Home /News /madhya-pradesh /

मध्यप्रदेश बजट 2016-17 : पढ़ें, क्या हुआ महंगा और क्या हुआ सस्ता

मध्यप्रदेश बजट 2016-17 : पढ़ें, क्या हुआ महंगा और क्या हुआ सस्ता

मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने शुक्रवार को विधानसभा में प्रदेश का बजट पेश किया. बजट 2016-17 में सरकार ने अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कई वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाया.

मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने शुक्रवार को विधानसभा में प्रदेश का बजट पेश किया. बजट 2016-17 में सरकार ने अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कई वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाया.

    मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने शुक्रवार को विधानसभा में प्रदेश का बजट पेश किया. बजट 2016-17 में सरकार ने अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कई वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाया.

    पेट्रोल-डीजल पर टैक्स फिक्स करने के बाद सरकार द्वारा लग्जरी चीजों पर लगा टैक्स भी बढ़ा दिया गया है. वैट को पांच प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत किया गया है, जिससे 10 हजार रुपए से ज्यादा कीमत की साइकिल, गैस-गीजर जैसी चीजें महंगी हो जाएंगी. हालांकि, जरूरत की वस्तुओं पर कर का बोझ नहीं बढ़ाया गया जो आम जनता के लिए सुकून की बात है.

    प्लास्टिक की वस्तुएं महंगी

    राज्य सरकार ने पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाने का निर्णय लिया है. ऐसे प्रोडक्ट्स जो प्लास्टिक से बने हैं उन पर कर बढ़ाकर सरकार लोगों के बीच इन चीजों के उपयोग को घटाना चाहती है. दूसरी ओर ऐसी वस्तुएं जिनसे पर्यावरण को हानी नहीं पहुंचती उन
    पर टैक्स की दरों को घटाया गया है.

    घर और जमीन खरीदना हुआ महंगा

    एमपी में अब घर का सपना देखना महंगा हो गया है. सरकार ने 2016-17 के बजट में स्टांप शुल्क भी बढ़ा दिया गया है, जिससे घर और जमीन की कीमतों में इजाफा होगा. दूसरी ओर मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत घर लेने वाले श्रमिकों को स्टांप शुल्क में छूट दी गई है.

    ऑनलाइन शॉपिंग हुई महंगी

    इन दिनों मध्यप्रदेश में भी ऑनलाइन शॉपिंग का ट्रेंड बढ़ गया है. लेकिन इससे प्रदेश सरकार को किसी तरह का कोई फायदा नहीं पहुंच रहा है, उल्टा कारोबारियों को नुकसान हो रहा है, जिससे सरकार को राजस्व में नुकसान हो रहा है.

    ऐसे में अब सरकार ने ऑनलाइन शॉपिंग पर भी टैक्स लगाने का फैसला किया है. जिस वजह से अब लोगों को घर बैठे मिल रहा सामान महंगा पड़ेगा. वहीं कीमतों में इजाफा होने पर संभवत: लोगों का रुझान एक बार फिर सीधे बाजार की ओर बढ़ेगा जिससे कारोबारियों की आय में बढ़ोतरी होगी और सराकर के राजस्व में सुधार होगा.

    600 करोड़ की आय

    कर्ज के बोझ तले दबते जा रहे मध्यप्रदेश की आर्थिक स्थिति को सहारा देने के लिए सरकार ने टैक्स का सहारा लिया है. जानकारों के अनुसार टैक्स बढ़ाने से सरकार को करीब 600 करोड़ रुपए सालाना की अतिरिक्त आय होगी. इसी को देखते हुए वित्त मंत्री ने वैट टैक्स भी बढ़ाया है जिससे कई तरह के सामान महंगे हो जाएंगे.

    इनके घटेंगे दाम

    - हैवी लोडिंग वाहनों पर एक फीसदी वैट टैक्स कम किया जाएगा
    -बायोफ्यूल और इंडक्शन चूल्हा सस्ता होगा
    - नए मल्टीप्लेक्स में मनोरंजन कर में छूट दी जाएगी
    - दूध निकालने वाली मशीन हुई सस्ती
    -38 कृषि यंत्रों को टैक्स फ्री किया गया है
    -12 टन से ज्यादा क्षमता वाले वाहन सस्ते हुए
    -बैटरी से चलने वाला रिक्शा हुआ टैक्स फ्री
    - ऑर्गेनिक पेस्टीसाइड सस्ते

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर