाइव टीवी

मोदी को जिस नेता ने भी गाली दी वह गहरे गड्ढे में गया: शिवराज सिंह चौहान

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 23, 2019, 10:26 PM IST
मोदी को जिस नेता ने भी गाली दी वह गहरे गड्ढे में गया: शिवराज सिंह चौहान
शिवराज सिंह चौहान ने कहा- किसानों के खातों में जब पैसे जमा किए जाएंगे तभी वे संतुष्ट होंगे. (फाइल फोटो)

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जानना चाहा कि हजारों सिख भाई-बहनों का कत्लेआम किसने किया था ? उस समय किस पार्टी के नेता मॉब लिंचिंग के लिए निकले थे ?

  • Share this:
प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को यूएई (UAE) की सरकार अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान (Highest civilian honor) से सम्मानित कर रही है. मोदी जी आज विश्व के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता हैं. आज केवल भारत (India) ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया (World) उनका सम्मान कर रही है. ये सब कहने के दैरान उन्होंने कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांध (Sonia Gandhi) के साथ ही प्रदेश में कमलनाथ (Kamal Nath) की सरकार और पूरे विपक्ष पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि मोदी को गाली देने वाली पार्टियां या नेता सभी गहरे गड्ढे में चले गए. उन्होंने कहा कि ये सब आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और बिहार में देखा जा सकता है.




किस पार्टी के नेता मॉब लिंचिंग के लिए निकले थे ?
भोपाल में मीडिया से मुखातिब होने के दौरान शिवराज ने कांग्रेस (Congress) की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी पर भी हमला बोला. बता दें कि हाल में सोनिया गांधी ने राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की 75 वीं जयंती के समारोह में कहा था कि 1984 में राजीव गांधी ने पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी. लेकिन तब देश में भय का माहौल नहीं बनने दिया गया था. इस पर शिवराज ने जानना चाहा कि हजारों सिख भाई-बहनों का कत्लेआम किसने किया था ? उस समय किस पार्टी के नेता मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) के लिए निकले थे ? उन्होंने कहा कि तब लोगों को जिंदा जला दिया गया था. ये सब आतंक (Terror) की पराकाष्ठा नहीं थी तो और क्या थी ?
Loading...

'किसान डिफॉल्टर बन गए हैं'
वहीं प्रदेश में कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) पर हमला बोलते हुए शिवराज ने कहा कि वह मुख्यमंत्री की किसानों के नाम अखबारों में लंबी-चौड़ी चिट्ठी देखकर हैरान हैं. उन्होंने कहा कि किसानों (Farmers) को चिट्ठी नहीं बल्कि कर्जमाफी (Debt waiver) चाहिए. उन्होंने कहा कि जिन किसानों का कर्ज माफ नहीं किया गया वे डिफॉल्टर बन गए हैं. ऐसे में उन्हें अब 14 प्रतिशत ब्याज देना पड़ रहा है. शिवराज ने कहा कि वह जानना चाहते हैं कि ये ब्याज कौन भरेगा ? शिवराज ने कहा कि कर्जमाफी की बात तो दूर की है. कमलनाथ सरकार ने मक्के और सोयाबीन के 500 रुपये प्रति क्विंटल खा गई. साथ ही धान का बोनस भी खा गई. शिवराज ने कहा कि चिट्ठियों से कुछ नहीं होने वाला है. किसानों के खातों में जब पैसे जमा किए जाएंगे तभी वे संतुष्ट होंगे.

ये भी पढ़ें - चेक बुक चुराकर 2 करोड़ की धोखाधड़ी की रची साजिश

ये भी पढ़ें - विदाई समारोह में भावुक हुए शिक्षक,दोनों गुरु-शिष्य रो पड़े

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 4:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...