भोपाल: ब्रिटिश नागरिक सोहेल को लेकर पुलिस का बड़ा खुलासा, घूमने नहीं, धर्म प्रचार करने आया था भारत
Bhopal News in Hindi

भोपाल: ब्रिटिश नागरिक सोहेल को लेकर पुलिस का बड़ा खुलासा, घूमने नहीं, धर्म प्रचार करने आया था भारत
ब्रिटिश नागरिक सोहेल को लेकर MP पुलिस का खुलासा (फाइल फोटो)

सोहेल की गिरफ्तारी पर कांग्रेस नेता विवेक तन्खा ने आपत्ति जताई है. उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) को चिट्ठी लिखी है. साथ में उन्होंने ट्वीट भी किया है. तन्खा के अनुसार सोहेल जो ब्रिटिश नागरिक हैं, लॉकडाउन के दौरान भोपाल में था. उसे बेवजह एक धार्मिक स्थल से गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जमातियों (Jamaati) के साथ गिरफ्तार हुए ब्रिटिश नागरिक सोहेल (British Citizen Sohail) को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. पुलिस ने दावा किया है कि उसके पास इस बात के सबूत हैं कि सोहेल भारत घूमने के लिए नहीं, बल्कि धार्मिक प्रचार करने के लिए आया था. भोपाल की मस्जिद में लंबे समय तक रुक कर उसने धार्मिक प्रचार प्रसार किया. सोहेल टूरिस्ट वीजा पर आकर भोपाल में धार्मिक प्रचार प्रसार कर रहा था और जमातियों के साथ काफी समय से रुका था. कोरोना से जुड़ी सावधानी भी उसके के द्वारा नहीं बरती गई थी. सोहेल ने टूरिस्ट विजा का गलत इस्तेमाल किया. भोपाल जोन ADG उपेंद्र जैन ने सोहेल के खिलाफ सबूत होने का दावा किया है. उन्होंने कहा कि इन्वेस्टिगेशन पूरा होने पर चार्जशीट कोर्ट में पेश की जाएगी.

ये है पूरा मामला
भोपाल पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान जिन जमातियों को गिरफ्तार किया था, उनमें ब्रिटिश नागरिक सोहेल भी शामिल है. यह मामला भोपाल के श्यामला हिल्स थाना इलाके का था. श्यामला हिल्स थाना पुलिस ने बताया कि दिल्ली मरकज से सोहेल समेत 12 जमाती भोपाल आए थे. इनमें दो जमाती असम के थे, बाकी 10 विदेशी जमाती थे. इन सभी को रुस्तम खाता स्थित मस्जिद में धार्मिक प्रचार प्रसार करते हुए गिरफ्तार किया गया. सभी की जांच की गई. इनमें से साउथ अफ्रीका निवासी सुलेमान पॉजिटिव पाया गया. उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया. बाकी 11 जमाती को ताजुल मसाजिद मस्जिद में क्वॉरेंटाइन किया गया. इसके बाद में 11 में से जांच के बाद 5 कोरोना पोजिटिव निकले. इन जमाती के साथ मस्जिद के इमाम और सदर को भी आरोपी बनाया गया था. कुल 14 आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया. जहां उनके वकील पेश हुए. कोर्ट ने उनकी जमानत को खारिज किया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भोपाल जेल भेज दिया. पुलिस के अनुसार टूरिस्ट वीजा से सिर्फ घूम सकते हैं, उससे किसी भी तरीके का धार्मिक प्रचार-प्रसार नहीं कर सकते हैं. सभी जमाती धार्मिक प्रचार प्रसार में शामिल हुए थे. लॉकडाउन के दौरान सरकारी आदेशों का भी पालन नहीं किया. इसलिए आईपीसी की धारा 188, 269 270, महामारी के लिए बने एक्ट, विदेशी अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया था.

विवेक तन्खा ने सीएम को लिखा था पत्र



सोहेल की गिरफ्तारी पर कांग्रेस नेता विवेक तन्खा ने आपत्ति जताई है. उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखी है. साथ में उन्होंने ट्वीट भी किया है. तन्खा के अनुसार सोहेल जो ब्रिटिश नागरिक हैं, लॉकडाउन के दौरान भोपाल में था. उसे बेवजह एक धार्मिक स्थल से गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया. उस पर जो एफआईआर दर्ज हुए उसमें दो बातें कही गई हैं. एक तो उसने कोरोना फैलाया है, दूसरी वीजा का उल्लंघन किया है. तन्खा ने कहा कि सोहेल की अब तक जितनी भी जांच हुई हैं उनमें उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है तो उसने कैसे कोरोना फैलाया.



सोहेल के लिए अभियान
सोहेल की पत्नी और बहन ने यूके में हस्ताक्षर अभियान चलाया है. इस अभियान में उसे रिहा करने की अपील की गई है. सोहेल को लेकर राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने डीजीपी को ट्वीट भी किया है. तन्खा ने मांग की है कि जेल में बंद ब्रिटिश नागरिक सोहेल को छोड़कर उसके देश भेजा जाए. सोहेल की बहन आतिका ने आरोप लगाए हैं कि सोहेल का पासपोर्ट ले लिया गया. जबरिया मस्जिद में रखा गया. वो कई बार की जांच में निगेटिव आया, फिर भी उसे जेल भेज दिया गया. तन्खा ने मामले को वापस लेने के साथ सोहेल को यूके भेजने की बात की थी.

बीजेपी ने तन्खा पर साधा निशाना
विवेक तन्खा की चिट्ठी और डीजीपी को ट्वीट के बाद बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा इस मामले से लग रहा है कि विवेक तन्खा को भारतीय न्याय व्यवस्था पर विश्वास नहीं है. कांग्रेस तुष्टीकरण की राजनीति करती है. यदि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार होती तो यहां पर जमाती खुलेआम घूमते और भोपाल गैस जैसी त्रासदी का मंजर देखने को मिलता. पुलिस ने वैधानिक काम किया है और न्याय व्यवस्था पर सभी को विश्वास रखना चाहिए.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश उपचुनाव जीतने के लिये कमलनाथ का PLAN-M, 24 सीटों पर उतारे पूर्व मंत्री
First published: May 27, 2020, 5:24 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading