लाइव टीवी

बैतूल में जाति विवाद से नहीं पड़ा फर्क, बीजेपी के दुर्गादास जीते

News18 Madhya Pradesh
Updated: May 23, 2019, 4:30 PM IST
बैतूल में जाति विवाद से नहीं पड़ा फर्क, बीजेपी के दुर्गादास जीते
दुर्गादास उइके

बीजेपी कैंडिडेट दुर्गादास उइके की जीत में मोदी फैक्टर तो अहम रहा ही उसके साथ ही उनका लोकप्रिय होना भी मददगार रहा.

  • Share this:
बैतूल हरदा लोकसभा क्षेत्र में लगातार 8वीं बार भाजपा ने जीत दर्ज कर इतिहास रच दिया है. यहां भाजपा के प्रत्याशी दुर्गादास उइके ने धमाकेदार जीत दर्ज की है. दुर्गादास 3 लाख की अजेय बढ़त लेकर जीत गए. जीत के बाद उइके ने कहा कि वो अपने चुनावी वादे प्राथमिकता से पूरे करेंगे. इस सीट पर उनका मुकाबला कांग्रेस के रामू टेकाम से था.

बैतूल लोकसभा सीट पर इस बार 78.20 फीसदी वोट पड़े थे, जबकि 2014 में ये 66.48 फीसदी था. बैतूल सीट से कांग्रेस के रामू टेकाम सीएम कमलनाथ के खास माने जाते हैं. उनके प्रचार के लिए कमलनाथ ने पूरे संसदीय क्षेत्र में सभाएं की थीं.

इस बार बैतूल सीट पर जल संकट सबसे बड़ा मुद्दा था. लोग कहते थे पानी नहीं तो वोट नहीं! पानी की दिक्कत के कारण पलायन का मुद्दा उठ रहा था. उद्योग धंधे और रोज़गार की कमी है. औद्योगिक क्षेत्र सारणी बदहाली से गुजर रहा है. कोयले की कमी के कारण कई यूनिट हुई बंद हुईं तो ये भी बड़ा इश्यू बन गया. बैतूल घने जंगल औऱ प्राकृतिक संपदा से भरपूर होने के बावजूद पिछड़ा इलाका है.

ये भी पढ़ें-भोपाल : दिग्विजय सिंह पर आख़िर कौन-से मुद्दे पड़े भारी

बीजेपी कैंडिडेट दुर्गादास उइके की जीत में मोदी फैक्टर तो अहम रहा ही उसके साथ ही उनका लोकप्रिय होना भी मददगार रहा. उइके अखिल भारतीय गायत्री परिवार के सक्रिय और वरिष्ठ कार्यकर्ता हैं और जिले में लगभग ढाई लाख सदस्य गायत्री परिवार से जुड़े हुए हैं. इसी के साथ वो आरएसएस के सक्रिय कार्यकर्ता हैं और साफ-सुथरी औऱ सम्मानजनक छवि है. वो अच्छे वक्ता,लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता हैं.

ये भी पढ़ें-PHOTOS : जश्न में डूबी बीजेपी, कांग्रेस दफ्तर में सन्नाटा

पार्टी ने उन्हें सिटिंग सांसद ज्योति धुर्वे का टिकट काटकर मैदान में उतारा था. जाति प्रमाणपत्र विवाद के कारण धुर्वे का पत्ता साफ हुआ था. दुर्गादास उइके आदिवासी समुदाय के प्रधान गोत्र के हैं.उइके की राह कठिन मानी जा रही थी. विधानसभा चुनाव में बैतूल की 5 में से 4 सीटों पर भाजपा को करारी शिकस्त मिली थी. इसलिए महौल कांग्रेस के पक्ष में लग रहा था. सीएम कमलनाथ की क्षेत्र में लगातार सक्रियता ने भी बीजेपी की चिंता बढ़ा दी थी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2019, 3:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर