होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /सब गोलमाल है! यहां बिना कर्ज़ लिए ही किसान हो गए माफ़ी के हक़दार

सब गोलमाल है! यहां बिना कर्ज़ लिए ही किसान हो गए माफ़ी के हक़दार

किसान(फाइल फोटो)

किसान(फाइल फोटो)

होशंगाबाद ज़िले की सहकारी समिति में ऐसे दर्जनों मामले हैं. सवाल यह उठता है कि आखिर लाखों रुपये का जो कर्ज़ इन किसानों क ...अधिक पढ़ें

    मध्य प्रदेश में कमल नाथ सरकार के किसानों की कर्ज़ माफी का ऐलान करने के बाद सहकारी बैंको में करोड़ों के घोटाले उजागर हो रहे हैं. ये घोटाला शिवराज सरकार के दौरान ऋण वितरण में किया गया था, जिसकी पोल अब खुल रही है. किसानों को पता भी नहीं चला और उसके नाम पर सहकारी बैंकों से करोड़ों का कर्ज़ ले लिया गया. कर्ज़ माफी की सूची जब पंचायत दफ़्तरों पर लगी तब एक के बाद एक सिलसिलेवार इस घोटाले का खुलासा हो रहा है.

    होशंगाबाद ज़िले में सहकारी समिति के दफ़्तर में महुआखेड़ा गांव के सैकड़ों किसानों के साथ छल की लंबी कहानी लिखी गई है. जीवन नाम के बुज़ुर्ग किसान की जिंदगी दिन-रात मेहनत कर गुज़र गई. बुढ़ापे में पता चला कि उसकी वो मां भी कर्ज़दार है, जिसकी 17 साल पहले मौत हो चुकी है. कर्ज़ माफी की सूची सामने आने के बाद समिति के कर्ताधर्ता मामले को रफा-दफा करने का दबाव बना रहे हैं.

    ये भी पढ़ें - कमलनाथ सरकार का फैसला : कर्ज़ घोटाला करने वाले सहकारी बैंकों के खिलाफ होगी FIR

    500 किसानों के नाम पर फर्जी तरीके से निकाला लोन, कर्जमाफी योजना में हो गया माफ

    दरअसल, प्रदेश में हर ग्राम सभा में कर्ज़दार किसानों की लिस्ट लगाई है. अब लिस्ट में नाम देख-देख कर किसान परेशान हो रहे हैं. इसी इलाके में गणेश राम, श्याम सुंदर नाम के किसान भी हैं. गणेश राम कहते हैं कि हमने कर्ज़ लिया ही नहीं, फिर भी माफ़ी की सूची में हमारा नाम आ गया. अब समिति बोल रही है कि गलती से आपका नाम आ गया है. गुलाबी फॉर्म भर देना. श्याम सुंदर की भी यही कहानी है. वो कहते हैं हमने अपने पिता औऱ मां के नाम से 2009 में कर्ज़ लिया था जो चुका भी दिया, फिर भी हम कर्ज़माफी की सूची में हैं. समिति कह रही है एक लाख रुपए हम आपको वापस दे देंगे. गुलाबी फॉर्म भर दो.

    ये भी पढ़ें - कमलनाथ के मंत्री बोले - व्यापम से भी बड़ा हो सकता है शिवराज सरकार का लोन घोटाला

    होशंगाबाद ज़िले की सहकारी समिति में ऐसे दर्जनों मामले हैं. सवाल ये उठता है कि आखिर लाखों रुपये का जो कर्ज़ इन किसानों के नाम पर लिया गया था, वह किसकी जेब में गया. चाहे वे गणेश हों, गुलाब हों या फिर जीवन सबका कहना है कि उन्होंने एक रुपये का कर्ज़ भी नहीं लिया.

    Tags: Bad loan, Bank Loan, Farmer push, Kamal nath, Loan waiver, Madhya pradesh news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें