बैन के दौरान साध्वी प्रज्ञा पर प्रचार करने का लगा आरोप, चुनाव ओयोग ने मांगा जवाब

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर

साध्वी प्रज्ञा के इस बयान का चुनाव आयोग ने तुरंत संज्ञान लेते हुए उन्हें चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का नोटिस जारी किया था. जिसका संतुष्टिजनक जवाब न मिलने पर चुनाव आयोग ने कार्रवाई की थी.

  • Share this:
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की भोपाल लोकसभा सीट से प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर बैन के दौरान चुनाव प्रचार करने का आरोप लगा है. इस मामले को लेकर भोपाल जिले के निर्वाचन अधिकारी ने उनसे जवाब मांगा है. बता दें कि 1 मई को साध्वी प्रज्ञा पर चुनाव आयोग ने 72 घंटों के लिए प्रतिबंध लगाया था. ये बैन गुरुवार सुबह 6 बजे से प्रभावी था.



बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ने एक इंटरव्यू में बाबरी मस्जिद में अपनी अहम भूमिका पर भी प्रकाश डालते हुए कहा था कि वो न सिर्फ बाबरी मस्जिद के ऊपर चढ़ी थीं, बल्कि उसे गिराने में भी मदद की थी. उन्होंने कहा, 'मैंने ढांचे पर चढ़कर उसे तोड़ा था. मुझे गर्व है कि ईश्वर ने मुझे अवसर दिया और शक्ति दी और मैंने यह काम कर दिया. अब वहीं राम मंदिर बनाएंगे.'



साध्वी प्रज्ञा के इस बयान का चुनाव आयोग ने तुरंत संज्ञान लेते हुए उन्हें चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का नोटिस जारी किया था. जिसका संतुष्टिजनक जवाब न मिलने पर चुनाव आयोग ने कार्रवाई की.





तीन दिन के प्रतिबंध पर साध्वी प्रज्ञा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा था. ''कोई बात नहीं. मैं तो उसका सम्मान करती हूं''.
गुरुवार को बैन की समय सीमा शुरू होते ही प्रज्ञा ठाकुर ने मौन धारण कर लिया और मंदिरों का रुख़ किया. वो भोपाल के रिवेरा टाउन शिप में हनुमान मंदिर गयीं. वहां, हनुमान चालीसा का पाठ किया और मंडली भजन-कीर्तन में भी शामिल हुईं.



प्रज्ञा ने उसके बाद पुराने भोपाल के चौक में स्थित भवानी मंदिर में जाकर आशीर्वाद मांगा. बाद में वो गुफा मंदिर, साईं और दत्त मंदिर भी गयीं थीं. गुरुवार को कुल मिलाकर उन्होंने करीब आधा दर्जन मंदिरों में दर्शन किए थे.



ये भी पढ़ें:



बीजेपी प्रत्याशी की धमकी-बंदूक की नोंक पर मदद करना जानता हूं



 अरुण जेटली बोले- डिफेंस डीलर बनने की तमन्ना रखने वाला आज बनना चाहता है PM

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज