मध्य प्रदेश उपचुनाव 2020: कांग्रेस के लिए वोट मांगेंगे कंप्यूटर बाबा, स्टार प्रचारकों की सूची में पार्टी ने बताया सोशल वर्कर

कंप्यूटर बाबा उर्फ नामदेव दास त्यागी ने राजनीति में कदम बीजेपी सरकार में मंत्री बनने से रखा था मगर बाद में वो कांग्रेस के समर्थक बन गए (फाइल फोटो)
कंप्यूटर बाबा उर्फ नामदेव दास त्यागी ने राजनीति में कदम बीजेपी सरकार में मंत्री बनने से रखा था मगर बाद में वो कांग्रेस के समर्थक बन गए (फाइल फोटो)

कांग्रेस पार्टी ने नामदेव दास त्यागी (Namdev Das Tyagi) उर्फ कंप्यूटर बाबा (Computer Baba) को भी मध्य प्रदेश में अपना स्टार प्रचारक बनाया है. पार्टी ने अपनी इस सूची में नामदेव दास त्यागी को सोशल वर्कर बताया है. इस लिस्ट में पच्चीसवें नंबर पर उनका नाम है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 11:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मध्य प्रदेश विधानसभा की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (MP Assembly By Election 2020) के लिए कांग्रेस ने शनिवार को अपने स्टार प्रचारकों की सूची (Congress Star Campaigners List) जारी कर दी है. इस सूची में राहुल गांधी-प्रियंका गांधी समेत अन्य कांग्रेस नेताओं के अलावा एक खास व्यक्ति का नाम भी शामिल है. पार्टी ने नामदेव दास त्यागी (Namdev Das Tyagi) उर्फ कंप्यूटर बाबा (Computer Baba) को भी अपना स्टार प्रचारक बनाया है.

कांग्रेस ने अपनी सूची में नामदेव दास त्यागी को सोशल वर्कर बताया है. इस लिस्ट में पच्चीसवें नंबर पर उनका नाम है. खास बात है कि वो स्टार प्रचारकों की इस सूची में अकेले ऐसे व्यक्ति हैं जिनके नाम के आगे सोशल वर्कर लिखा हुआ है.

मध्य प्रदेश उपचुनाव में कांग्रेस के यह नेता होंगे स्टार प्रचारक
राहुल गांधी
प्रियंका गांधी


मुकुल वासनिक
कमलनाथ
अशोक गहलोत
भूपेश बघेल
दिग्विजय सिंह
नवजोत सिंह सिद्धू
सचिन पायलट
अशोक चव्हाण
रणदीप सुरजेवाला
कांतिलाल भूरिया
सुरेश पचौरी
अरुण यादव
विवेक तंखा
राजमणि पटेल
अजय सिंह
आरिफ अकील
सज्जन सिंह वर्मा
जीतू पटवारी
जयवर्धन सिंह
प्रदीप जैन
लाखन सिंह यादव
गोविंद सिंह
नामदेव दास त्यागी
आचार्य प्रमोद कृष्णा
साधना भारती
आरिफ मसूद
सिद्धार्थ कुशवाहा
कमलेश्वर पटेल

मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए कांग्रेस द्वारा जारी की गई स्टार प्रचारकों की सूची


कौन हैं नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा?

कंप्यूटर बाबा का असली नाम स्वामी नामदेव दास त्यागी है. उनका संबंध दिगंबर अखाड़ा से है और वो इंदौर के रहने वाले हैं. उन्हें यह अनोखा नाम कंप्यूटर बाबा वर्ष 1998 में नरसिंहपुर के संत द्वारा दिया गया. उन्हें कंप्यूटर बाबा इसलिए कहा जाता है क्योंकि दावा है कि उनका दिमाग कंप्यूटर की ही भांति है और उनकी याददाश्त काफी तेज है. वो अपने पास हमेशा लैपटॉप और इंटरनेट कनेक्शन के लिए वाई-फाई डोंगल रखते हैं. साथ ही बाबा को हाईटेक स्मार्टफोन और आधुनिक गैजेट्स रखने का भी शौक है.

अप्रैल 2018 में तत्कालीन शिवराज सिंह सरकार द्वारा उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया था जिसको लेकर कांग्रेस ने काफी विरोध जताया था. हालांकि बाद में कंप्यूटर बाबा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से नाराज हो गए और कांग्रेस के समर्थक बन गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज