सरकार किसी की भी बने, एग्जिट पोल ने तोड़ा शिवराज सिंह चौहान का सबसे बड़ा सपना!

Madhya Pradesh Elections: अब सरकार किसी की भी बने लेकिन जो एक खास बात रही वह यह कि एग्जिट पोल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का एक सपना तोड़ दिया.

Gaurav Pandey | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:30 PM IST
सरकार किसी की भी बने, एग्जिट पोल ने तोड़ा शिवराज सिंह चौहान का सबसे बड़ा सपना!
शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)
Gaurav Pandey | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:30 PM IST
मध्य प्रदेश का विधानसभा चुनाव 2018 कई मायनों में अलग तो रहा ही अब एग्जिट पोल के नतीजों ने भी सबको चौंकाकर सस्पेंस में डाल दिया है. एग्जिट पोल के नतीजे आ गए हैं, और नतीजों ने सस्पेंस बरकरार रखा है. मध्‍य प्रदेश के लिए ज्‍यादातर एग्जिट पोल में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ा मुकाबला बताया जा रहा है. अब सरकार किसी की भी बने लेकिन जो एक खास बात रही वह यह कि इन नतीजों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का एक सपना तोड़ दिया.

दरअसल, पूरे चुनावी कैम्पेन में बीजेपी और शिवराज सिंह चौहान का एक ही नारा था कि 'अबकी बार 200 पार'. मतदान के दिन तक बीजेपी के सभी बड़े नेता 200 सीटों के आंकड़े को पार करने की बात करते रहे लेकिन मतगणना के दिन बढ़े मत प्रतिशत ने ही नेताओं का जोश ठंडा कर दिया था और अब एग्जिट पोल के नतीजों से 'अबकी बार 200 पार' के दावे की हवा निकल गई. किसी भी सर्वे ने बीजेपी को इतनी सीटें नहीं दी हैं.

मध्य प्रदेश में सरकार बनाने के लिए 116 सीटों की जरूरत हैं. टाइम्‍स नाउ-सीएनएक्‍स के मुताबिक बीजेपी को 126, कांग्रेस को 89 व अन्य को 15 सीटें मिल रही हैं. इंडिया टुडे-एक्सिस के अनुसार बीजेपी को 102-120, कांग्रेस को 104-122, न्‍यूजएक्‍स-नेता के मुताबिक बीजेपी को 106, कांग्रेस को 112 व अन्य को 12 सीटें मिलने का अनुमान है. रिपब्लिक सी-वोटर के मुताबिक एमपी में बीजेपी को 106, कांग्रेस को 110-126 व अन्‍य के खाते में 6-12 सीटें जाने का अनुमान है.



मतगणना के दिन भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 200 सीटें जीतने का दावा किया था. वोट डालने के बाद शिवराज ने कहा था कि यह वोट किसी एक शख्स के लिए नहीं, बल्कि पूरे मध्य प्रदेश के लिए हैं. वोटिंग मध्य प्रदेश का भविष्य तय करेगी. खास बात यह है कि शिवराज की पत्नी साधना सिंह ने भी बुधनी में चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि इस बार शिवराज का चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का सपना पूरा होगा.

अब एग्जिट पोल के नतीजे तो आ गए, लेकिन 11 दिसंबर को होने वाली मतगणना न सिर्फ मध्य प्रदेश के राजनीतिक भविष्य को तय करेगी बल्कि शिवराज सिंह चौहान के राजनीतिक सफर के लिए भी निर्णायक साबित होगी. इस चुनाव में अबकी बार 200 पार के नारे के साथ चुनाव प्रचार करने वाली बीजेपी कितना सही साबित होगी यह भी उसी दिन पता चलेगा.

यह भी पढ़ें- वोट डालने के बाद बोले शिवराज, '200 पार का लक्ष्य जरूर होगा पूरा'
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->